NDTV Khabar

शशि थरूर ने लोकसभा में उठाया सवाल: बिना रोडमैप के कैसे बनेगा पांच अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था?

शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने सरकार के पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था के महत्वाकांक्षी लक्ष्य पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि आर्थिक कुप्रबंधन और बजटीय विफलता के बीच सरकार का इस लक्ष्य हो हासिल करने की क्या रूपरेखा है?

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शशि थरूर ने लोकसभा में उठाया सवाल: बिना रोडमैप के कैसे बनेगा पांच अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था?

शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने मोदी सरकार पर हमला बोला.

नई दिल्ली :

कांग्रेस नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर लोकसभा में केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला. थरूर ने सरकार के पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था के महत्वाकांक्षी लक्ष्य पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि आर्थिक कुप्रबंधन और बजटीय विफलता के बीच सरकार का इस लक्ष्य हो हासिल करने की क्या रूपरेखा है? सदन में ‘वर्ष 2019-20 के लिए अनुदान की पूरक मांगें-प्रथम बैच' पर चर्चा की शुरुआत करते हुए शशि थरूर ने कहा कि आर्थिक विकास से जुड़े आंकड़ों में गिरावट इस बात का प्रमाण है कि सरकार अर्थव्यवस्था को संभाल पाने में नाकाम रही है. उन्होंने जीडीपी में गिरावट और राजस्व में कमी का हवाला देते हुए कहा कि सरकार को अब सुधार करना चाहिए और देश को सही दिशा में आगे ले जाना चाहिए.

गिरती अर्थव्यवस्था को लेकर शत्रुघ्न सिन्हा ने पीएम मोदी पर साधा निशाना, Tweet कर बोले- सर कभी तो बोलिए...


थरूर ने कहा कि मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली सरकार में औसत विकास दर सात फीसदी से अधिक थी, लेकिन इस सरकार में यह गिरकर 4.5 फीसदी पहुंच गई है. उन्होंने यह आरोप लगाया कि इस सरकार के आने के बाद तीन करोड़ नए लोग गरीबी रेखा के नीचे आ गए. कांग्रेस नेता ने कहा कि पहले के वित्त मंत्री ने बजट के संदर्भ में बहुत सारी घोषणाएं कीं थीं, लेकिन सरकार लक्ष्य पूरा करने में विफल रही.

गिरती GDP पर बीजेपी सांसद ने रामायण और महाभारत का दिया उदाहरण, तो ऋचा चड्ढा ने यूं साधा निशाना

टिप्पणियां

उन्होंने कहा कि इस सरकार के शासनकाल में बेरोजगारी बढ़कर 8.4 फीसदी तक पहुंच गई है, ऑटो क्षेत्र बुरी हालत में है और दूसरे सभी क्षेत्रों में गिरावट है. सरकार का आर्थिक कुप्रबंधन और बजट संबंधी विफलता साफ दिख रही है. भाजपा सांसद निशिकांत दुबे के जीडीपी संबंधी एक बयान का हवाला देते हुए थरूर ने तंज किया कि अब तय करना चाहिए कि प्रधानंत्री नरेंद्र मोदी और दूबे में से कौन बड़ा अर्थशास्त्री है.हालांकि बाद में दुबे ने प्रतिवाद करते हुए कहा कि उन्होंने कुछ अर्थशास्त्रियों का इस संदर्भ में हवाला देते हुए कहा था कि पूरी दुनिया में जीडीपी पर प्रश्नचिन्ह है.

VIDEO: गिरती GDP पर बयानबाजी हुई तेज, सरकार ने ठीकरा वैश्विक मंदी पर फोड़ा



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


Advertisement