NDTV Khabar

कर्नाटक संकट: रिहा होने के बाद बोले डीके शिवकुमार- लोकतंत्र में सत्ता आती और जाती है लेकिन...

डीके शिवकुमार (DK ShivaKumar) ने कहा कि मुंबई पुलिस को शर्म आनी चाहिए उन्होंने मुझे मेरे नागरिक अधिकार के इस्तेमाल से रोका है. होटल में मेरी बुकिंग थी लेकिन मुझे होटल के कर्मचारियों ने बताया कि उनपर भी दवाब बनाया जा रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कर्नाटक संकट: रिहा होने के बाद बोले डीके शिवकुमार- लोकतंत्र में सत्ता आती और जाती है लेकिन...

मुंबई पुलिस की हिरासत से रिहा हुए डीके शिवकुमार

खास बातें

  1. मुंबई पुलिस की हिरासत से रिहा हुए डीके शिवकुमार
  2. कर्नाटक से मुंबई पहुंचे थे शिवकुमार
  3. पुलिस ने मिलिंद देवड़ा को भी हिरासत में लिया था
नई दिल्ली:

कर्नाटक में राजनीतिक संकट (Karnataka Political Crisis) के बीच हिरासत में लिए गए कांग्रेस के वरिष्ट नेता डीके शिवकुमार (DK Shivkumar) को मुंबई पुलिस ने रिहा कर दिया है. पुलिस हिरासत से रिहा होने के बाद डीके शिवकुमार (DK Shivkumar) ने बीजेपी और मुंबई पुलिस पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि मुंबई पुलिस को शर्म आनी चाहिए उन्होंने मुझे मेरे नागरिक अधिकार के इस्तेमाल से रोका है. होटल में मेरी बुकिंग थी लेकिन मुझे होटल के कर्मचारियों ने बताया कि उनपर भी दवाब बनाया जा रहा है. मैं बस इतना कहना चाहता हूं कि लोकतंत्र में सत्ता आती और जाती है. लेकिन किसी को भी कानून का गलत इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. मैं कानून पर भरोसा करने वाला नागरिक हूं. यहां अपने दोस्तों और पार्टी से जुड़े लोगों से मिलने आया था. लेकिन वो मुझे उनसे मिलने नहीं दे रहे हैं. जबकि पार्टी के विधायक मुझसे मिलना चाहते हैं. मैं आपके साफ कर देना चाहता हूं कि मुंबई पुलिस जो दलील दे रही है वह सच्चाई से कोसों दूर है. उन्होंने कहा कि बीजेपी बागियों को सुरक्षा दे रही है. 

बागी विधायकों से मिलने से रोका तो बोले कर्नाटक के मंत्री- राजनीति में हमारा जन्म साथ में हुआ और मरेंगे भी साथ में


गौरतलब है कि इससे पहले कांग्रेस के बागी विधायकों से मिलने आए डीके शिवकुमार को मुंबई पुलिस ने हिरासत में ले लिया था. डीके शिवकुमार मिलिंद देवड़ा के साथ मिलकर कांग्रेस विधायकों से मिलने जा रहे थे. कांग्रेस के मंत्री डीके शिवकुमार (DK ShivaKumar) और जेडीएस विधायक शिवालिंगे गौड़ा (Shivalinge Gowda) बुधवार को स्पेशल फ्लाइट से बेंगलुरु से मुंबई पहुंचे थे. दोनों नेता बागी विधायकों से मुलाकात करने के लिए मुंबई पहुंचे थे. हालांकि मुंबई के जिस होटल में बागी विधायक रुके हैं वहां की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी. होटल के बाहर महाराष्ट्र स्टेट रिजर्व पुलिस फोर्स और दंगा कंट्रोल करने के लिए फोर्स की तैनाती की गई है. वहीं होटल के बाहर तैनात भारी पुलिस बल के सवाल पर कांग्रेस नेता शिवकुमार ने बयान दिया है. 

कर्नाटक संकट: बागी विधायकों ने कांग्रेस और JDS नेताओं से बताया 'खतरा' तो आधी रात होटल पहुंचे पुलिस अधिकारी

शिवकुमार ने एएनआई से कहा था कि मुंबई पुलिस और बाकी बलों को तैनात होने दें, उन्हें उनकी ड्यूटी करने दें. हम अपने मित्रों से मिलने आए हैं. राजनीति में हमारा जन्म साथ में हुआ था और राजनीति में हम साथ में ही मरेंगे. वे हमारी पार्टी के सदस्य हैं. हम उनसे मिलने आएं हैं.'डीके शिवकुमार ने कहा था कि मैंने यहां एक कमरा बुक किया है. मेरे दोस्त यहां रुके हुए हैं. एक छोटी सी समस्या हो गई है, हम बातचीत करेंगे. धमकी देने का कोई सवाल नहीं है, हम एक दूसरे से प्यार करते हैं और सम्मान करते हैं.' होटल के बाहर रोके जाने पर डीके शिवकुमार ने पुलिस अधिकारियों से कहा कि मेरे पास कोई हथियार नहीं हैं. मुझे अंदर क्यों नही जाने दिया जा रहा.

कर्नाटक के बागी विधायक अब भी मुंबई में डटे, बोले- कभी नहीं छोड़ा शहर

बता दें कि मुंबई के एक होटल में शनिवार से रुके कर्नाटक (Karnataka) के बागी विधायकों ने पुलिस से सुरक्षा की मांग की थी. मुंबई पुलिस को लिखे एक पत्र में 10 विधायकों ने कहा था कि वह कर्नाटक से मुंबई आ रहे राज्य के नेताओं से नहीं मिलना चाहते हैं. इस पत्र पर 10 विधायकों ने हस्ताक्षर किए थे. 

टिप्पणियां

पत्र में कहा गया था, 'हमने सुना है कि श्री कुमारस्वामी और श्री शिवकुमार के आने से होटल में हंगामा हो सकता है और हमें उनसे खतरा महसूस हो रहा है. हम उनसे मिलना नहीं चाहते. कृपया इस मामले में हमारी मदद करें और उन लोगों को होटल में घुसने की इजाजत ना दें.'  (इनपुट: एएनआई से भी)

वीडियों: कर्नाटक में नामंजूर इस्तीफों से किसको क्या उम्मीद?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement