NDTV Khabar

5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था पर बोले पूर्व RBI गवर्नर सी रंगराजन, कहा- मौजूदा विकास दर से 2025 तक...

केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) की दोबारा सरकार बनने के बाद उन्होंने अगले पांच साल में देश की अर्थव्यवस्था को 5,000 अरब डॉलर की बनाने का लक्ष्य रखा था, लेकिन अर्थव्यवस्था पर छाए संकट के बाद से इसे हासिल करने पर सवाल उठ रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था पर बोले पूर्व RBI गवर्नर सी रंगराजन, कहा- मौजूदा विकास दर से 2025 तक...

आरबीआई गवर्नर रंगराजन (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. पूर्व आरबीआई गवर्नर के मुताबिक अर्थवव्यस्था की स्थिति नहीं है ठीक
  2. मौजूदा विकास दर से 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का सवाल ही नहीं
  3. अर्थव्यवस्था पर छाए संकट के बाद से इसे हासिल करने पर सवाल उठ रहे हैं
नई दिल्ली:

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के पूर्व गवर्नर सी रंगराजन (C Rangrajan) के मुताबिक अर्थवव्यस्था की स्थिति ठीक नहीं है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मौजूदा विकास दर से 2025 में 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का सवाल ही नहीं है. बता दें, केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) की दोबारा सरकार बनने के बाद उन्होंने अगले पांच साल में देश की अर्थव्यवस्था को 5,000 अरब डॉलर की बनाने का लक्ष्य रखा था, लेकिन अर्थव्यवस्था पर छाए संकट के बाद से इसे हासिल करने पर सवाल उठ रहे हैं. देश में आर्थिक विकास दर की गति कम हो रही है और वित्त वर्ष 2016 के 8.2 फीसदी के मुकाबले वित्त वर्ष 2019 में विकास दर 6.8 फीसदी रह गई है.

पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी ने आर्थिक संकट से निपटने के लिए प्रधानमंत्री मोदी को दिये ये सुझाव...

सी रंगराजन ने गुरुवार को कहा, ‘आज हमारी अर्थव्यवस्था 2,700 अरब डॉलर है और हम पांच साल में इसे दोगुना कर 5,000 अरब डॉलर करने की बात कर रहे हैं. इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए नौ फीसदी सलाना की दर से विकास की जरूरत है. ऐसे में 2025 तक 5,000 करोड़ रुपये की अर्थव्यवस्था बनने का सवाल ही नहीं है.' आईबीएस-आईसीएफएआई बिजनेस स्कूल की ओर से आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रंगराजन ने कहा, ‘आप दो साल गंवा चुके हैं. इस साल यह विकास दर छह फीसदी से नीचे रहने वाली है, जबकि अगले साल यह करीब सात फीसदी होगी. इसके बाद अर्थव्यवस्था गति पकड़ सकती है.'


संसद का सत्र शुरू होने से पहले पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने अपनी पार्टी कांग्रेस को दी ये सलाह

टिप्पणियां

उन्होंने कहा कि अगर देश का सकल घरेलू उत्पाद (JDP) 5,000 अरब डॉलर हो गया तो देश में प्रति व्यक्ति आय मौजूदा 1,800 डॉलर से बढ़कर 3,600 डॉलर हो जाएगी. इसके बावजूद देश निम्न मध्यम आय वाले देशों की श्रेणी में ही रहेगा. रंगराजन ने कहा, ‘विकसित देश की परिभाषा ऐसे देश से है जिसकी प्रति व्यक्ति आय 12,000 डॉलर सालाना हो. अगर हम नौ फीसदी की दर से विकास करे तब भी इसे हासिल करने में 22 साल लगेंगे.'

VIDEO: अर्थव्यवस्था में कौन बेहतर, मोदी या मनमोहन?



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement