विकास दुबे के एनकाउंटर की पहले से थी आशंका, सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका भी दायर हुई थी

जनहित याचिका में विकास दुबे मामले की सीबीआई/एसआईटी जांच कराने की मांग, याचिका में एनकाउंटर किए जाने की आशंका जाहिर की गई थी

विकास दुबे के एनकाउंटर की पहले से थी आशंका, सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका भी दायर हुई थी

कानपुर के अपराधी विकास दुबे की एनकाउंटर में मौत हो गई. घटना स्थल की फाइल फोटो.

नई दिल्ली:

विकास दुबे (Vikas Dubey) मामले की सीबीआई/एसआईटी जांच कराने की जनहित याचिका पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में मंगलवार को सुनवाई हो सकती है. सीजेआई एसए बोबडे की बेंच इस मामले की सुनवाई कर सकती है. याचिका में यूपी पुलिस (UP Police) की भूमिका की जांच की मांग की गई है. हालांकि याचिका मुठभेड़ (Encounter) से पहले देर रात दायर की गई थी. उसमें विकास दुबे का भी एनकाउंटर किए जाने की आशंका जाहिर की गई थी. 

मुंबई के वकील घनश्याम उपाध्याय ने याचिका दायर की है. याचिका में कहा गया है कि मीडिया रिपोर्ट से लग रहा है कि विकास दुबे ने महाकाल मंदिर में गार्ड को खुद ही जानकारी दी. मध्यप्रदेश पुलिस को खुद ही गिरफ्तारी दी ताकि मुठभेड़ से बच सके. 

Newsbeep

याचिका में आशंका जताई गई थी कि यूपी पुलिस विकास का एनकाउंटर कर सकती है. इस मामले में कुल चार याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हो चुकी हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि कानपुर के कुख्यात अपराधी विकास दुबे की मध्यप्रदेश के उज्जैन में गिरफ्तारी के बाद उसे यूपी पुलिस को सौंप दिया गया था. यूपी पुलिस जब उसे साथ लेकर कानपुर जा रही थी तब कानपुर के करीब कथित रूप से पुलिस का वाहन पलट गया. इस दौरान विकास दुबे ने भागने की कोशिश की और कथित रूप से पुलिस पर फायरिंग की जिसके बाद पुलिस ने उसे मार गिराया.