NDTV Khabar

आम्रपाली ग्रुप के तीन निदेशकों को सुप्रीम कोर्ट ने भेजा पुलिस कस्टडी में, आदेश का पालन न करने का मामला

आदेशों की अवहेलना से नाराज सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली ग्रुप के तीन निदेशकों अनिल शर्मा, शिवप्रिय और अजय कुमार को  पुलिस बुलाकर कस्टडी में भेज दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आम्रपाली ग्रुप के तीन निदेशकों को सुप्रीम कोर्ट ने भेजा पुलिस कस्टडी में, आदेश का पालन न करने का मामला

सुप्रीम कोर्ट की फाइल फोटो.

नई दिल्ली:

आम्रपाली ग्रुप के अधूरे आवासीय प्रोजेक्ट और आदेशों की नाफरमानी के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने और सख्त रुख अपनाया है. कोर्ट ने लुका-छिपा का खेल न खेलने की नसीहत देते हुए आम्रपाली के तीन निदेशकों अनिल शर्मा, शिवप्रिय और अजय कुमार को  पुलिस बुलाकर कस्टडी में भेज दिया. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जब तक सारे दस्तावेज़ ऑडिटर्स को उपलब्ध नहीं कराते तब तक डायरेक्टर्स पुलिस हिरासत में रहेंगे.सुप्रीम कोर्ट ने बिल्डर को फटकार भी लगाई. कहा कि सुप्रीम कोर्ट के साथ ‘ हाइड एंड सीक’  ना खेले. सुप्रीम कोर्ट ने कहा बिल्डर जानबूझकर आदेशों का पालन नहीं कर रहा है. ये पूरी तरह कोर्ट की गरिमा के साथ खिलवाड़ है.

यह भी पढ़ें-SC से आम्रपाली के खरीददारों को बड़ी राहत, अब सभी अधूरे प्रोजेक्ट को NBCC करेगा पूरा


खाते सीज कर चुका है सुप्रीम कोर्ट
निवेशकों के साथ धोखाधड़ी के मामले में सुप्रीम कोर्ट आम्रपाली ग्रुप पर पहले से शिकंजा कस चुका है. अगस्त में सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कंपनी के ऑडिटर को कहा था कि वह जांच कर बताएं कि आखिर खरीददारों के 2500 करोड़ से ज्यादा रुपये कहां गए? कोर्ट ने आम्रपाली ग्रुप को फटकार लगाते हुए कहा कि इस कंपनी की कारगुजारी पूरी तरह से गलत और अनुचित थी. कोर्ट ने सभी 40 कंपनियों और निदेशकों के फ्रीज बैंक खातों की भी जानकारी मांगी है. कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि अगर मांगी गई किसी भी डिटेल में कमी हुई तो कोर्ट की अवमानना के मुकदमे के लिए तैयार रहे कंपनी. इतना ही नहीं बुधवार को कोर्ट द्वारा सभी बैंक खातों को फ्रीज करने के आदेश के बाद अगर खातों से पैसे निकाले गए तो भी कोर्ट कंपनी पर अवमानना की कार्रवाई करेगा. कोर्ट ने इस बात पर भी हैरानी जताई कि वर्ष 2015 के बाद से लेकर अब तक कंपनी का ऑडिट तक नहीं हुआ है.

यह भी पढ़ें- आम्रपाली बिल्डर्स को एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट से सुननी पड़ी खरी-खरी

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को ही आम्रपाली ग्रुप के सभी खातों को फ्रीज करने का आदेश जारी किया था.सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कंपनी के सभी डायरेक्टर के भी बैंक खातों को फ्रीज करने को कहा था.  इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट ने सभी डायरेक्टर के व्यक्तिगत सम्पत्ति को भी अटैच करने को कहा . मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली ग्रुप को कड़ी फटकार लगाई है. कोर्ट ने कहा कि आम्रपाली ग्रुप कोर्ट के साथ गंदा खेल खेल रही है. ग्रुप सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए आदेश का भी पालन नहीं कर रही. सुनवाई के दौरान कोर्ट ने अपनी कड़ी प्रतिक्रिया दर्ज कराते हुए कहा कि आम्रपाली ग्रुप से जुड़े लोग उनके सब्र का इंतहा ले रहे हैं. इस मामले में कोर्ट ने शहरी विकास मंत्रालय के सेकेट्री को भी समन जारी किया था. 

वीडियो-खरीदारों की शिकायत पर आम्रपाली ग्रुप के प्रमुख की सफाई 

 
आम्रपाली के अधूरे प्रोजेक्ट के मामले में उसके तीन डायरेक्टरों अनिल शर्मा, शिवप्रिय और अजय कुमार को  पुलिस कस्टडी में भेजा गया है. सुप्रीम कोर्ट ने इसके लिए पुलिस बुलाई. कोर्ट ने कहा कि जब तक सारे दस्तावेज़ ऑडिटर्स को उपलब्ध नहीं कराते तब तक पुलिस हिरासत में रहेंगे.

टिप्पणियां

सुप्रीम कोर्ट ने बिल्डर को लगाई फटकार और कहा कि सुप्रीम कोर्ट के साथ ‘हाइड एंड सीक’ न खेलें  सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली बिल्डर को फॉरेन्सिक ऑडिट करने के लिए दस्तावेज देने के लिए कहा था. लेकिन आदेश का पालन न करने पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताई .सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि क्यों न आपके के खिलाफ कोर्ट की अवमानना का मुकदमा चलाया जाए.

आम्रपाली से सुप्रीम कोर्ट ने कहा, बिल्डर जानबूझकर आदेशों का पालन नहीं कर रहा है. ये पूरी तरह कोर्ट की गरिमा के साथ खिलवाड़ है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement