'घर वापसी' के बाद कार्यकर्ताओं के हक में बोले सचिन पायलट- पार्टी को सोचना चाहिए कि...

कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने बुधवार को कहा कि यह पार्टी नेतृत्व को तय करना है कि किसे संगठन में काम करना है और किसे सरकार में काम करना है.

'घर वापसी' के बाद कार्यकर्ताओं के हक में बोले सचिन पायलट- पार्टी को सोचना चाहिए कि...

सचिन पायलट ने अब कार्यकर्ताओं के हक की बात की. (फाइल फोटो).

जयपुर :

कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने बुधवार को कहा कि यह पार्टी नेतृत्व को तय करना है कि किसे संगठन में काम करना है और किसे सरकार में काम करना है. पायलट ने कहा, 'पार्टी अध्यक्ष, महासचिव और प्रभारी, कमेटी के सदस्य सब लोग चर्चा करेंगे कि कहां पर किसको इस्तेमाल करना है यह अंतिम निर्णय पार्टी का होता है कि कौन सत्ता में काम करे और कौन संगठन में काम करे.' पायलट को पिछले महीने पार्टी का व्हिप नहीं मानने पर कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री पद से हटा दिया गया था. पायलट टोंक में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर रहे थे. उन्होंने यहां पर कहा कि 'नेताओं और कार्यकर्ताओं के बीच में समन्वय होना चाहिए, कार्यकर्ताओं ने ही पार्टी को सत्ता में लाने के लिए काम किया है और हमें सोचना चाहिए कि कार्यकर्ताओं के लिए क्या किया जा सकता है.'

उन्होंने कहा कि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की तीन सदस्यीय समिति का गठन हुआ है और वो अपने आप चर्चा करके निर्णय करेगी और सभी मुद्दों को सुलझा लिया जायेगा. पायलट ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा,‘‘ मैं कांग्रेस अध्यक्ष को धन्यवाद देना चाहता हूं कि उन्होंने बहुत जल्द हमारी मांग पर कार्रवाई की है और जल्द ही इसको लेकर सकारात्मक नतीजे दिखने लगेंगे. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की तीन सदस्यीय कमेटी का गठन हुआ है और वो अपने आप चर्चा करके निर्णय करेगी कैसे उनको काम करना है.''

यह भी पढ़ें: ज्‍योतिरादित्‍य सिंध‍िया की दो टूक, 'कांग्रेस में का‍बिल नेताओं की कद्र नहीं, सचिन पायलट ने भी...'

उन्होंने कहा , ‘‘जो हमें कहना सुनना है वो पार्टी के मंच पर उस कमेटी के माध्यम से आलाकमान तक बात पहुंचायेंगे और उसके बाद जो रोडमेप उन्होंने तैयार किया है उस पर जल्द कदम उठाए जाएंगे.'' मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व का विरोध करने और पार्टी के व्हिप का उल्लंघन करने वाले पायलट और 18 अन्य कांग्रेस विधायकों के बागी होने के बाद एक महीने के राजनीति संकट के बाद पिछले सप्ताह पार्टी ने तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया था.

कांग्रेस विधायक पायलट ने राजस्थान के नव नियुक्त प्रभारी और एआईसीसी के महासचिव अजय माकन से सोमवार को दिल्ली में मुलाकात की थी. उन्होंने कहा कि सभी काम पार्टी और सरकार के बीच समन्वय के साथ होना चाहिए. पार्टी अध्यक्ष, महासचिव और प्रभारी , कमेटी के सदस्य सब लोग चर्चा करेंगे कि कहां पर किसको इस्तेमाल करना है यह अंतिम निर्णय पार्टी का होता है कि कौन सत्ता में काम करे और कौन संगठन में काम करे. कमेटी के माध्यम से सब मामलों पर चर्चा की जायेगी और सब समस्याओं का समाधान भी निकलेगा इसी कमेटी के माध्यम से.

यह भी पढ़ें:पायलट की वापसी के बाद बड़ा फेरबदल, राजस्थान के प्रभारी महासचिव से अविनाश पांडे की छुट्टी 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

टोंक में अपने विधानसभा क्षेत्र के लिये निकले पायलट ने कहा , ‘‘हमेशा जनता के बीच में रहकर अपने आप को खुश महसूस करता हूं. जनता ने हर स्थिति में बहुत समर्थन दिया है इसलिये लोगो के साथ रहकर उनका दुख दर्द बांट सके.. उनका काम हो सके. सरकार कांग्रेस पार्टी की है राजस्थान में.. उनके काम और अधिक हो सके.. उनकी भागीदारी सुनिश्चित हो सके इस दिशा में हम लोगो ने हमेशा काम किया है.''

राजस्थान में कांग्रेस ने बनाई तीन सदस्यीय कमेटी