NDTV Khabar

मध्यप्रदेश : कांग्रेस नेत्री हिमाद्री सिंह बीजेपी में हुईं शामिल, शहडोल से मिल सकता है टिकट

शहडोल लोकसभा सीट पर 2016 में हुए उपचुनाव में कांग्रेस की हिमाद्री सिंह बीजेपी के प्रत्याशी ज्ञान सिंह से पराजित हो गई थीं

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मध्यप्रदेश : कांग्रेस नेत्री हिमाद्री सिंह बीजेपी में हुईं शामिल, शहडोल से मिल सकता है टिकट

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की नेत्री हिमाद्री सिंह को बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने पार्टी की सदस्यता दिलाई.

खास बातें

  1. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने हिमाद्री को पार्टी की सदस्यता दिलाई
  2. शहडोल संसदीय सीट अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लिए आरक्षित
  3. शहडोल लोकसभा सीट पर बीजेपी से सबसे ज्यादा चुनाव जीते
भोपाल:

मध्यप्रदेश की कांग्रेस की नेत्री हिमाद्री सिंह आज बीजेपी में शामिल हो गईं. शहडोल लोकसभा सीट पर 2016 में हुए उपचुनाव में कांग्रेस की हिमाद्री सिंह बीजेपी के प्रत्याशी ज्ञान सिंह से पराजित हो गई थीं. हिमाद्री सिंह ने बुधवार को कांग्रेस से नाता तोड़ लिया और बीजेपी में शामिल हो गईं.

हिमाद्री सिंह को बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने पार्टी की सदस्यता दिलाई. इस मौके पर बीजेपी नेत्री कृष्णा गौर भी मौजूद थीं. अटकलें लगाई जा रही हैं कि लोकसभा चुनाव में हिमाद्री सिंह को बीजेपी शहडोल से प्रत्याशी बना सकती है.

मध्यप्रदेश की शहडोल संसदीय सीट अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लिए आरक्षित है. फिलहाल इस क्षेत्र से बीजेपी के ज्ञान सिंह सांसद हैं. उन्होंने सन 2016 में हुए उपचुनाव में हिमाद्री सिंह को पराजित किया था. इससे पहले वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के दलपत सिंह परस्ते विजयी हुए थे. परस्ते का ब्रेन हेमरेज के कारण निधन होने पर शहडोल में उपचुनाव हुआ था. शहडोल क्षेत्र पर अधिकतर चुनवों में बीजेपी को ही जीत मिलती रही है.


मध्यप्रदेश में भी शुरू हुई PM मोदी की 'मैं भी चौकीदार' मुहिम, जानिये किस-किस नेता ने बदला नाम

शहडोल लोकसभा क्षेत्र एसटी के उम्मीदवार के लिए आरक्षित है. इस सीट पर 1957 में हुए पहले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के कमल नारायण सिंह जीते थे. यहां से बीजेपी के दलपत सिंह और ज्ञान सिंह ने सबसे ज्यादा जीत हासिल की. ज्ञान सिंह साल 2016 का उपचुनाव जीतकर तीसरी बार यहां से सांसद बने.

VIDEO : दिग्विजय सिंह को सीएम कमलनाथ की सलाह

टिप्पणियां

शहडोल सीट पर पांच बार बीजेपी तो सात दफा कांग्रेस विजयी हुई. बीजेपी को इस सीट पर सन 1996, 1998, 1999 और 2004 के चुनावों में निरंतर जीत मिली थी. साल 2009 के चुनाव में कांग्रेस के राजेश नंदिनी विजयी हुए थे.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement