NDTV Khabar

वित्त राज्य मंत्री गंगवार ने बताया - करीब 11.44 लाख पैन कार्ड डीएक्टिवेट किए गए

वित्त राज्यमंत्री संतोष कुमार गंगवार ने मंगलवार को संसद को सूचित किया कि 11.44 लाख से अधिक पैन कार्ड या तो बंद कर दिए गए हैं या निष्क्रिय कर दिए गए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
वित्त राज्य मंत्री गंगवार ने बताया - करीब 11.44 लाख पैन कार्ड डीएक्टिवेट किए गए

पैन कार्ड

नई दिल्ली:

वित्त राज्यमंत्री संतोष कुमार गंगवार ने मंगलवार को संसद को सूचित किया कि 11.44 लाख से अधिक पैन कार्ड या तो बंद कर दिए गए हैं या निष्क्रिय कर दिए गए हैं। ऐसा उन मामलों में किया गया है जहां किसी व्यक्ति को एक से अधिक पैन कार्ड आवंटित कर दिए गए थे.

गंगवार ने राज्यसभा में लिखित जवाब में बताया, "27 जुलाई तक 11,44,211 ऐसे पैन की पहचान की गई जिनमें पाया गया कि किसी एक ही व्यक्ति को एक से अधिक पैन जारी कर दिए गए हैं, अब उन्हें या तो बंद कर दिया गया या निष्क्रिय कर दिया गया." उन्होंने कहा, "पैन आवंटन का नियम है प्रति व्यक्ति एक पैन". गंगवार ने बताया कि 27 जुलाई तक 1,566 फर्जी पैन की पहचान की गई.
 
 31 अगस्त तक आधार से लिंक कराएं पैन कार्ड
सरकार करदाताओं से 31 अगस्त तक आधार को पैन से जोड़ने के लिए कहा है. 31 अगस्त तक आधार से पैन कार्ड लिंक नहीं होने पर रद्द कर दिया जएगा. आयकर विभाग ने ट्वीट किया, "करदाताओं को आ रही परेशानियों के मद्देजर, साल 2016-17 के लिए आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि बढ़ाकर पांच अगस्त कर दी गई है."  

यह भी पढ़ें : अब फॉर्म भरकर भी आधार को पैन कार्ड से जोड़ा जा सकता है : आयकर विभाग


टिप्पणियां

VIDEO : अब 5 अगस्त तक करें रिटर्न फाइल

एक प्रश्न के जवाब में गंगवार ने कहा कि नोटबंदी के बाद लगभग 900 समूहों के यहां छापेमारी की गई जिसमें में करीब 900 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की गई और करीब 7961 करोड़ रुपये की अघोषित आय का पता चला है. ये आंकडें नवंबर 2016 से मार्च 2017 के दौरान की गई छापेमारी के हैं. इसके अलावा 8239 सर्वे किए गए हैं जिसमें 6745 करोड़ की अघोषित आय का पता चला है. उन्होंने आगे बताया कि हेराफेरा करने वाले करीब 400 लोगों की जानकारी ईडी और सीबीआई के बीच साझा की गई है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement