NDTV Khabar

कौन हैं बीजेपी में शामिल होने वाली पूर्व आईपीएस भारती घोष?

पूर्व आईपीएस भारती घोष (Ex-IPS Bharati Ghosh) एक समय में ममता बनर्जी की करीबी मानी जाती थी. घोष ने आईपीएस के पद से 29 दिसंबर 2017 को इस्तीफा दिया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कौन हैं बीजेपी में शामिल होने वाली पूर्व आईपीएस भारती घोष?

पूर्व आईपीएस भारती घोष

खास बातें

  1. भारती घोष पूर्व आईपीएस हैं.
  2. घोष ने आईपीएस के पद से 29 दिसंबर 2017 को इस्तीफा दिया था.
  3. भारती घोष बीजेपी में शामिल हुई हैं.
नई दिल्ली:

पूर्व आईपीएस भारती घोष (Ex-IPS Bharati Ghosh) हाल ही में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गईं. एक समय था जब पूर्व आईपीएस भारती घोष (Bharati Ghosh) ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की करीबी मानी जाती थी. हाल ही में उन्होंने बंगाल पुलिस द्वारा दर्ज भ्रष्टाचार के नए मामलों में दंडात्मक कार्रवाई से संरक्षण दिलाने का अनुरोध करते हुए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. भारती घोष (Bharati Ghosh) ने आईपीएस के पद से 29 दिसंबर 2017 को इस्तीफा दे दिया था. जिसके बाद से भारती बीजेपी में शामिल होने की बात को लेकर चर्चा में आ गईं. बता दें कि आईपीएस अफसर भारती घोष ने पश्चिम मेदिनीपुर के पुलिस अधीक्षक पद से तबादले के बाद पुलिस महानिदेशक को अपना इस्तीफा सौंपा था. भारती घोष का जन्म कोलकाता में हुआ. भारती घोष के पास हार्वर्ड से इंटरनेशनल मार्केटिंग में डिग्री है. इसके अलावा भारती ने एमबीए और एलएलबी की पढ़ाई कर रखी है.

उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स और पॉलिटिकल साइंस से भी पढ़ाई की है. भारती घोष (Bharati Ghosh) संयुक्त राष्ट्र की पीसकीपिंग मिशन में भारत की ओर से भेजे गए अधिकारियों में शामिल थीं. भारती ने वेस्ट बंगाल क्रिमिनल इन्वेस्टीगेशन डिपार्टमेंट में 2011 में काम करना शुरू किया था. जिसके बाद उन्हें मुख्यमंत्री ममता ने पश्चिमी मिदनापुर का SP बना दिया था. मिदनापुर माओवादियों से घिरा हुआ क्षेत्र है. माओवादी गतिविधियों पर काबू पाने में भारती घोष की भूमिका के चलते उन्‍हें 15 अगस्‍त 2014 को सर्विस मेडल से सम्‍मानित किया गया था.


टिप्पणियां

2014 के लोकसभा चुनाव (Loksabha Elections) में चुनाव आयोग ने भारती घोष का ममता बनर्जी से करीबी के चलते ट्रांसफर कर दिया था. पार्टियों की शिकायत के चलते 2016 के विधानसभा चुनाव के समय भी उनका ट्रांसफर हुआ था. हालांकि बाद में घोष वापस लौट आईं थी. पूर्व आईपीएस भारती घोष पर जबरन वसूली और आपराधिक साजिश रचने के आरोप हैं. वहीं, उनके पति सीआईडी की कस्टडी में हैं. भारती के खिलाफ दर्ज सभी मामलों में गिरफ्तारी पर फरवरी में सुप्रीम कोर्ट द्वारा रोक लगा दी गई थी. बता दें कि भारती घोष ने गिरफ्तारी से संरक्षण का अनुरोध करते हुये शीर्ष अदालत में याचिका दायर की थी.

आपको बता दें कि पिछले साल सीआईडी (CID) ने घोष के घर छापा मारकर 2.5 करोड़ नकद बरामद किया था. 

अन्य खबरें
सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व आईपीएस और बीजेपी नेता भारती घोष के खिलाफ कार्रवाई पर अंतरिम रोक लगाई
SP की स्टार प्रचारकों की लिस्ट में अखिलेश यादव तो हैं, मगर मुलायम सिंह यादव का नाम नहींबिहार: ये हैं भाजपा के 17 उम्मीदवार, तीन केंद्रीय मंत्री भी चुनावी मैदान में



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement