NDTV Khabar

मुजफ्फरनगर हादसा: ट्रेन एक्‍सीडेंट के पीछे उभर रहे कई एंगल

इस संबंध में NDTV इंडिया की पड़ताल में परस्‍पर विरोधी बातें निकलकर आ रही हैं. दरअसल स्‍थानीय लोगों के मुताबिक ट्रैक पर काम चल रहा था.

337 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुजफ्फरनगर हादसा: ट्रेन एक्‍सीडेंट के पीछे उभर रहे कई एंगल

शनिवार शाम उत्‍कल एक्‍सप्रेस के पटरी से उतरने के चलते 21 लोगों की मौत हुई.

खास बातें

  1. उत्‍कल एक्‍सप्रेस के पटरियों से उतरने के कारण 21 लोगों की जानें गईं
  2. स्‍थानीय लोगों के मुताबिक ट्रैक पर काम चल रहा था
  3. खतौली स्‍टेशन के मुताबिक उनको इसकी जानकारी नहीं थी
खतौली: मुजफ्फरनगर के खतौली में उत्‍कल एक्‍सप्रेस के पटरियों से उतरने के बाद सवाल उठ रहे हैं कि इस भीषण हादसे की आखिर वजह क्‍या रही? इस संबंध में NDTV इंडिया की पड़ताल में परस्‍पर विरोधी बातें निकलकर आ रही हैं. दरअसल स्‍थानीय लोगों के मुताबिक ट्रैक पर काम चल रहा था. ट्रेन आने से पहले मरम्‍मत का काम करने वाले ट्रैक से हट गए. इस पर खतौली स्‍टेशन के सुपरिटेंडेंट राजेंद्र सिंह ने कहा कि हमको किसी ट्रैक रिपेयर की जानकारी नहीं थी. अगर कोई रिपेयर का काम होगा तो वो इंजीनियरिंग विभाग को पता होगा, हमको जानकारी नहीं थी. हमारी ओर से कोई गलती नहीं हुई, कोई सिग्‍नल गलत नहीं दिया गया.

पढ़ें: मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसा: मेरठ लाइन पर ट्रेनें शाम छह बजे तक रद्द, रूट में चेंज

इसके उलट मुजफ्फरनगर इंजीनियरिंग विभाग का कहना है कि ट्रैक पर निश्चित रूप से काम चल रहा था. स्टेशन को बताया गया था कि ट्रैक असुरक्षित है. Blued जॉइंट की प्लेट क्रैक थी. उसको ठीक करने के लिए 20 मिनट का ब्लॉक मांगा गया था यानी 20 मिनट तक कोई ट्रेन वहां से ना गुज़रे ये मांग की गई थी. मामले की जांच कर रही पुलिस का इस पर कहना है कि शुरुआती जांच में ऐसा लग रहा है कि ट्रैक पर काम चल रहा था. लेकिन पड़ताल के बाद ही सारी बात सामने आएगी और एफआईआर दर्ज की जाएगी. इसके साथ ही नार्थर्न रेलवे के जनरल मैनेजर आर के कुलश्रेष्ठ ने कहा, 'जैसा कि आपको मालूम है यहां काम चल रहा था'

पढ़ें: मुज़फ्फरनगर ट्रेन हादसा: ये हैं जरूरी हेल्प लाइन नंबर

उल्‍लेखनीय है कि हरिद्वार से पुरी के बीच चलने वाली कलिंग उत्‍कल एक्‍सप्रेस शनिवार शाम दुर्घटनाग्रस्‍त हो गई. उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के खतौली के पास हुए इस हादसे में ट्रेन की 14 बोगियां पटरी से उतर गई जिसके कारण 21 यात्रियों की मौत हो गई जबकि 97 अन्‍य घायल हो गए. हादसे के कारण का अभी तक पता नहीं चल सका है.

VIDEO: खतौली के सुपरिटेंडेंट ने मरम्‍मत की जानकारी होने से इनकार किया

कम नहीं हुई ट्रेन की स्पीड
हादसे में जिन लोगों के घर को नुकसान पहुंचा है उनमें से एक जगत राम ने NDTV से बातचीत के दौरान बताया की रेल ट्रैक पर पिछले 2 दिनों से काम चल रहा था. स्थानीय लोगों को इस बात की आशंका भी है कि उत्कल एक्सप्रेस के ड्राइवर को इस बारे में जानकारी नहीं दी गई थी. जगत राम ने बताया कि उत्कल एक्सप्रेस से कुछ ही देर पहले 2 ट्रेनें इस ट्रैक से होकर गुजरी थी. जिसकी स्पीड काफी कम थी. उन्होंने बताया कि जब उत्कल एक्सप्रेस यहां से गुजरी तब ट्रेन की स्पीड कम नहीं हुई.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement