NDTV Khabar

लोकसभा चुनाव 2019 : राजनीतिक मुखरता के प्रतीक बिहार में 40 सीटों पर रस्साकसी

भारी जातिवाद के प्रभाव वाले बिहार में कुल 40 लोकसभा सीटें, 34 अनारक्षित और छह सीटें आरक्षित, मुकाबला दो गठबंधनों के बीच

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकसभा चुनाव 2019 : राजनीतिक मुखरता के प्रतीक बिहार में 40 सीटों पर रस्साकसी

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. बिहार में 69738208 कुल मतदाता
  2. पुरुष मतदाताओं की संख्या 36958241
  3. 32777668 महिला मतदाता और 2299 थर्ड जेंडर
नई दिल्ली:

राजनीतिक रूप से हमेशा अहम रहे बिहार में लोकसभा की 40 सीटें हैं. इस लिहाज से यह राज्य उत्तरप्रदेश (यूपी) और महाराष्ट्र के बाद तीसरे नंबर पर है. भारी जातिवाद के प्रभाव वाले इस राज्य में इस लोकसभा चुनाव (Loksabha Elections 2019) में दो गठबंधनों के बीच मुख्य मुकाबला है. इसमें से एक राज्य में सत्तारूढ़ जनता दल यूनाईटेड (JDU) -भारतीय जनता पार्टी (BJP) और इसके सहयोगी दलों का है और दूसरा विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (RJD)-कांग्रेस (Congress) और इसके सहयोगी दलों का गठबंधन है.      

बिहार में कुल 40 लोकसभा सीटें हैं जिनमें से 34 अनारक्षित और छह सीटें आरक्षित हैं. इन सीटों में औरंगाबाद, गया, नवादा, जमुई सीट, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, भागलपुर, बांका, झंझारपुर, सुपौल, अररिया, मधेपुरा, खगड़िया, दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर, बेगूसराय, मुंगेर, सीतामढ़ी, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सारन, हाजीपुर, वाल्मीकिनगर, पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, शिवहर, वैशाली, गोपालगंज, सिवान, महाराजगंज, नालंदा, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, सासाराम, काराकट, जहानाबाद शामिल हैं. बिहार में राज्यसभा की 16 सीटें हैं. बिहार विधानसभा में सदस्यों की संख्या 243  और विधान परिषद की सदस्य संख्या 75 है.

यह भी पढ़ें : बिहार : एनडीए के बीच हुआ सीटों का बंटवारा, जानिए किस सीट पर लड़ेगी कौन पार्टी


बिहार में कुल मतदाताओं की संख्या करीब सात करोड़ (69738208) है. इसमें 36958241 पुरुष, 32777668 महिला और 2299 थर्ड जेंडर मतदाता हैं. यहां की राजनीतिक पार्टियों में जनता दल यूनाइटेड (जदयू), भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी), लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के अलावा कांग्रेस, माकपा, भाकपा, भाकपा (माले) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) शामिल हैं. इसके अलावा कई क्षेत्रीय दल भी हैं.

बिहार के राजनीतिज्ञ हमेशा से भारतीय राजनीति में अहम भूमिका निभाते रहे हैं. इस राज्य में फिलहाल आरजेडी के संस्थापक लालू प्रसाद यादव, इस पार्टी के अध्यक्ष और लालू यादव के पुत्र तेजस्वी यादव, जेडीयू के अध्यक्ष और सीएम नीतीश कुमार, रामविलास पासवान, शरद यादव, उपेंद्र कुशवाहा, सैयद शाहनवाज हुसैन, केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद, रीता वर्मा, शकील अहमद, राजीव प्रताप रूडी आदि शामिल हैं.     

बिहार की जनसंख्या 103,804,637 है, जिसमें पुरुषों की संख्या 54,185,347 और महिलाओं की संख्या 49,619,290 है. जनसंख्या की दृष्टि से बिहार भारत में तीसरे स्थान पर है. पहले स्थान पर उत्तर प्रदेश है जबकि दूसरे स्थान पर महाराष्ट्र है. बिहार में हिंदू धर्म मानने वाले सबसे अधिक लगभग 82.77 फीसदी हैं. दूसरे स्थान पर इस्लाम धर्म मानने वाले लोग हैं जिनका प्रतिशत 17.04 है. बिहार की आबादी में ओबीसी 51 प्रतिशत और दलित व महादलित जनसंख्या लगभग 16 प्रतिशत है.

यह भी पढ़ें : बिहार एनडीए में सीटों का बंटवारा - नीतीश ने क्या ज़्यादा राजनीतिक रिस्क लिया है?

करीब 99200 वर्ग किलोमीटर में फैले देश के पूर्वी हिस्से के राज्य बिहार की राजधानी पटना है. बिहार के उत्तर में नेपाल, पूर्व में पश्चिम बंगाल, पश्चिम में उत्तर प्रदेश और दक्षिण में झारखंड स्थित है. बिहार का इतिहास बहुत प्राचीन है. यहां ईसा से करीब 2000 साल पहले की सभ्यता के प्रमाण मिले हैं. छपरा से 11 किलोमीटर दूर स्थित सारण जिले का चिरांद यहां का सबसे महत्वपूर्ण पुरातत्व स्थल है जो कि 2000 ईसा पूर्व का है.

बिहार नाम का प्रादुर्भाव बौद्ध सन्यासियों के ठहरने के स्थान 'विहार' शब्द से हुआ. विहार के स्थान पर इसका अपभ्रंश 'बिहार' प्रचलित हो गया. यह क्षेत्र गंगा नदी तथा उसकी सहायक नदियों के उपजाऊ मैदानों में बसा है. प्राचीन काल के विशाल साम्राज्यों के गढ़ रहे इस प्रदेश से सन 1936 में ओडिशा और 15 नवंबर 2000 में झारखंड अलग हो गया.

सन 1905 में बंगाल का विभाजन होने पर बिहार राज्य अस्तित्व में आया था. बाद में 1936 में ओडिशा इससे अलग कर दिया गया. स्वतंत्रता संग्राम के दौरान बिहार के चंपारण के विद्रोह को, अंग्रेजों के खिलाफ बगावत फैलाने में महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक गिना जाता है. भारत छोड़ो आंदोलन में भी बिहार की गहन भूमिका रही.

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें : बिहार महागठबंधन सीट बंटवारे पर वामपंथी दल हुए नाराज, कहा- दिल्ली में बैठकर नहीं हो सकता सीटों का बंटवारा

बिहार में हिंदी, अंगिका, भोजपुरी, मगही, उर्दू और मैथिली प्रमुख भाषाएं हैं. यहां की संस्कृति मगध, अंग, मिथिला तथा वज्जी संस्कृतियों का मिश्रण है. नगरों तथा गांवों की संस्कृति में अधिक फर्क नहीं है. बिहार में प्रशासनिक व्यवस्था के तहत 9 प्रमंडल तथा 38 मंडल (जिला) हैं. बिहार में नगर निगमों की संख्या 12, नगर परिषदों की संख्या 49 और नगर पंचायतों की संख्या 80 है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement