NDTV Khabar

प्रियंका गांधी पहले एंट्री करतीं तो यूपी चुनाव में देखने को मिलता बड़ा असर- प्रशांत किशोर

प्रशांत किशोर ने कहा कि प्रियंका गांधी का कांग्रेस में शामिल होना एक 'बड़ी खबर' है, इससे लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ेगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
प्रियंका गांधी पहले एंट्री करतीं तो यूपी चुनाव में देखने को मिलता बड़ा असर- प्रशांत किशोर

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी. (फाइल तस्वीर)

खास बातें

  1. प्रशांत किशोर बोले- यह कांग्रेस के लिए बड़ी खबर
  2. 'इसे बढ़ेगा कांग्रेस कार्यकर्ताओं का मनोबल'
  3. राहुल-प्रियंका की तुलना से किया इनकार
नई दिल्ली:

जदयू (JDU) के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishor)का कहना है कि प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi Vadra) अगर तीन साल पहले सक्रिय राजनीति में आ जातीं तो 2017 के उत्तर प्रदेश चुनाव में बड़ा असर देखने को मिलता. एनडीटीवी से बात करते हुए किशोर ने कहा, 'जून 2016 तक प्रियंका गांधी के सक्रिय राजनीति में आने की काफी चर्चाएं थीं. ग्राउंड रिपोर्ट्स को देखते हुए हम में से बहुत लोग यह मानते थे कि उनकी एंट्री उत्तर प्रदेश में बड़ा प्रभाव डाल सकती है. यहां तक कि राहुल गांधी को भी इसका आइडिया था, लेकिन वजह जो भी रही हो, ऐसा हो नहीं पाया.' बता दें, प्रशांत किशोर यूपी विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के साथ बतौर रणनीतिकार जुड़े हुए थे. 

इसके साथ ही प्रशांत किशोर ने कहा कि प्रियंका गांधी का कांग्रेस में शामिल होना एक 'बड़ी खबर' है, इससे लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ेगा. प्रियंका की एंट्री से लोकसभा चुनाव पर असर पड़ने के सवाल पर प्रशांत किशोर ने कहा, 'चुनाव पर प्रियंका की एंट्री के असर पर टिप्पणी करना जल्दबाजी होगा. यह आंकना अभी मुश्किल है. अभी उन्होंने शुरुआत भी नहीं की है, ऐसी भविष्यवाणियों का कोई मतलब नहीं है.'


'मिशन: दुबई टू अमेरिका'... और प्रियंका गांधी की एंट्री, राहुल गांधी ने ऐसे लिखी 'पॉलिटिकल स्क्रिप्ट'

किशोर ने प्रियंका गांधी और राहुल गांधी की तुलना करने से मना कर दिया, उन्होंने कहा कि यह गलत होगा कि एक 20 साल से राजनीति कर रहे से अभी राजनीति में एंट्री करने वाली की तुलना करना. इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'यह सत्य है कि उन्होंने राजनीति में प्रवेश कर लिया है और अब वह वापस नहीं जाएंगी.' उन्होंने कहा कि प्रियंका जैसे लोग एक चुनाव के लिए राजनीति में नहीं आते. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक किशोर ने प्रियंका गांधी को यूपी का मुख्यमंत्री पद का दावेदार घोषित करने का दबाव बनाया था, लेकिन वह कांग्रेस नेतृत्व को वह मनाने में नाकाम रहे थे. 

बीजेपी की सहयोगी शिवसेना ने की प्रियंका गांधी की तारीफ, कहा- उनमें लोगों को इंदिरा गांधी की झलक दिखती है

इसके अलावा किशोर ने टि्वटर पर प्रियंका गांधी वाड्रा की कांग्रेस महासचिव के तौर पर नियुक्ति को ‘भारतीय राजनीति में बहुप्रतीक्षित पदार्पणों में से एक' बताया है. वर्षों की अटकलों पर विराम लगाते हुए प्रियंका गांधी वाड्रा बुधवार को औपचारिक रुप से राजनीति में उतरीं और पार्टी ने उन्हें महासचिव नियुक्त करते हुए पूर्वी उत्तर प्रदेश की कमान सौंपी है. इस कदम को आम चुनाव से पहले राज्य में पार्टी के पूरी तरह कमर कस लेने का संकेत माना जा रहा है.

प्रियंका गांधी वाड्रा रायबरेली से लड़ सकती हैं लोकसभा चुनाव : सूत्र

किशोर ने ट्वीट किया, ‘भारतीय राजनीति में बहुप्रतीक्षित पदार्पणों में से एक आखिरकार अब आया है. भले ही लोग इसके समय, उनकी ठीक-ठीक भूमिका और स्थिति पर बहस करें लेकिन मेरे लिए असल खबर यह है कि उन्होंने आखिरकर राजनीति में उतरने का फैसला किया. प्रियंका गांधी को बधाई और शुभकामनाएं.'

किशोर ने जदयू में शामिल होने से पहले उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के चुनावी रणनीतिकार के तौर पर काम किया था. प्रियंका गांधी वाड्रा की इस नियुक्ति को मास्टरस्ट्रोक के तौर पर देखा जा रहा है जिससे उत्तर प्रदेश में पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल ऊंचा होगा जहां कांग्रेस का प्रभाव पिछले कई सालों के दौरान घटता जा रहा है और समाजवादी पार्टी एवं बहुजन समाज पार्टी ने गठबंधन करने की घोषणा की है. प्रियंका गांधी वाड्रा हिंदी पट्टी उत्तर प्रदेश में अपने भाई कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मदद करेंगी, जहां लोकसभा की सर्वाधिक 80 सीटें हैं.

कांग्रेस के सियासी दांव पर संबित पात्रा का हमला: राजनीति में प्रियंका गांधी की एंट्री, राहुल गांधी की नाकामी है

वहीं, जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि प्रियंका पहले से ही कांग्रेस के भीतर सक्रिय और प्रभावशाली रही हैं, इसलिए उन्हें पार्टी में कोई पद दिए जाने का मामला बहुत महत्व नहीं रखता. भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने प्रियंका को बधाई तो दी लेकिन साथ ही कटाक्ष करते हुए कहा कि एक निजी कंपनी में सीएमडी किसी को किसी भी पद पर नियुक्त कर सकता है. 

राजद नेता और पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने इसे कांग्रेस के भीतर बेहतर बदलाव की संज्ञा देते हुए कहा कि प्रियंका अपनी दादी एवं दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से मिलती-जुलती हैं और उन्होंने उनके मूल्यों को भी आत्मसात किया है. इससे कांग्रेस और उसके सभी सहयोगियों की संभावनाएं प्रबल होंगी. 

प्रियंका गांधी को महासचिव बनाने पर बोले राहुल गांधी- उन्हें मिशन पर भेजा है, हमारे फैसले से BJP घबराई

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि अगर महागठबंधन का कोई घटक मजबूत होता है तो इससे पूरे गठबंधन को फायदा होगा. उधर, बिहार प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा, पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी और बिहार विधान परिषद में कांग्रेस सदस्य प्रेम चंद्र मिश्र द्वारा प्रियंका को पार्टी का राष्ट्रीय महासचिव नियुक्त किए जाने पर उन्हें बधाई दी.

प्रियंका गांधी बनीं कांग्रेस की महासचिव, रॉबर्ट वाड्रा बोले- जीवन के हर मोड़ पर साथ रहूंगा, पढ़ें और किसने क्या कहा

टिप्पणियां

VIDEO- प्राइम टाइम : कांग्रेस में कितनी ताक़त फूंक पाएंगी प्रियंका गांधी?

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement