NDTV Khabar

महात्मा गांधी की 150वीं जयंती को लेकर आयोजित बैठक में नहीं पहुंचे सोनिया, राहुल और CJI

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती मनाने के तरीकों पर चर्चा के लिये आयोजित बैठक में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा शामिल नहीं हुए.

234 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
महात्मा गांधी की 150वीं जयंती को लेकर आयोजित बैठक में नहीं पहुंचे सोनिया, राहुल और CJI

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती मनाने के तरीकों पर चर्चा के लिये राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अध्यक्षता में हुई बैठक

खास बातें

  1. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अध्यक्षता में हुई बैठक
  2. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती मनाने के तरीकों पर हुई चर्चा
  3. प. बंगाल, बिहार, यूपी समेत कुल 23 मुख्यमंत्रियों नेे हिस्‍सा लिया
नई दिल्ली :

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती मनाने के तरीकों पर चर्चा के लिये राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा शामिल नहीं हुए.

'जन आक्रोश रैली' में राहुल ने भरी हुंकार, कहा- कांग्रेस का कार्यकर्ता शेर का बच्चा है, 2019 में हमारी जीत होगी

सरकारी सूत्रों ने बताया कि राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी उन लोगों में शामिल थे जिन्होंने ‘राष्ट्रीय समिति’ की पहली बैठक में हिस्सा लिया.  बैठक में पश्चिम बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश, जम्मू कश्मीर, तमिलनाडु, पुडुचेरी, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ समेत कुल 23 मुख्यमंत्रियों ने हिस्सा लिया. इस बैठक में इस अवसर पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम की रूपरेखा पर चर्चा की गई. यह समारोह इस साल दो अक्तूबर को शुरू होगा.

बैठक की अध्यक्षता करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि गांधी का अहिंसा का सिद्धांत आज भी बेहद प्रासंगिक है जब दुनिया आतंकवाद और अन्य तरह की हिंसा का सामना कर रही है.  कोविंद ने कहा, ‘महात्मा गांधी भारत की आत्मा की आवाज थे. महात्मा हमारा अतीत , वर्तमान और भविष्य हैं.’ सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री ने कहा कि राष्ट्र को अगले साल महात्मा गांधी की जयंती ‘काम के जरिये’ मनाना चाहिये और प्रतीकात्मक रूप से नहीं मनाना चाहिये.


BJP सांसद का बड़ा आरोप, कहा- सोनिया गांधी ईसाई मिशनरी के इशारे पर ही काम करती हैं

पीएम मोदी ने कहा कि गांधी की कृतियों को जीवन में आत्मसात किया जाना चाहिये ताकि आने वाली पीढ़ियां उन्हें याद करें और समारोह ‘जनांदोलन’ के रूप में होना चाहिये.  बैठक के बाद मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘महात्मा गांधी ने देश के लिये अपने प्राण न्योछावर किए. उन्होंने एक आंदोलन का नेतृत्व किया जिससे हमारी पीढ़ियां स्वतंत्रता की वायु में सांस ले सकें और जीवंत लोकतंत्र में रह सकें.’  उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘हमें इस बात को सुनिश्चित करना चाहिये कि दुनिया में अधिक से अधिक लोग बापू की महानता को जानें.’ 

सोनिया गांधी ने अनंत कुमार पर साधा निशाना, कहा- 'झूठा', जानिए क्या है कारण

टिप्पणियां

सूत्रों के अनुसार आजाद ने बैठक में कहा कि स्कूलों में अहिंसा पर आधारित पाठ्यक्रम होना चाहिये और निर्भीक पत्रकारिता के लिये उन्होंने एक पुरस्कार का प्रस्ताव दिया. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि उनका मंत्रालय दुनिया के 193 देशों में कार्यक्रम आयोजित करने की योजना बना रहा है और विभिन्न स्थानों पर एक साझा कार्यक्रम आयोजित होगा. जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने गांधीजी की 150 वीं जयंती को शांति और सुलह के वर्ष के रूप में मनाने का प्रस्ताव दिया. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि उन्होंने गांधी के संदेश को राज्य के हर घर तक पहुंचाने के लिये ‘बापू आपके द्वार’ कार्यक्रम पहले ही शुरू किया है. 

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement