Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

पहली बार चार सीटों वाले इलेक्ट्रिक विमान ने भरी उड़ान, जानिए क्या है खासियतें

चीन में स्वनिर्मित चार सीटों वाले इलेक्ट्रिक विमान की पहली उड़ान 28 अक्टूबर को पूर्वोत्तर चीन के ल्याओनिंग प्रांत की राजधानी शनयांग में हुई. यह चीन में सफल उड़ान भरने वाला पहला चार सीटों वाला इलेक्ट्रिक विमान है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पहली बार चार सीटों वाले इलेक्ट्रिक विमान ने भरी उड़ान, जानिए क्या है खासियतें

चीन में पहले चार सीटों वाले इलेक्ट्रिक विमान की सफल उड़ान.

चीन में स्वनिर्मित चार सीटों वाले इलेक्ट्रिक विमान की पहली उड़ान 28 अक्टूबर को पूर्वोत्तर चीन के ल्याओनिंग प्रांत की राजधानी शनयांग में हुई. यह चीन में सफल उड़ान भरने वाला पहला चार सीटों वाला इलेक्ट्रिक विमान है. फ 4ए (रेइश्यांग) नई ऊर्जा का इलेक्ट्रिक विमान है, जिसका अनुसंधान और निर्माण साल 2017 में ल्याओनिंग प्रांत में थोंगयोंग एविएशन रिसर्च इंस्टीट्यूट द्वारा किया गया.

ये भी पढ़ें: साइकिल पर स्टंट कर रहा था लड़का, अचानक फिसला और हो गया ऐसा... देखें VIDEO

दो सीटों वाले आम इलेक्ट्रिक विमान से अंतर है कि फ4ए चार सीटों वाला इलेक्ट्रिक विमान चीनी नागरिक उड्डयन के नियमों की मांग के तहत अनुसंधान और निर्माण किया जाने वाला सामान्य विमान है. इस विमान के पंखों की लम्बाई 13.5 मीटर है, जबकि विमान की लम्बाई 8.4 मीटर है. इसका वजन 1200 किलोग्राम है, और गति 200 किमी प्रति घंटा है, जो लगातार डेढ़ घंटे तक उड़ान भर सकता है.

टिप्पणियां

ये भी पढ़ें: कॉकरोच को मारने के लिए घर के गार्डन में किया धमाका लेकिन अब पछता रहा है ये शख्स, देखें VIDEO


बैटरी ऊर्जा भंडारण प्रौद्योगिकी की उन्नति के चलते इस विमान के उड़ने की दूरी और समय और उन्नत होगा. शून्य प्रदूषण इस विमान की विशेषता है. बैटरी चालित यह विमान आम तेल इस्तेमाल वाले विमान से मौलिक रूप से अलग है. बाद में इस प्रकार के विमान का इस्तेमाल और रखरखाव भी बहुत सुविधापूर्ण होगा.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... Delhi Violence: दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर रजनीकांत ने केंद्र सरकार की आलोचना की, कहा- निश्चित तौर पर यह...'

Advertisement