Diabetes Diet: क्या डायबिटीज में प्लांट बेस्ड डाइट ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखती है? जानें इस डाइट के फायदे और नुकसान

Diabetes Diet Plan: कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि पौधे आधारित आहार डायबिटीज को मैनेज (Manage Diabetes) करने में मदद कर सकते हैं, लेकिन यह कितना प्रभावी है? यह कैसे काम करता है? क्या इन्हें ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) को कंट्रोल करने के लिए डायबिटीज डाइट (Diabetes Diet) में शामिल करना चााहिए. इस बारे में पूरी जानकारी जानने के लिए पोषण विशेषज्ञ यहां कुछ बातें शेयर कर रहे हैं.

Diabetes Diet: क्या डायबिटीज में प्लांट बेस्ड डाइट ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखती है? जानें इस डाइट के फायदे और नुकसान

Diabetes Diet: आपका आहार स्वस्थ रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है

खास बातें

  • डायबिटीज में ब्लड शुगर लेवल को मैनेज करने की जरूरत होती है.
  • व्यायाम और डाइट ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है
  • प्लांट बेस्ड डाइट ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल कर सकती है!

Plant-Based Diet For Diabetes: डायबिटीज एक प्रगतिशील स्थिति और पुरानी स्थिति है जिसमें ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) को लगातार मैनेज करने की जरूरत होती है. इसके साथ ही डायबिटीज डाइट (Diabetes Diet) का भी काफी ध्यान रखना होता है. अगर जल्दी निदान किया जाता है, तो चिकित्सीय आहार और शारीरिक गतिविधि के साथ प्रगति को काफी धीमा किया जा सकता है. लेकिन अगर हाई ब्लड शुगर लेवल (High Blood Sugar Level) को अनकंट्रोल ही छोड़ दिया जाता है, तो ब्लड शुगर लेवल शरीर के विभिन्न अंगों को प्रभावित करना शुरू कर सकता है. यह सलाह दी जाती है कि डायबिटीज (Diabetes) रोगियों को ब्लड शुगर लेवल की निरंतर जांच करते रहना चाहिए और बड़े उतार-चढ़ाव से बचने के लिए सभी आवश्यक सावधानियों का पालन करना चाहिए.

शारीरिक गतिविधि स्थिति की प्रगति को नियंत्रित करने में मदद करती है, लेकिन जो स्पष्ट नहीं है, उसका पालन करने के लिए आदर्श आहार पैटर्न है. पोषण संबंधी दावों में बहुत अनिश्चितता है, जो सच था कल उभरते शोध अध्ययनों पर पुनर्विचार करने के कुछ अन्य पहलू हो सकते हैं. इस तरह का एक शोध डायबिटीज को मैनेज करने (Manage Diabetes) में प्लांट बेस्ड डाइट कितनी प्रभावी है. इस लेख में, स्वेदल त्रिनिदाद जो एक पोषण विशेषज्ञ और वरिष्ठ डायटेटिक्स अधिकारी हैं, जो पी.डी. हिंदुजा नेशनल हॉस्पिटल ने प्लांट बेस्ड डाइट और डायबिटीज पर इसके प्रभाव के बारे में विस्तार से बताते हैं.

क्या प्लांट बेस्ड डाइट ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखती है | Does Plant Based Diet Keep Blood Sugar Levels Under Control?

पौधों पर आधारित आहार फलियां, साबुत अनाज, सब्जियां, फल, नट्स, और बीजों को कम या बिना किसी पशु उत्पाद के खाने पर अधिक ध्यान केंद्रित करता है.

प्लांट बेस्ड डाइट के फायदे | Benefits Of Plant Based Diet

1) ये प्रोसेस्ड नहीं होते हैं: प्लांट बेस्ड डाइट न्यूनतम रूप से संसाधित नहीं होते हैं. तो, कोई एडिटिव इंसुलिन प्रतिरोध में योगदान नहीं कर सकता है.

2) फाइबर: प्लांट-बेस्ड डाइट सेल्युलोज और हेमिकेल्यूलोज से भरपूर होते हैं. दोनों भोजन के ग्लाइसेमिक इंडेक्स को बनाए रखने और पोस्टप्रांडियल ब्लड शुगर लेवल में सुधार के लिए प्रमुख रूप से जिम्मेदार हैं.

3) प्रोबायोटिक्स: आमतौर पर आंत के अनुकूल बैक्टीरिया के लिए भोजन के रूप में जाना जाता है. वे फाइबर के प्रकार हैं, जो फलों, सब्जियों और फलियों में पाए जाते हैं, आंतों के जीवाणुओं द्वारा किण्वित होते हैं, जो शॉर्ट-चेन फैटी एसिड का उत्पादन करते हैं, जो इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ाकर चीनी चयापचय में भी सुधार करते हैं.

4) एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर: पौधे आधारित आहार आमतौर पर विभिन्न एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध होते हैं जैसे-

अ) पॉलीफेनोल्स जो ग्लूकोज अवशोषण को रोकते हैं और इंसुलिन स्राव को उत्तेजित करते हैं.

ब) मैग्नीशियम इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ावा देता है जिससे चीनी चयापचय में सुधार होता है.

e832qk8gDiabetes Diet: एक स्वस्थ आहार रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है

ग्लाइसेमिक इंडेक्स और भोजन के ग्लाइसेमिक लोड: प्लांट-आधारित आहार फाइबर से भरपूर होते हैं जिससे तृप्ति में सुधार होता है, भोजन की कैलोरी घनत्व कम हो जाती है. वे खाद्य पदार्थों के ग्लाइसेमिक इंडेक्स को बनाए रखते हैं और भोजन के ग्लाइसेमिक लोड को कम करते हैं. एक सही संतुलन रक्त शर्करा में काफी सुधार करने में मदद कर सकता है.

प्लांट बेस्ड डाइट के नुकसान | Plant Based Diet Disadvantages

अब सवाल यह है कि मुख्य रूप से शाकाहारी होने के बाद भारत को डायबिटीज की राजधानी के रूप में क्यों जाना जाता है? यह पौधे आधारित आहार के नकारात्मक प्रभाव को उजागर करने के लिए महत्वपूर्ण बनाता है:

अगर आप प्लांट-बेस्ड डाइट पर पूरी तरह से भरोसा करने का निर्णय लेते हैं, तो आपको आहार को संतुलित करना होगा अन्यथा आप को नीचे दिए गए नुकसान हो सकते हैं.

1) पौधों पर आधारित आहार आमतौर पर कार्ब्स से भरे होते हैं: यह रक्त शर्करा को प्रभावित कर सकता है.

2) जटिल कार्बोहाइड्रेट में कम और सरल शर्करा में अधिक: यह भोजन के ग्लाइसेमिक लोड और अंततः रक्त शर्करा के स्तर को बहुत प्रभावित करेगा.

3) प्रोटीन की कमी: अगर आहार की योजना ठीक से नहीं है, तो आप आवश्यक अमीनो एसिड को प्राप्त कर सकते हैं और प्रोटीन की कमी वाले आहार का सेवन भी कर सकते हैं. इसलिए सही संयोजन में खाद्य पदार्थ इसके लिए क्षतिपूर्ति कर सकते हैं. उदाहरण के लिए अनाज और दालों का सही संयोजन मदद कर सकता है.

fbg6oatoDiabetes Diet: कई निम्नलिखित पादप आधारित आहार प्रोटीन की कमी से ग्रस्त हैं

4) विटामिन और खनिज: कैल्शियम और लोहा, इसमें कोई संदेह नहीं है कि कई सब्जियां लौह और कैल्शियम जैसे खनिजों में समृद्ध हैं, लेकिन फाइटेट्स, ऑक्सालेट्स और फाइबर की उपस्थिति के कारण जैव उपलब्धता कम है.

5) विटामिन बी 12: विटामिन बी 12 में पौधों की कमी होती है. इसलिए विटामिन बी 12 में गरिष्ठ खाद्य पदार्थों को शामिल करना महत्वपूर्ण है.

किसी भी आहार को अपनाने से पहले उसके फायदे और नुकसान को जानना काफी महत्वपूर्ण है. अंत में, सही संतुलन बनाना और यह सुनिश्चित करना कि कोई पोषण संबंधी कमी न केवल अच्छे स्वास्थ्य को बढ़ावा दे, बल्कि इष्टतम ग्लाइसेमिक नियंत्रण भी हो सकता है!

Newsbeep

(स्वेदल त्रिनिदाद, वरिष्ठ आहार अधिकारी, आहार सेवा, पी. डी. हिंदुजा नेशनल हॉस्पिटल और एमआरसी, मुंबई)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.