NDTV Khabar

मोदी सरकार ने 4 साल में सरकारी योजनाओं के विज्ञापन पर खर्च किए 5245.73 करोड़

मोदी सरकार (Modi Govt) ने अपने कार्यकाल में अब तक सरकारी योजनाओं के प्रचार प्रसार में कुल 5245.73 करोड़ रुपये खर्च किए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मोदी सरकार ने 4 साल में सरकारी योजनाओं के विज्ञापन पर खर्च किए 5245.73 करोड़

अमित शाह और पीएम मोदी (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. मोदी सरकार ने विज्ञापन पर खर्च किए करीब 5000 करोड़ रुपये
  2. राज्यवर्धन सिंह राठौर ने लोकसभा में जानकारी दी.
  3. 2014 से 2018 तक का आंकड़ा है.
नई दिल्ली:

मोदी सरकार (Modi Govt) ने अपने कार्यकाल में अब तक सरकारी योजनाओं के प्रचार प्रसार में कुल 5245.73 करोड़ रुपये खर्च किए हैं. दरअसल, केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने गुरुवार को लोकसभा में संबोधित करते हुए बताया कि केंद्र सरकार ने सरकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार में कुल 5245.73 करोड़ रुपये खर्च किए हैं. यह धनराशि वर्ष 2014 से लेकर सात दिसंबर 2018 तक की अवधि के दौरान खर्च हुई है. 

पीएम मोदी ने किसानों की कर्जमाफी के मुद्दे पर साधा कांग्रेस पर निशाना

लोकसभा में इस मामले से जुड़े एक सवाल का जवाबा देते हुए राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि विभिन्न मंत्रालयों और विभागों की योजनाओं को लाभार्थियों के बीच पहुंचाने के लिए इस राशि को खर्च किया गया है. इन योजनाओं के बारे में प्रचार और जागरूकता के लिए प्रिंट, इलेक्ट्रोनिक और आउटडोर मीडिया का सहारा लिया गया है.


धर्मशाला में कांग्रेस पर गरजे पीएम मोदी, कहा- हम पुरानी सरकार से 50 हजार करोड़ ज्यादा देते हैं

केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह ने सरकार की ओर से प्रचार पर खर्च की गई राशि की जानकारी लोकसभा में दी और बताया कि प्रचार-प्रसार में सर्वाधिक खर्च वर्ष 2017-18 में खर्च किया गया, इस वर्ष कुल 1313.57 करोड़ रुपए खर्च किए गये. जिसमें से 636.09 करोड़ रुपए प्रिंट माध्यम, 468.93 करोड़ इलेक्ट्रॉनिक माध्यम, 208.55 करोड़ रुपए आउटडोर पब्लिसिटी पर खर्च किए गए हैं. बता दें कि सरकार ने जो आंकड़ा जारी किया है, वह 7 दिसंबर तक 2018 तक का है. 

 

POLL: 2018 का सबसे पसंदीदा राजनेता कौन...?

j5bhvrcमोदी सरकार ने चार साल में जो प्रचार में खर्च किए हैं, उसके आंकड़े (स्रोत-एएनआई)
 
 
 
सरकार द्वारा जारी आंकड़े पर गौर करें तो साल 2014-15 में सरकार ने करीब 980 करोड़ (979.78 करोड़) रुपये विज्ञापनों पर ख़र्च किए थे. 2017-18 आते-आते इसमें करीब 33-35 फीसदी का इजाफा हुआ और यह रक़म बढ़कर करीब 1,314 करोड़ रुपये (1313.57) हो गई. सरकार ने बताया है कि विभिन्न मंत्रालयों और विभागों की योजनाओं के प्रचार पर सूचना, शिक्षा और संचार के माध्यम से खर्च किए गए हैं. (इनपुट एएनआई)
टिप्पणियां

 

VIDEO: मिशन 2019 : किसानों को संकट से कैसे निकालें?


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement