NDTV Khabar

त्रेता युग की दिवाली को अयोध्या में ऐसे दोहराएंगे सीएम योगी आदित्यनाथ, जानें क्या है मामला

चूंकि राम सरयू से होकर वापस लौटे थे इसलिए सरयू के किनारे दीये जलाए जाएंगे. लाखों दीये रोशन करके सरयू में तैराये जाएंगे और सरयू की आरती भी होगी.

209 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
त्रेता युग की दिवाली को अयोध्या में ऐसे दोहराएंगे सीएम योगी आदित्यनाथ, जानें क्या है मामला

दिवाली पर रोशनी में नहाएगी अयोध्या नगरी

खास बातें

  1. दिवाली पर अयोध्या में होंगे योगी आदित्यनाथ
  2. सरयू किनारे लाखों दीपक जलाए जाएंगे
  3. प्राचीन इमारतों पर होगा खास रोशनी का इंतजाम
लखनऊ: दिवाली में भगवान राम के अयोध्या आने के मौके पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अयोध्या को रोशनी से सजाएंगे. कहते हैं कि त्रेता में जब राम लंका पर विजय हासिल करके अपनी राजधानी अयोध्या लौटे तो वहां दिवाली मनाई गई. त्रेता की उसी दिवाली को योगी इस साल 18 अक्टूबर को छोटी दिवाली के दिन अयोध्या में फिर दोहराएंगे. 

राम जन्मभूमि केस के पक्षकार महंत भास्कर दास का निधन, ब्रेन स्ट्रोक के बाद हॉस्पिटल में भर्ती करवाए गए थे

चूंकि राम सरयू से होकर वापस लौटे थे इसलिए सरयू के किनारे दीये जलाए जाएंगे. लाखों दीये रोशन करके सरयू में तैराये जाएंगे और सरयू की आरती भी होगी. सरयू के किनारे बने सारे मंदिरों और प्राचीन इमारतों पर रोशनी की जाएगी और वहां राम कथा से जुड़े हुई नृत्य नाटिकाएं और सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे.

अयोध्‍या विवाद: शिया वक्‍फ बोर्ड समझौते के लिए अयोध्‍या पहुंचा

यूपी के पर्यटन विभाग के प्रमुख सचिव अवनीश अवस्थी ने एनडीटीवी को बताया कि इसके जरिए धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की भी कोशिश है. इसी दिन मुख्यमंत्री अयोध्या और दूसरे धर्म स्थानों के लिए कुछ य़ोजनाएं भी लॉन्च कर सकते हैं, जिसमें तीर्थ स्थानों के लिए हेलीकॉप्टर सेवा भी हो सकती है.

शिया नेता बोले- अयोध्या विवाद सुलझने नहीं दे रहा पाकिस्तान
इसके अलावा अयोध्या में कनक भवन, हनुमान गढ़ी समेत भगवान राम से जुड़े हुए सभी स्थानों पर रोशनी की जाएगी. इस काम में अयोध्या के साधु संतों और महंतों को भी शामिल किया जा रहा है. इस मौके पर मुख्यमंत्री और राज्यपाल रामनाइक और योगी मंत्रिमंडल के तमाम सहयोगी भी अयोध्या में मौजूद रहेंगे. हालांकि विवादित स्थान जहां रामलला का अधबना मंदिर मौजूद है वो इस रोशनी से महरूम रहेगा, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के आदेश से वहां कोई नई परंपरा नहीं डाली जा सकती. 
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement