NDTV Khabar

दिल की सर्जरी से गुजरने वाले बच्चों में बहरेपन का खतरा, आईक्यू लेवल भी खराब

बहरेपन के दूसरे सामान्य कारकों में 37 हफ्ते से कम की प्रेग्नेंसी में आनुवांशिक विकृति शामिल है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल की सर्जरी से गुजरने वाले बच्चों में बहरेपन का खतरा, आईक्यू लेवल भी खराब

शिशुओं में दिल की शल्य चिकित्सा से बहरेपन का खतरा

खास बातें

  1. 21 फीसदी बच्चों को बहरेपन का खतरा
  2. सामान्य आबादी के बहरेपन की तुलना में 20 गुना ज्यादा
  3. चार साल की उम्र के बाद दिखते हैं लक्षण
नई दिल्ली:

दिल की बीमारी से पीड़ित छोटे बच्चों को लेकर एक रिसर्च सामने आई है. इसके मुताबिक हार्ट सर्जरी से गुजरने वाले बच्चों में बहरेपन का खतरा हो सकता है. वहीं, इसके साथ ही ऐसे शिशुओं में चार साल की उम्र में भाषा कौशल और आईक्यू खराब होने के भी संकेत मिले हैं. 

एग्जाम के दौरान बच्चों को पिलाएं ये 5 ड्रिंक्स, बढ़ेगी दिमागी शक्ति और कम होगा स्ट्रेस

शोधकर्ताओं ने पाया है कि दिल की शल्य चिकित्सा से जीवित बचे 348 प्री-स्कूली बच्चों में से करीब 21 फीसदी बच्चों को बहरेपन का सामना करता पड़ता है. सामान्य आबादी के बीच फैले बहरेपन की तुलना में यह दर 20 गुना ज्यादा है.

क्या आपका बच्चा भी शर्माता हैं? मार-पीटकर नहीं इस तरह से बनाएं Smart


इस अध्ययन का प्रकाशन जर्नल ऑफ पिडियाट्रिक्स में किया गया है. इसमें शोधकर्ताओं ने बच्चों के तंत्रिका विकास के परिणाम का विश्लेषण किया है. इसमें कुल 75 बच्चों में बहरेपन की समस्या पाई गई.

बहरेपन के दूसरे सामान्य कारकों में 37 हफ्ते से कम की प्रेग्नेंसी में आनुवांशिक विकृति शामिल है.

प्रेग्नेंसी के दौरान इस 1 चीज़ की कमी, आपके बच्चे को दे सकती है मोटापा

शोधकर्ताओं ने पाया कि बहरेपन की समस्या वाले बच्चों में भाषा कौशल, संज्ञानात्मक (आईक्यू जांच) व कार्यकारी कार्य व ध्यान में कमी देखी गई.

INPUT - IANS

टिप्पणियां

देखें वीडियो - आपका बच्चा बुलिंग का तो शिकार नहीं!​


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement