NDTV Khabar

मिदनापुर में PM की रैली में गिरे टेंट के लिए 'ममता सरकार जिम्मेदार', 5 किलोमीटर तक कोई पुलिसवाला भी नहीं था

पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में पीएम मोदी की रैली के दौरान टेंट गिरने की घटना पर केंद्र की रिपोर्ट आ गई है. रिपोर्ट में हादसे के लिए ममता सरकार को ज़िम्मेदार ठहराया गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मिदनापुर में PM की रैली में गिरे टेंट के लिए 'ममता सरकार जिम्मेदार', 5 किलोमीटर तक कोई पुलिसवाला भी नहीं था

17 जुलाई को पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में हुए पीएम की रैली के दौरान पंडाल गिरने से कम से कम 90 लोग घायल हुए थे.

खास बातें

  1. केंद्रीय रिपोर्ट में ममता सरकार पर आरोप
  2. पांच किमी तक नहीं था कोई पुलिसवाला
  3. SPG को नहीं दिए गए संसाधन: जांच रिपोर्ट
नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में पीएम मोदी की रैली के दौरान टेंट गिरने की घटना पर केंद्र की रिपोर्ट आ गई है. रिपोर्ट में हादसे के लिए ममता सरकार को ज़िम्मेदार ठहराया गया है. रिपोर्ट में ऐसी बातें सामने आई हैं कि पीएम की सुरक्षा में कई दरारें थीं. जांच रिपोर्ट में कहा गया कि रैली स्थल के पांच किलोमीटर तक पुलिस नहीं थी, साथ ही एसपीजी को भी पूरी मदद नहीं मिली.

यह भी पढ़ें : PM मोदी की रैली में पंडाल ढहने के मामले में डेकोरेटर ने खुद को बेगुनाह बताया, कहा बनाया जा रहा है 'बलि का बकरा'

केंद्रीय गृह सचिव राजीव गौबा ने NDTV को कंफर्म किया कि एसके सिन्हा की जांच कमेटी ने मंत्रालय को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. बता दें कि 17 जुलाई को पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में हुए पीएम की रैली के दौरान पंडाल गिरने से कम से कम 90 लोग घायल हुए थे. गृह सचिव हालांकि रिपोर्ट की संवेदनशील प्रकृति को देखते हुए उसके निष्कर्षों पर बात करने से इनकार कर दिया. 

यह भी पढ़ें : PM मोदी की रैली में गिरा पंडाल का एक हिस्सा, घायलों से मिलने अस्पताल पहुंचे प्रधानमंत्री

सरकारी सूत्रों ने एनडीटीवी को बताया कि जांच रिपोर्ट में बंगाल सरकार को कई मामलों पर दोषी ठहराया गया है. जांच रिपोर्ट के अनुसार टेंट की ठीक से जांच नहीं हुई. टेंट के खंबों में चार स्क्रू की जगह एक स्क्रू लगे थे और पाइपों में कई जगह जंग भी लगा था. रिपोर्ट में यह बात भी कही गई है कि राज्य सरकार ने ब्लू बुक फॉलो नहीं की. इसके अलावा यह भी बात सामने आई है कि SPG को संसाधन नहीं दिए गए. 

टिप्पणियां
VIDEO : पीएम मोदी की रैली में पंडाल का एक हिस्सा गिरा 


रिपोर्ट में कहा गया कि मिदनापुर में जब PM मोदी रैली को संबोधित कर रहे थे तब पांच किमी तक कोई पुलिसवाला नहीं था. यही नहीं जो पोल थे उसपर लोग चढ़ गए थे, उसे उतारने वाला भी कोई नहीं था. हालांकि कि रोचक बात यह है कि ममता सरकार ने पुलिस और स्टेट प्रशासन को क्लिनचीट दे दी है. ममता का कहना है कि पीएम की सुरक्षा की पूरी जिम्मेदारी एसपीजी (SPG) की होती है न की लोकल पुलिस की. हालांकि एसपीजी इस दावे पर बहस कर रही है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement