NDTV Khabar

'हाउडी मोदी' के बाद शशि थरूर ने शेयर की पुरानी तस्वीर, इंदिरा गांधी को लिखा 'इंडिया' गांधी, हुए ट्रोल

कांग्रेस नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) अपने एक ट्वीट को लेकर मुश्किल में फंसे दिखाई पड़े, जिसमें उन्होंने इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) को 'इंडिया गांधी' लिख दिया और इसके साथ एक पुरानी तस्वीर साझा की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
'हाउडी मोदी' के बाद शशि थरूर ने शेयर की पुरानी तस्वीर, इंदिरा गांधी को लिखा 'इंडिया' गांधी, हुए ट्रोल

ट्विटर पर इंदिरा गांधी को 'इंडिया' गांधी लिख ट्रोल हुए थरूर.

कांग्रेस नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) अपने एक ट्वीट को लेकर मुश्किल में फंसे दिखाई पड़े, जिसमें उन्होंने इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) को 'इंडिया गांधी' लिख दिया और इसके साथ एक पुरानी तस्वीर साझा की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के रविवार के ह्यूस्टन के कार्यक्रम 'हाउडी मोदी' (Howdy Modi) की सफलता पर तंज कसने की कोशिश में थरूर ने वर्तनी में त्रुटि की, इसके साथ उल्लेख किया कि यह तस्वीर अमेरिका में ली गई जबकि वह तस्वीर मास्को में ली गई थी.

ये भी पढ़ें: एक चुनाव के नतीजे ने क्या इतनी ताकत दे दी है कि लोग किसी को भी मार दें, मैं भी हिंदू हूं लेकिन इस तरह नहीं : शशि थरूर

थरूर ने ट्वीट किया, "नेहरू और इंडिया गांधी 1954 में अमेरिका में. देखें बेहद उत्साही और स्वेच्छा से आई अमेरिकी जनता. जो बिना किसी विशेष जनसंपर्क अभियान, एनआरआई भीड़ प्रबंधन या बढ़ा-चढ़ाकर किए गए मीडिया प्रचार के वहां थी." एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने तत्काल जवाब दिया, "इंदिरा को इंडिया गांधी संबोधित कर क्या आपको कांग्रेस के प्रति अत्यधिक निष्ठा साबित करना जरूरी है."


ये भी पढ़ें: Congress नेता शशि थरूर ने कहा, भारत में अब सहिष्णुता के लिये कोई जगह नहीं, सिर्फ ‘स्पष्ट विभेद' है

लेखक अद्वैत काला ने ट्वीट किया, "मॉस्को 1956..और विशिष्ट रूप से कहूं तो स्टालिनलवादी रूस..स्टालिनलवाद से तब मुक्ति नहीं हुई थी. इस तरह की भीड़ को बुलाने के लिए पीआर की जरूरत नहीं होती. हाउडी मोदी अभिभूत करता है। कोई भी वर्तमान भारतीय नेता इस तरह से भीड़ नहीं खींच सकता..यहां तक कि राजवंश भी. मोदी जैसी पहली पीढ़ी के नेता ने ऐसा किया है."

टिप्पणियां

ये भी पढ़ें: शशि थरूर बोले, हम PM मोदी की राजनीति पसंद करें या नहीं, लेकिन उन्हें वह मिलना चाहिए जो...

अपनी गलती को जानने के बाद थरूर ने फिर से ट्वीट किया, "मुझे बताया गया है कि ये फोटो (मेरे पास आई हुई) शायद सोवियत संघ यात्रा की है न कि अमेरिका की. अगर ऐसा है तो भी इससे संदेश नहीं बदल सकता : सच्चाई ये है कि पूर्व प्रधानमंत्रियों को भी विदेश में लोकप्रियता हासिल थी. जब नरेंद्र मोदी का सम्मान होता है तो वो भारत के प्रधानमंत्री का सम्मान है. यह सम्मान भारत के लिए है."



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement