रेणुका शहाणे ने सावित्रीबाई फुले की जयंती पर किया ट्वीट, लिखा- वे अपने साथ अतिरिक्त साड़ी लेकर चलती थीं क्योंकि...

सावित्रीबाई फुले (Savitribai Phule) की जयंती पर बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस रेणुका शहाणे (Renuka Shahane) ने ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने भारत की पहली महिला अध्यापिका को नमन किया, साथ ही उनके जज्बे को भी सलाम किया.

रेणुका शहाणे ने सावित्रीबाई फुले की जयंती पर किया ट्वीट, लिखा- वे अपने साथ अतिरिक्त साड़ी लेकर चलती थीं क्योंकि...

सावित्रीबाई फुले (Savitribai Phule) की जयंति पर रेणुका शहाणे (Renuka Shahane) ने किया ट्वीट

खास बातें

  • सावित्रीबाई फुले की जयंती पर रेणुका शहाणे ने किया ट्वीट
  • एक्ट्रेस ने कहा कि जातिवाद और लिंगभेद की बेड़ियां तोड़ कर...
  • रेणुका शहाणे का ट्वीट हुआ वायरल
नई दिल्ली:

भारत की पहली महिला शिक्षिका बनकर मिसाल कायम करने वाली सावित्रीबाई फुले (Savitribai Phule Jayanti) की आज जयंती है. 3 जनवरी, 1831 को महाराष्ट्र के सतारा में स्थिन नायगांव में जन्मी सावित्रीबाई फुले (Savitribai Phule) ने महिला सशक्तिकरण की मिसाल दी. वह देश के पहले बालिका विद्यालय की पहली प्रधानाचार्या बनीं, साथ ही पहले किसान स्कूल की स्थापना करने का श्रेय जाता है. सावित्रीबाई फुले की जयंती पर बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस रेणुका शहाणे (Renuka Shahane) ने ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने भारत की पहली महिला अध्यापिका को नमन किया, साथ ही उनके जज्बे को भी सलाम किया. सावित्रीबाई फूले को लेकर किया गया रेणुका शहाणे का ट्वीट खूब वायरल हो रहा है, साथ ही लोग इसपर जमकर कमेंट भी कर रहे हैं. 

सैफ अली खान ने सारा अली खान की 'लव आजकल 2' पर दिया बयान, बोले- मैं नहीं जानता कि...

रेणुका शहाणे (Renuka Shahane) ने अपने ट्वीट में सावित्रीबाई फुले (Savitribai Phule) को लेकर लिखा, "सावित्रीबाई फूले उस समय अपने साथ एक अतिरिक्त साड़ी लेकर चलती थीं, क्योंकि उस समय लोग उनपर जातिवाद और लिंगभेद की बेड़ियां तोड़ने और हाशिये पर मौजूद लोगों को शिक्षित करने के लिए पत्थर और गोबर फेंका करते थे. आज हम जिस शिक्षा को ग्रहण कर रहे हैं वह उनके प्रतिरोध का ही नतीजा है क्योंकि इस चीज ने ही हमारे लिए मार्ग प्रशस्त किया है. शत् शत् नमन."

बॉलीवुड एक्टर ने हिंदू कट्टरपंथ पर साधा निशाना, बोले- ये हिंदू धर्म को नीचे की तरफ खींच रहे हैं...

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बता दें कि सावित्रीबाई (Savitribai Phule) ने महिलाओं की शिक्षा और उनके अधिकारों की लड़ाई में महत्वपूर्ण योगदान दिया. तकरीबन डेढ़ सौ साल पहले सावित्रीबाई फुले ने महिलाओं को पुरुषों के ही सामान अधिकार दिलाने की बात की थी. सावित्रीबाई ने न सिर्फ महिला अधिकार पर काम किया बल्कि उन्होंने कन्या शिशु हत्या को रोकने के लिए प्रभावी पहल भी की. उन्होंने न सिर्फ अभियान चलाया बल्कि नवजात कन्या शिशु के लिए आश्रम तक खोले. जिससे उनकी रक्षा की जा सके. 

...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...