NDTV Khabar

सूरत: धूं-धूं कर जलती हुई इमारत में फरिश्ता बनकर आए इस शख्स ने बचाई थीं कई जिंदगियां, सोशल मीडिया पर मिल रहीं दुआएं

सूरत में एक इमारत में लगी आग की वजह से 22 छात्र-छात्राओं की मौत हो गई. ऐसे में एक शख्स ने इमारत में घुसने की हिम्मत दिखाई और 10 स्टूडेंट्स की जान बचाई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सूरत: धूं-धूं कर जलती हुई इमारत में फरिश्ता बनकर आए इस शख्स ने बचाई थीं कई जिंदगियां, सोशल मीडिया पर मिल रहीं दुआएं

केतन जोरावाडिया

खास बातें

  1. सूरत में लगी आग से केतन जोरावाडिया ने बचाई 10 स्टूडेंट्स की जान
  2. आग लगने के 40-45 मिनट बाद पहुंची थी फायर बिग्रेड की गाड़ी
  3. फायर बिग्रेड के लोगों के पास नहीं थे जान बचाने के लिए जरूरी साधन
सूरत:

सूरत में एक इमारत में लगी आग की वजह से 22 छात्र-छात्राओं की मौत हो गई. ऐसे में एक शख्स ने इमारत में घुसने की हिम्मत दिखाई और 10 स्टूडेंट्स की जान बचाई. इस शख्स का नाम केतन जोरावाडिया है. केतन ने एएनआई को बताया, 'वहां काफी धुंआ था, मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं. एक लड़की आग से बचने के लिए भागते हुए मेरे सामने ही गिरी थी.' इस घटना ने केतन को काफी दुख पहुंचाया और उसने कुछ करने का फैसला किया. केतन ने बताया, 'मैंने सीढ़ी निकाली और सबसे पहले बच्चों को बाहर निकालने के लिए मदद की. मैंने इमारत के पिछले हिस्से से 8 से 10 बच्चों को बाहर निकाला. इसके बाद मैंने 2 और बच्चों की जान बचाई. मैंने उतने बच्चों की जान बचाई, जितनी मैं बचा सकता था.' केतन के बारे में सोशल मीडिया पर लोग खूब लिख रहे हैं और उन्हें दुआएं दे रहे हैं. हालांकि केतन को इस बात का पछतावा है कि वह और ज्यादा बच्चों की जान नहीं बचा पाए.

ये भी पढ़ें: सूरत में 22 स्टूडेंट्स की मौत पर बोले सीएम विजय रूपाणी- पूरे गुजरात में होगा फायर सेफ्टी ऑडिट


केतन ने बताया, 'आग लगने के 40-45 मिनट बाद फायर बिग्रेड की गाड़ी पहुंची थी. उन्होंने पार्किंग में भी समय लिया. फायर बिग्रेड के लोगों के पास संतोषजनक चीजें नहीं थी. अगर उनके पास जाल होता तो कुछ बच्चे उस पर कूदकर अपनी जान बचा सकते थे.' हालांकि आम जनता का कहना है कि केतन जोरावाडिया उन लोगों के लिए हीरो है जिनकी उसने जान बचाई. गौरतलब है कि गुजरात के सूरत (Surat) के सरथाना इलाके में स्थित तक्षशिला कॉम्प्लेक्स (Takshila) की दूसरी मंजिल पर लगी भीषण आग में 22 लोगों की मौत हो गई. जिस फ्लोर पर आग लगी वहां कोचिंग सेंटर चल रहा था.

टिप्पणियां

ये भी पढ़ें: Surat Fire: सूरत के तक्षशिला कॉम्प्लेक्स में भीषण आग, 20 की मौत, कइयों ने जान बचाने के लिए लगाई छलांग

आग से बचने के लिए कोचिंग सेंटर में पढ़ने वाले कुछ छात्रों ने ऊपर से छलांग लगा दी, जिन्हें गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया. गुजरात सरकार ने मरने वालों के परिजनों को 4-4 लाख रुपये की सहायता राशि का ऐलान किया गया है. पीएम मोदी (PM Modi) ने भी घटना पर दुख जताया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने भी घटना पर दुख जताते हुए ट्वीट किया, सूरत में हुई इस त्रासदी से बेहद आहत हूं. मेरी संवेदनाएं पीड़ित परिवारों के साथ हैं. प्रार्थना करता हूं कि हादसे में घायल लोग जल्‍द स्‍वस्‍थ हों.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement