NDTV Khabar

...जब दिग्विजय सिंह को मिल गया 15 लाख रुपये पाने वाला शख्स, मंच पर बुलाया और फिर हो गई बोलती बंद, देखें VIDEO

दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) के साथ भोपाल (Bhopal) में एक चुनावी कार्यक्रम के दौरान ऐसा वाक्या हुआ कि उनकी बोलती बंद हो गई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भोपाल:

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) को लेकर सभी पार्टियों की तैयारी जोरों पर है. आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी लगातार जारी है. इन सबके के बीच पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) के साथ एक ऐसा वाकया हुआ कि उनकी बोलती बंद हो गई. दरअसल, चुनाव प्रचार के लिए भोपाल (Bhopal Seat) के बैरसिया पहुंचे दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh News) ने मंच से पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए पूछा कि किसी के खाते में 15 लाख रुपये आए क्या? दिग्विजय सिंह ने जब तीन-चार बार यही सवाल दोहराया तो एक लड़के ने भीड़ में से हाथ उठाया. इसके बाद वरिष्ठ कांग्रेस नेता और भोपाल से कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) ने उसे मंच पर बुलाया. उन्होंने उससे कहा कि यहां आ जाओ और अपना अकाउंट नंबर लेकर आना. यहां आओ हम तुम्हारा नागरिक अभिनंदन करेंगे.


कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह रात को मजार पर क्यों गए? BJP ने वीडियो ट्वीट कर पूछा सवाल

इसके बाद जैसे ही वह लड़का मंच पर आया उसने सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर पीएम मोदी का गुनगान करना शुरू कर दिया. इसके बाद तो दिग्विजय सिंह का चेहरा देखने लायक था. लड़का मंच पर आया और माइक मिलते ही कहना शुरू किया कि 'मोदी जी ने सर्जिकल स्ट्राइक कर आतंकियों को मारा'. इसके बाद पार्टी नेता ने उस लड़के को मंच से नीचे ले गए.

दिग्विजय सिंह VS प्रज्ञा ठाकुर : भोपाल लोकसभा सीट पर किसका दावा कितना मजबूत

बता दें कि कांग्रेस ने दिग्विजय सिंह को भोपाल से उम्मीदवार बनाया है. भोपाल सीट पर दिग्विजय सिंह का मुकाबला बीजेपी की साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर से होगा. बता दें कि मध्यप्रदेश में 12 मई को चुनाव होने हैं. भोपाल संसदीय क्षेत्र के इतिहास पर नजर दौड़ाई जाए तो पता चलता है कि वर्ष 1984 के बाद से यहां भाजपा का कब्जा है. भोपाल संसदीय क्षेत्र में अब तक हुए 16 चुनाव में कांग्रेस को छह बार जीत हासिल हुई है.

दिग्विजय सिंह VS प्रज्ञा ठाकुर : भोपाल लोकसभा सीट पर किसका दावा कितना मजबूत

भोपाल संसदीय क्षेत्र में साढ़े 19 लाख मतदाता है, जिसमें चार लाख मुस्लिम, साढ़े तीन लाख ब्राह्मण, साढ़े चार लाख पिछड़ा वर्ग, दो लाख कायस्थ, सवा लाख क्षत्रिय वर्ग से हैं. मतदाताओं के इसी गणित को ध्यान में रखकर कांग्रेस ने दिग्विजय सिंह को मैदान में उतारा था, मगर भाजपा ने प्रज्ञा ठाकुर को उम्मीदवार बनाकर ध्रुवीकरण का दांव खेला है. 

मंत्री ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से कहा- 'बूथ जिताओ-नौकरी पाओ', बीजेपी जाएगी चुनाव आयोग

भोपाल संसदीय क्षेत्र में विधानसभा की आठ सीटें आती हैं. लगभग चार माह पहले हुए विधानसभा के चुनाव में भाजपा ने आठ में से पांच और कांग्रेस ने तीन सीटें जीती. लिहाजा सरकार में बदलाव के बाद भी भोपाल संसदीय क्षेत्र के विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा को कांग्रेस के मुकाबले ज्यादा सफलता मिली थी. दिग्विजय सिंह भी प्रज्ञा की उपस्थिति से सियासी माहौल में आने वाले बदलाव को पहले ही भांप गए थे, यही कारण है कि उन्होंने प्रज्ञा का स्वागत करते हुए एक वीडियो संदेश जारी किया था. सिंह स्वयं जहां खुलकर प्रज्ञा पर हमला करने से बच रहे हैं, वहीं कार्यकर्ताओं को भी इसी तरह की हिदायतें दे रहे हैं. सिंह को यह अहसास है कि मालेगांव बम धमाके और प्रज्ञा पर सीधे तौर पर कोई हमला होता है तो चुनावी दिशा बदल सकती है. सिंह भोपाल के विकास का रोड मैप और अपने कार्यकाल में किए गए कामों का ब्योरा दे रहे हैं.

टिप्पणियां

मध्यप्रदेश में 29 सीटें, चार चरण मतदान
29 अप्रैल: सीधी, शहडोल, जबलपुर, मंडला, बालाघाट, छिंदवाड़ा
6 मई: टीकमगढ़, दमोह, खजुराहो, सतना, रीवा, होशंगाबाद, बैतूल
12 मई: मुरैना, भिंड, ग्वालियर, गुना, सागर, विदिशा, भोपाल, राजगढ़
19 मई: देवास, उज्जैन, मंदसौर, रतलाम, धार, इंदौर, खरगोन, खंडवा

VIDEO: भोपाल सीट पर दिग्विजय सिंह का मुकाबला साध्वी प्रज्ञा से


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement