CAA पर संसद में हंगामा, बीजेपी सांसद ने कहा - विपक्ष ने संसद को भी शाहीन बाग बना दिया

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने विपक्षी सदस्यों से अपने स्थान पर जाने और राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान सभी विषय उठाने का आग्रह किया लेकिन कांग्रेस और वाम दलों के सदस्य पूरे समय हंगामा करते रहे और अध्यक्ष ने शोर-शराबे के बीच ही प्रश्नकाल पूरा कराया.

CAA पर संसद में हंगामा, बीजेपी सांसद ने कहा - विपक्ष ने संसद को भी शाहीन बाग बना दिया

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

CAA और NPR के विरोध में सोमवार को विपक्षी दलों ने राज्यसभा और लोकसभा में जमकर हंगामा किया. जामिया इलाक़े में हुई गोलीबारी के मुद्दे को भी उठाने की कोशिश की गई. लेकिन हंगामे की वजह से राज्यसभा को दोपहर तक के लिए स्थगित कर दिया गया. बाद में उसे मंगलवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया. वहीं लोकसभा में प्रश्नकाल नहीं चल सका और जब राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा शुरू हुई तो विपक्ष ने सदन से वॉकआउट किया.

संसद को दोनों सदनों में नागरिकता संशोधन क़ानून को लेकर विपक्ष ने जमकर हंगामा किया. इस पर बीजेपी के राज्यसभा सांसद शिव प्रताप शुक्ला ने कहा कि विपक्ष ने संसद को भी शाहीन बाग बना दिया है. इस पर AIMIM के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने पलटवार किया. उन्‍होंने कहा कि शिव प्रताप शुक्ला का बयान उनके फ्रस्ट्रेशन की निशानी है. वो अगर संसद के नियमों को पढ़ते तो ऐसी वाहियात बात नहीं करते. संसद में विरोध करने का विपक्ष के पास पूरा अधिकार है. उन्‍होंने कहा कि 'शाहीन बाग में चल रहा प्रदर्शन जनता का प्रदर्शन है और यह चलता रहेगा. अगर बीजेपी सोच रही है कि यह कोई राजनीतिक प्रदर्शन है तो यह उसकी भूल है.'

पूर्व वित्त राज्‍य मंत्री शिव प्रताप शुक्‍ला ने NDTV से कहा, 'एक तरफ विपक्ष द्वारा प्रायोजित विरोध शाहीन बाग में हो रहा है और दूसरी तरफ विपक्ष ने संसद को भी शाहिन बाग बना दिया है. मैं यह आरोप नहीं लगा रहा हूं. यहां भी विपक्ष की वही रणनीति है. एक शाहीन बाग संसद में भी बना रहा है.'

नागरिकता कानून को लेकर सड़क से संसद तक हंगामा थमता नहीं दिख रहा है. सोमवार को इस कानून को लेकर लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस समेत विपक्षी सदस्यों ने संशोधित नागरिकता कानून, राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के विरोध में नारेबाजी की और विपक्षी सदस्य वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर का विरोध करते देखे गए. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने विपक्षी सदस्यों से अपने स्थान पर जाने और राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान सभी विषय उठाने का आग्रह किया लेकिन कांग्रेस और वाम दलों के सदस्य पूरे समय हंगामा करते रहे और अध्यक्ष ने शोर-शराबे के बीच ही प्रश्नकाल पूरा कराया. सुबह सदन की कार्यवाही शुरू होने पर लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने जैसे ही प्रश्नकाल शुरू करने को कहा, वैसे ही कांग्रेस के सदस्य नारेबाजी करते हुए अध्यक्ष के आसन के निकट पहुंच गए. कई सदस्यों ने ‘लोकतंत्र बचाओ', ‘भारत बचाओ' और ‘नो सीएए-एनआरसी-एनपीआर'के नारे वाली तख्तियां ले रखी थीं. इस दौरान द्रमुक, सपा, बसपा और राकांपा के सदस्य अपने स्थान पर खड़े होकर कांग्रेस सदस्यों का समर्थन करते नजर आए.

पूर्व IPS अधिकारी को AMU जाने से पुलिस ने रोका, CAA विरोधी प्रदर्शन को करना था संबोधित

शोर-शराबे के बीच प्रश्नकाल में वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर जब वित्त मंत्रालय से संबंधित पूरक प्रश्नों का उत्तर देने के लिए खड़े हुए तो कांग्रेस सदस्यों ने ‘अनुराग ठाकुर वापस जाओ', ‘अनुराग ठाकुर शेम शेम' और ‘गोली मारना बंद' करो के नारे लगाए. जब भी ठाकुर पूरक प्रश्नों का उत्तर देने के लिए खड़े होते, विरोध में कांग्रेस सदस्य नारे लगाने लगते. जाहिर है कि विपक्षी सदस्य दिल्ली विधानसभा चुनाव के प्रचार के दौरान ठाकुर की एक विवादास्पद टिप्पणी की ओर इशारा करते हुए नारेबाजी कर रहे थे. उक्त टिप्पणी के लिए चुनाव आयोग ने ठाकुर के तीन दिन तक चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी थी. विपक्ष के सदस्य ‘चाहिए आजादी, एनआरसी से आजादी' जैसे नारे भी लगा रहे थे.

असफल बीजेपी सरकार देश को सीएए, एनपीआर और एनआरसी जैसे मुद्दों में उलझाया : गुलाम नबी आजाद

लोकसभा अध्यक्ष ने सदस्यों से प्रश्नकाल चलने देने की अपील करते हुए कहा कि सदन में चर्चा करने से संविधान और लोकतंत्र बचेगा. आप यहां चर्चा करने के लिये आए हैं. उन्होंने विपक्षी सदस्यों से अपने स्थान पर जाने का आग्रह करते हुए कहा कि आप सारे मुद्दे उठा सकते हैं. राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान सारे विषय उठाये जा सकते हैं. मैं सभी को पर्याप्त समय दूंगा. बिरला ने कहा कि ‘सदस्य लोकतंत्र की मर्यादा बनाये रखने के लिए अपने स्थानों पर जाएं. हालांकि कांग्रेस और वामदलों के सदस्य आसन के समीप खड़े होकर ही नारेबाजी करते रहे. प्रश्नकाल में स्पीकर ने द्रमुक सदस्य टी सुमति को पूरक प्रश्न पूछने के लिए कहा. वह प्रश्न पूछना चाह रही थीं.

मुजफ्फरनगर में सीएए विरोधी प्रदर्शन के दौरान हिंसा भड़काने के लिए पीएफआई के चार सदस्य गिरफ्तार

हालांकि कांग्रेस के सदस्य उन्हें बैठने का इशारा करते हुए देखे गए. सदन में द्रमुक के नेता टी आर बालू ने सुमति को प्रश्न पूछने का इशारा किया लेकिन जब उन्होंने अपनी बात रखना शुरू किया तो सदन में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी उन्हें बैठने और प्रश्न नहीं पूछने का इशारा करते हुए दिखे. असमजंस की इस स्थिति में सुमति अपने स्थान पर बैठ गयीं. इस दौरान द्रमुक सदस्य अपने स्थान पर ही खड़े होकर सीएए, एनपीआर जैसे मुद्दों के विरोध में खड़े थे.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com