SC में धारा 377 के खिलाफ केस जीतने वाली वकील खुद भी हैं लेस्बियन कपल, दुनिया के सामने कुबूला अपना प्‍यार

सुप्रीम कोर्ट में मिली धारा 377 के खिलाफ मिली ऐतिहासिक जीत के लगभग एक साल बाद एडवोकेट मेनका (Menaka) और अरुंधति (Arundhati) ने खुलासा किया है वह खुद भी लेस्बियन कपल हैं.

SC में धारा 377 के खिलाफ केस जीतने वाली वकील खुद भी हैं लेस्बियन कपल, दुनिया के सामने कुबूला अपना प्‍यार

एडवोकेट अरुंधति और मेनका ने स्‍वीकारा है कि वे लेस्बियन कपल हैं

खास बातें

  • धारा 377 के खिलाफ जंग जीतने वाली दो महिला वकीलों ने खुलास किया है
  • उन्‍होंने सार्वजनिक रूप से माना कि वे लेस्बियन कपल हैं
  • दोनों का एक इंटरव्‍यू सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है
नई दिल्‍ली:

पिछले साल सितंबर में सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए धारा 377 (Section 377) को निरस्‍त कर दिया था जिसकी वजह से सहमति से बनाए गए समलैंगिक संबंधों को अपराध माना जाता था. हालांकि यह लड़ाई आसान नहीं थी. LGBTQ समुदाय के लिए बराबरी के अधिकारों की लड़ाई लड़ने वाली वकील मेनका गुरुस्‍वामी (Menaka Guruswami) और अरुंधति काटजू (Arundhati Katju) ने इसके लिए बहुत लंबी और मुश्किल जंग लड़ी. आखिरकार वह पांच जजों वाली सुप्रीम कोर्ट की बेंच को इस बात के लिए मनाने में कामयाब रहीं कि समलैंगिक संबंध अपराध नहीं हैं. लेकिन सुप्रीम कोर्ट में मिली यह जीत सिर्फ उनके पेशे की जीत नहीं थी बल्‍कि यह पर्सनल कामयाबी भी थी.

यह भी पढ़ें: वाराणसी में दो मौसेरी बहनों ने आपस में रचाई शादी, देखें- वायरल VIDEO

मेनका और अरुंधति दोनों ही सफल वकील हैं. मेनका ने हावर्ड स्‍कूल से एलएलएम और ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी से डीफिल किया है. वह बर्लिन के इंस्‍टीट्यूट ऑफ एडवांस्‍ड स्‍टडीज की फेलो रह चुकी हैं. यही नहीं वह कोलंबिया लॉ स्‍कूल, येल लॉ स्‍कूल, न्‍यूयॉर्क यूनिवर्सिटी ऑफ लॉ जैसे विश्‍वप्रसिद्ध शिक्षण संस्‍थानों की विजिटिंग फैकल्‍टी भी हैं. वहीं अरुंधति ने कोलंबिया यूनिवर्सिटी से एलएलएम की डिग्री हासिल की है.

v3tavtrg

सुप्रीम कोर्ट में मिली ऐतिहासिक जीत के लगभग एक साल बाद एडवोकेट मेनका और अरुंधति ने खुलासा किया है वह खुद भी लेस्बियन कपल हैं. सीएनएन को दिए एक इंटरव्‍यू में दोनों ने न सिर्फ धारा 377 के खिलाफ अपनी जीत के बारे में बताया बल्‍कि अपने रिश्‍ते को भी सार्वजनिक किया. 

सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल जब धारा 377 को निरस्‍त कर दिया था उस दिन को याद करते हुए अरुंधति और मेनका ने कहा कि वह बहुत खुश हुईं थीं. अपनी बेटियों को देखने के लिए उनके परिवार के लोग भी कोर्ट आए थे और फैसला आने के बाद वह भी खुश हुए थे. तब सब ने साथ मिलकर जीत का जश्‍न मनाया था.

यह भी पढ़ें: इस देश में समलैंगिक संबंध हुए वैध, नौकरी ना देने वालों को 2 साल की जेल

अरुंधति ने हाल ही में #SareeTwitter ट्रेंड को फॉलो करते हुए अपनी पार्टनर मेनका के साथ वाली फोटो ट्विटर पर पोस्‍ट की थी:

बहरहाल, सीएनएन पर प्रसारित हुआ दोनों का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और लोग कपल को शुभकामनाएं भी दे रहे हैं:

Newsbeep

अब अगर इस पावर कपल की उपलब्‍धियों के बारे में बात करें तो टाइम मैगजीन ने साल 2019 के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में मेनका और अरुंधति को भी शामिल किया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि पिछले साल 6 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने आईपीसी की धारा 377 के उस प्रावधान को रद्द कर दिया था, जिसमें आपसी सहमति से बनाए समलैंगिक संबंधों को अपराध माना जाता था. उस वक्त चीफ जस्टिस रहे दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने इसे निजता का मौलिक अधिकार बताते हुए खंडन किया था.