NDTV Khabar

शंकराचार्य स्वरूपानंद ने राहुल गांधी के पीएम मोदी को झप्पी देने का किया समर्थन, दिया ये बयान

बीजेपी राम मंदिर बनवाना नहीं चाहती है बल्कि उसका का उद्देश्य राम मंदिर के नाम पर सत्ता हासिल करना है. यह कहना हैं द्वारका के शंकराचार्य जगदगुरु स्वरूपानंद सरस्वती का.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शंकराचार्य स्वरूपानंद ने राहुल गांधी के पीएम मोदी को झप्पी देने का किया समर्थन, दिया ये बयान

फाइल फोटो

खास बातें

  1. बीजेपी का उद्देश्य राम मंदिर के नाम पर सत्ता हासिल करना है
  2. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की वह सराहना की
  3. बीजेपी और मोदी-योगी सरकारें रहीं निशाने पर
नई दिल्ली:

बीजेपी राम मंदिर बनवाना नहीं चाहती है बल्कि उसका का उद्देश्य राम मंदिर के नाम पर सत्ता हासिल करना है. यह कहना हैं द्वारका के शंकराचार्य जगदगुरु स्वरूपानंद सरस्वती का. रविवार को चातुर्मास प्रवास के लिए वृंदावन आए शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती के निशाने पर जहां बीजेपी और मोदी-योगी सरकारें रहीं, वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की वह सराहना कर गए. उन्‍होंने कहा कि संसद में सरकार के खिलाफ विपक्ष द्वारा पेश किए अविश्वास प्रस्ताव के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा प्रधानमंत्री को झप्पी दिए जाने वाले व्यवहार का समर्थन करते हुए कहा कि वह (राहुल गांधी) सरकार की नीतियों के विरोध में हैं, न कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरोध में.

पीएम मोदी ने बताया- राहुल गांधी ने संसद में उन्हें क्यों लगाया था गले, जानें वजह


शंकराचार्य ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि बीजेपी राम मंदिर बनवाना नहीं चाहती है. वह आगामी लोकसभा चुनाव में राम मंदिर के नाम पर सत्ता पाना चाहती है. उन्होंने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि सरकार राम मंदिर के मुद्दे पर गुमराह कर रही है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार गोहत्या रोकने, धारा 370 और समान सिविल कोड जैसे कानून नहीं बना सकी है.

पीएम मोदी से राहुल के गले मिलने पर यशवंत सिन्हा को मिला 'तंज' कसने का एक और मौका

शंकराचार्य स्वरूपानंद ने संसद में दिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भाषण की सराहना की और कहा कि लोकसभा में राहुल गांधी ने पप्पू कहने का विरोध नहीं बल्कि बीजेपी की नीतियों का विरोध किया है. 27 जुलाई से शुरू हो रहे चातुर्मास व्रत के लिए पहली बार वृदावन आए शंकराचार्य ने कहा कि ब्रज की पावन भूमि भक्ति और मोक्ष के साथ-साथ शक्ति और शांति भी देती है.

शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा, कार सेवकों ने मस्जिद नहीं, मंदिर तोड़ा था

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण से जुड़े सवाल पर शंकराचार्य ने कहा, ‘भाजपा झूठ बोलती है कि केंद्र में उसकी सरकार है तो वह मंदिर बना सकती है. क्योंकि, संविधान के अनुसार सरकार धर्मनिरपेक्ष होती है. वह किसी एक धर्म विशेष का पक्ष लेकर मंदिर, मस्जिद, चर्च या गुरुद्वारा नहीं बना सकती, लेकिन फिर भी बीजेपी चुनावों में इसी प्रकार के वादे कर वोट बटोरती आ रही है.’    तीन तलाक की समस्या का निदान सुझाते हुए उन्होंने कहा, ‘यदि मोदी सरकार इस समस्या का वास्तविक एवं स्थाई निदान करना ही चाहती है तो मुसलमानों को चार बीवियां रखने का अधिकार वापस ले ले. क्योंकि वे इसी कारण पत्नी का महत्व नहीं समझते. हिन्दुओं के समान एक पत्नी रखने की बाध्यता रहेगी तो यह समस्या स्वतः ही जड़ से समाप्त हो जाएगी.’

टिप्पणियां

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार से नाराजगी प्रकट करते हुए द्वारका-शारदापीठ के शंकराचार्य ने कहा कि संत समाज का प्रतिनिधि होने के चलते योगी आदित्यनाथ से बहुत आशाएं थीं कि वह तो संत समाज की आस्थाओं के अनुसार कार्य करेंगे ही, लेकिन अफसोस है कि वह भी इसके बिल्कुल उलट कार्य कर रहे हैं. वह स्वयं मंदिर और प्राचीन विग्रहों को तोड़ने जैसा कार्य करा रहे हैं. पंद्रह मई की शाम वाराणसी में एक निर्माणाधीन पुल गिरने की घटना के संबंध में उन्होंने कहा कि काशी में प्राचीन देव-विग्रह और मंदिर तोड़े जा रहे हैं. इससे संतों के साथ आमजन की भावनाएं भी आहत हुई हैं. इसी का परिणाम है कि काशी में पुल गिर गया.’    

VIDEO: जब सदन में पीएम मोदी से गले मिल राहुल गांधी ने दी 'जादू की झप्पी'

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement