NDTV Khabar

दो साल पहले डिलीट कर दी थी बीफ पर लिखी FB पोस्ट, स्कॉलर के लिए अब बनी परेशानी, पुलिस ने दर्ज किया मामला

आरोपी रेहाना सुल्ताना (Rehna Sultana) का दावा है कि पोस्ट के गलत मायने निकाले गए और जून 2017 में इसे पोस्ट किए जाने के कुछ मिनट बाद ही हटा दिया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. बीफ को लेकर लिखी थी पोस्ट
  2. पोस्ट दो साल पुरानी होने का किया दावा
  3. पुलिस ने दर्ज किया मामला
गुवाहाटी:

असम की गुवाहाटी विश्वविद्यालय की एक स्कॉलर को एक दो साल पुरानी फेसबुक पोस्ट ने परेशानी में डाल दिया. उस पोस्ट में पाकिस्तान का समर्थन और बीफ खाने की बात कही गई थी. असम पुलिस ने उस स्कॉलर के खिलाफ मामला दर्ज किया है. आरोपी रेहाना सुल्ताना (Rehna Sultana) का दावा है कि पोस्ट के गलत मायने निकाले गए और जून 2017 में इसे पोस्ट किए जाने के कुछ मिनट बाद ही हटा दिया था.

पुलिस का कहना है कि एक स्थानीय न्यूज वेबसाइट की रिपोर्ट के बाद उन्हें रेहना सुल्ताना की पोस्ट के बारे में जानकारी मिली. इसके बाद उसके खिलाफ आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया. वेबसाइट ने दावा किया है कि उसने बकरीद के मौके पर यह पोस्ट की थी. पोस्ट में सुल्ताना ने लिखा था, 'पाकिस्तान के जश्न का समर्थन करने के लिए आज बीफ का सेवन किया. मैं जो खाती हूं, वह मेरी टेस्टीबुड्स पर निर्भर करता है.'

पीएम मोदी और अमित शाह पर अपमानजनक टिप्पणी करना हार्ड कौर को पड़ा महंगा, Twitter ने उठाया ये कदम


रेहाना सुल्ताना (Rehna Sultana) ने कबूल किया कि यह पोस्ट उसकी ही थी, लेकिन उसने उस दावे का खंडन कर दिया कि यह हालही की है. सुल्ताना ने एनडीटीवी को बताया, 'यह पोस्ट जून 2017 में भारत-पाकिस्तान मैच के दौरान की गई थी. उस दिन विराट कोहली शून्य पर आउट हो गए थे, और एक क्रिकेट प्रशंसक होने के नाते मैंने उस पोस्ट को हताशा के चलते किया था.'

उसने साथ ही बताया कि उसे अपनी गलती का तुरंत एहसास हो गया था. उसने बताया, 'मैंने कबूल किया कि मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था और मेरी पोस्ट के गलत मायने निकाले जा सकते हैं. इसलिए उसे पोस्ट करने के कुछ देर बाद ही हटा दिया था.'

Zomato से जुड़ा एक और विवाद, अब कंपनी के कर्मचारियों ने ही लगाया आरोप- बोले 'जबरन बीफ और पोर्क...'

बता दें, एनआरसी की आलोचना करने वाली एक कविता को शेयर करने के आरोप में पिछले महीने ही रेहाना सुल्ताना और नौ अन्य के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज किया था. अब वह दावा करती है कि इस पोस्ट को इसलिए सामने लाया गया है, ताकि उसने द्वारा किए जा रहे सामाजिक कार्यों को दबाया जा सके. उसने बताया, 'मैं एनआरसी सूची में वास्तविक नागरिकों को शामिल करने के लिए काम करती हूं, और मैं अक्सर सुनवाई में उनकी मदद भी करती हूं. मुझे लगता है कि इस मुद्दे को इसलिए लाया गया है, ताकि मुझे दबाया जा सके.'

'बीफ सूप' पीते हुए अपनी फोटो पोस्ट करने वाला युवक गिरफ्तार

डीजीपी कुलधर साकिया ने बताया कि गुवाहाटी पुलिस कमिश्नर इस मामले को देख रहे हैं. उन्होंने बताया, 'हम पूरी कोशिश यह सुनिश्चित करने में कर रहे हैं कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल फेक न्यूज और नफरत भरे मैसेज फैलाने में ना इस्तेमाल हों. स्थानीय पुलिस को भी इस बारे में कहा गया है कि ऐसे मामलों पर नजर रखें.'

टिप्पणियां

दो साल पुरानी 'बीफ पार्टी' के समर्थन में लिखी फेसबुक पोस्ट को लेकर झारखंड में शिक्षक गिरफ्तार

VIDEO: बीफ और पोर्क डिलीवरी को लेकर हड़ताल पर जोमैटो राइडर



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement