NDTV Khabar

...तो केरल में बाढ़ की तबाही रोकी जा सकती थी! मौसम विभाग ने किया बड़ा दावा

मौसम विभाग ने कहा है कि अगस्त के पहले सप्ताह से ही सामान्य से अत्यधिक बारिश की पूर्व चेतावनी जारी कर दी गयी थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
...तो केरल में बाढ़ की तबाही रोकी जा सकती थी! मौसम विभाग ने किया बड़ा दावा

मौसम विभाग ने कहा है कि वेबसाइट, एसएमएस और ईमेल के अलावा नाउकास्ट प्रणाली से दी जा रही थी पूर्वानुमान की जानकारी.

खास बातें

  1. विभाग ने कहा- अगस्त के पहले सप्ताह से ही दी गई थी पूर्व चेतावनी
  2. समय समय पर हुई बैठकों में लगातार स्थिति से अवगत कराया गया था
  3. मुख्यमंत्री द्वारा आहूत उच्च स्तरीय बैठक में मामले को रखा गया था
नई दिल्ली : मौसम विभाग ने केरल में सामान्य से अत्यधिक बारिश होने के बारे में पहले से आगाह नहीं करने के राज्य सरकार के आरोप को खारिज करते हुये कहा है कि इस बारे में अगस्त के पहले सप्ताह से ही पूर्व चेतावनी जारी कर दी गयी थी. विभाग ने शनिवार को जारी बयान में कहा है कि केरल के मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन सहित राज्य सरकार के आला अधिकारियों के साथ समय समय पर हुई बैठकों में लगातार स्थिति से अवगत कराया जाता रहा है. उल्लेखनीय है कि हाल ही में विजयन ने राज्य में बाढ़ की आपादा के बारे में मौसम विभाग द्वारा पहले से सटीक जानकारी नहीं देने का केरल विधानसभा में आरोप लगाया था.

Kerala Flood: बाढ़ से तबाह केरल के लिए देशवासियों ने दिखाया बड़ा दिल, अब तक की इतने करोड़ की मदद 

विभाग ने कहा कि तिरुवनंतपुरम स्थित मौसम विभाग के कार्यालय ने अगस्त माह के शुरु में ही विभिन्न माध्यमों से प्रतिदिन चेतावनी देना शुरु कर दिया था. इनमें मौसम विभाग की वेबसाइट, एसएमएस और ईमेल के अलावा नाउकास्ट प्रणाली से केरल के प्रत्येक जिले के लिये अगले तीन घंटों की मौसम की जानकारी से राज्य सरकार के संबद्ध अधिकारियों को लगातार अवगत कराया गया. विभाग ने स्पष्ट किया कि नौ अगस्त को राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा आहूत उच्च स्तरीय बैठक में भी केरल में जबरदस्त मानसून और इस कारण होने वाली मूसलाधार बारिश की स्थिति का विस्तार से उल्लेख किया गया था. इतना ही नहीं राज्य के मुख्य सचिव और अतिरिक्त मुख्य सचिव (राजस्व एवं आपदा प्रबंधन) को इस बारे में विभाग द्वारा टेलीफोन पर मौखिक रूप से समय समय पर बारिश के पूर्वानुमान की जानकारी दी गयी. 

केरल में बाढ़ पर बोले राहुल गांधी: मुझे दुख है कि मोदी सरकार ने उतनी मदद नहीं की, जितनी करनी चाहिए थी 

विभाग ने कहा कि इसके पहले राज्य के जिलाधिकारियों को भी ‘डॉप्लर वेदर राडार डाटा’ के माध्यम से लगातार जानकारी दी गयी. इस दौरान राज्य के मुख्य सचिव, अतिरिक्त मुख्य सचिव (राजस्व एवं आपदा प्रबंधन), राज्य आपदा प्रबंधन और नौसेना के अधिकारियों को ईमेल के जरिये मौसम संबंधी सभी प्रकार की चेतावनियों से अवगत कराया गया. इसमें प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से भी मौसम विभाग ने आवश्यक जानकारी दी थी. विभाग ने कहा कि 10 अगस्त को राज्य आपदा प्रबंधन के सदस्य सचिव को और 14 अगस्त को कोवलम एवं तिरुवनंतपुरम के जिलाधिकारी को मूसलाधार बारिश के पूर्वानुमान से अवगत कराया गया था.

Kerala Flood Relief: Google केरल को करेगा 7 करोड़ की मदद, अब तक खोज चुका है 22 हजार लोगों को 

इससे पहले दो अगस्त को दिल्ली स्थित मौसम विभाग के मुख्यालय से राज्य में अगले दो सप्ताह के मौसम के अनुमान की जानकारी देते हुये दक्षिण प्रायद्वीपीय इलाकों में नौ से 15 अगस्त के बीच मूसलाधार बारिश होने की आशंका जतायी गयी थी. यह जानकारी केरल सहित सभी संबद्ध राज्यों के मुख्य सचिवों को अलग से भी ई मेल के जरिये भेजी गयी थी.साथ ही राज्य के इदुक्की में 14 अगस्त से होने वाली भारी बारिश का रेड अलर्ट 12 अगस्त को ही जारी कर दिया गया था. 

केरल के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए सुप्रीम कोर्ट के जजों के स्वरों की खुशबू महकी 

VIDEO : केरल की मदद के लिए एकजुट होने की जरूरत


टिप्पणियां



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement