NDTV Khabar

Atal Bihari Vajpayee: 'पहरा कोई काम न आया, रसघट रीत चला, जीवन बीत चला', पढ़ें अटल बिहारी वाजपेयी की बेहद सुंदर कविताएं

अटल बिहारी की कविता (Atal Bihari Vajpayee Poems) देश भर के लोगों को प्रेरणा देती हैं. उनकी कविताओं ने जीवन को देखने का उनका नजरिया दुनिया के सामने रखा. 

235 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
Atal Bihari Vajpayee: 'पहरा कोई काम न आया, रसघट रीत चला, जीवन बीत चला', पढ़ें अटल बिहारी वाजपेयी की बेहद सुंदर कविताएं

Atal Bihari Vajpayee Death: एम्स अस्पताल में अटल बिहारी वाजपेयी का निधन हो गया है.

खास बातें

  1. एम्स अस्पताल में अटल बिहारी वाजपेयी का निधन हो गया है.
  2. अटल बिहारी वाजपेयी 11 जून से एम्स में भर्ती थे.
  3. अटल बिहारी वाजपेयी की कविता देश भर के लोगों को प्रेरणा देती हैं.
नई दिल्ली: दिल्ली के एम्स अस्पताल (Delhi AIIMS Hospital) में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन (Atal Bihari Vajpayee Death) हो गया. अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) ने दिल्ली के एम्स अस्पताल में गुरुवार की शाम 5 बजकर 5 मिनट पर आखिरी सांस ली. अटल बिहारी वाजपेयी 11 जून से एम्स में भर्ती थे. वाजपेयी जी (Vajpayee) ने कई कविताएं लिखी. अटल बिहारी वाजपेयी की कविता (Atal Bihari Vajpayee Poems) देश भर के लोगों को प्रेरणा देती हैं. उनकी कविताओं ने जीवन को देखने का उनका नजरिया दुनिया के सामने रखा. यहां पर जानिए अटल बिहारी वाजपेयी की कुछ मशहूर और बेहद सुंदर कविताएं.

अटल बिहारी वाजपेयी की 5 बेहद सुंदर कविताएं (Atal Bihari Vajpayee Poems/Atal Bihari Vajpayee Hindi Poems)

1. गीत नहीं गाता हूँ


बेनकाब चेहरे हैं दाग बड़े गहरे है,
टूटता तिलस्म आज सच से भय खाता हूं,
गीत नहीं गाता हूं.

लगी कुछ ऐसी नज़र,
बिखरा शीशे सा शहर,
अपनों के मेले में मीत नहीं पाता हूं.
गीत नहीं गाता हूं.

पीठ में छुरी सा चांद,
राहु गया रेख फांद,
मुक्ति के क्षणों में बार बार बंध जाता हूं.
गीत नहीं गाता हूं.

2. क्या खोया, क्या पाया जग में

क्या खोया, क्या पाया जग में,
मिलते और बिछड़ते मग में,
मुझे किसी से नहीं शिकायत,
यद्यपि छला गया पग-पग में,
एक दृष्टि बीती पर डालें, यादों की पोटली टटोलें.

पृथ्वी लाखों वर्ष पुरानी,
जीवन एक अनन्त कहानी
पर तन की अपनी सीमाएं,
यद्यपि सौ शरदों की वाणी,
इतना काफी है अंतिम दस्तक पर खुद दरवाजा खोलें.

जन्म-मरण का अविरत फेरा,
जीवन बंजारों का डेरा,
आज यहां, कल कहां कूच है,
कौन जानता, किधर सवेरा,
अंधियारा आकाश असीमित, प्राणों के पंखों को तौलें.
अपने ही मन से कुछ बोलें.

अटल बिहारी वाजपेयी का निधन, जब लता मंगेशकर की इस बात पर खूब हंसे थे पूर्व PM

3. एक बरस बीत गया

एक बरस बीत गया,
झुलासाता जेठ मास.
शरद चांदनी उदास.
सिसकी भरते सावन का.
अंतर्घट रीत गया.
एक बरस बीत गया.

सीकचों मे सिमटा जग.
किंतु विकल प्राण विहग.
धरती से अम्बर तक.
गूंज मुक्ति गीत गया.
एक बरस बीत गया.

पथ निहारते नयन,
गिनते दिन पल छिन,
लौट कभी आएगा,
मन का जो मीत गया,
एक बरस बीत गया.

4. जीवन बीत चला

कल कल करते आज,
हाथ से निकले सारे,
भूत भविष्यत की चिंता में,
वर्तमान की बाजी हारे.

पहरा कोई काम न आया,
रसघट रीत चला,
जीवन बीत चला.

हानि लाभ के पलड़ों में,
तुलता जीवन व्यापार हो गया,
मोल लगा बिकने वाले का,
बिना बिका बेकार हो गया.

मुझे हाट में छोड़ अकेला,
एक एक कर मीत चला,
जीवन बीत चला,

Atal Bihari Vajpayee: मैं हमेशा से ही वादे लेकर नहीं आया, इरादे लेकर आया हूं, जानिए अटल बिहारी वाजपेयी के 10 प्रेरणादायक विचार

5. सच्चाई यह है कि

सच्चाई यह है कि
केवल ऊँचाई ही काफ़ी नहीं होती,
सबसे अलग-थलग,
परिवेश से पृथक,
अपनों से कटा-बँटा,
शून्य में अकेला खड़ा होना,
पहाड़ की महानता नहीं, ,मजबूरी है.

टिप्पणियां
ऊँचाई और गहराई में
आकाश-पाताल की दूरी है.
जो जितना ऊँचा,
उतना एकाकी होता है,
हर भार को स्वयं ढोता है,
चेहरे पर मुस्कानें चिपका,
मन ही मन रोता है.

VIDEO: 'पहरा कोई काम न आया, रसघट रीत चला, जीवन बीत चला...'


अटल बिहारी वाजपेयी से संबंधित अन्य खबरें
जब राजीव गांधी की इस बड़ी 'पहल' के कारण अटल बिहारी वाजपेयी को मिला था 'जीवनदान'
जब भरी संसद में अटल जी ने ललकारा था- मैं मौत से नहीं डरता, डरता हूं तो सिर्फ...
Atal Bihari Vajpayee Death: जब अटल बिहारी वाजपेयी बैलगाड़ी से पहुंचे संसद, देखें पूर्व प्रधानमंत्री की 10 Unseen Photos
... जब कांग्रेस ने शेयर की पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की यह दुर्लभ तस्वीर
Atal Bihari Vajpayee Death: झींगा मछली और चाइनीज़ फूड के थे शौकीन, जानिए मीठे में क्या था पसंद


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement