NDTV Khabar

देर से दस्तक देगा मानसून, केरल में 7 जून तक आने की संभावना: स्काईमेट

पहले स्काईमेट ने कहा था, केरल में मानसून 4 जून के आस-पास पहुंचेगा लेकिन अब स्काईमेट ने कहा, ताजा मौसम के हालात संकेत दे रहे हैं कि मानसून की शुरुआत अब 7 जून के आस-पास होगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
देर से दस्तक देगा मानसून, केरल में 7 जून तक आने की संभावना: स्काईमेट

खास बातें

  1. मानसून के केरल में 7 जून तक आने की संभावना
  2. स्काईमेट के मुताबिक 2 दिन आगे-पीछे हो सकते हैं
  3. पहले अनुमान था कि 4 जून तक आएगा मानसून
नई दिल्ली:

मानसून की सुस्त गति की वजह से केरल में होने वाली इसकी शुरुआत में देरी हो रही है. मौसम की भविष्यवाणी करने वाली प्राइवेट कंपनी स्काईमेट (Skymet) ने बताया, 'मानसून की पूर्वानुमान तिथि को संशोधित किया जा रहा है.' इससे पहले स्काईमेट ने कहा था, केरल में मानसून (Monsoon) 4 जून के आस-पास पहुंचेगा लेकिन अब स्काईमेट ने कहा, 'ताजा मौसम के हालात संकेत दे रहे हैं कि मानसून की शुरुआत अब 7 जून के आस-पास होगी, जिसमें 2 दिन आगे-पीछे हो सकते हैं. वहीं भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने कहा, 'केरल में मानसून के 6 जून तक आने की संभावना है जिसमें 4 दिन आगे-पीछे हो सकते हैं.' स्काईमेट मौसम विभाग के अध्यक्ष जीपी शर्मा ने कहा, 'मानसून की गति बदल रही है. स्थिति को पहले जैसा होने में कुछ और दिन लगेंगे.' शर्मा ने मानसून की सुस्त गति के 3 कारण बताए. उन्होंने कहा, 'अफ्रीका के हॉर्न पर सोमालिया तट से कम दबाव का क्षेत्र बन गया है, जो हवा के पैटर्न को नियंत्रित कर रहा है.'

ये भी पढ़ें: NDTV Exclusive: महाराष्ट्र में गंभीर सूखे के आसार, सेंट्रल वाटर कमीशन ने चेताया


उन्होंने कहा, 'एक एंटी-साइक्लोन उच्च दबाव प्रणाली हवा को और अधिक धीमा बना रही है. अरब सागर नॉर्थईस्ट हवाओं को धकेल रहा है जो कि पश्चिमी तट के साथ बह रही हैं. ये हवाएं तट पर बारिश देने में सहायक नहीं हैं. मानसून के बढ़ने की शुरुआत के लिए सोमाली जेट घटना भी बहुत महत्वपूर्ण है.सोमाली जेट मजबूत हवाओं का मूल है जो केन्या से निकलती है और अंत में हिंद महासागर क्षेत्र में प्रवेश करती है और केरल की ओर बढ़ती है.'

टिप्पणियां

ये भी पढ़ें: मौसम का पूर्वानुमान : देरी से दस्तक देगा मानसून, औसत से कम होगी बारिश; सूखे का संकट

मानसून ने 18 मई को अंडमान और निकोबार द्वीपों पर उपस्थिति दर्ज कराई थी, जो कि संभावित तारीख 20 मई से थोड़ा पहले है. शर्मा ने कहा, 'इसकी प्रगति बेहद सुस्त बनी हुई है.' 27 मई तक, मानसून वृद्धि ने अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के कुछ और हिस्सों को कवर किया और 30 मई तक, पोर्ट ब्लेयर सहित बंगाल की खाड़ी और द्वीपों के एक महत्वपूर्ण हिस्से को कवर किया. स्काईमेट ने कहा, 'आमतौर पर, 25 मई तक, मॉनसून की उत्तरी सीमा (एनएलएम) पोर्ट ब्लेयर के साथ-साथ श्रीलंका को भी कवर करती है.' 



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement