NDTV Khabar

Google Doodle: अपने साथियों के लिए वैज्ञानिक से भी बढ़कर थे विक्रम साराभाई

विक्रम साराभाई (Vikram Sarabhai) अपने दौर के उन गिने-चुने वैज्ञानिकों में से एक थे जो अपने साथ काम करने वाले वैज्ञानिकों और खासकर युवा वैज्ञानिकों को आगे बढ़ने में मदद करते थे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Google Doodle: अपने साथियों के लिए वैज्ञानिक से भी बढ़कर थे विक्रम साराभाई

भारतीय वैज्ञानिक विक्रम साराभाई को गूगल ने अपना डूडल बनाया

खास बातें

  1. विक्रम साराभाई को गूगल ने बनाया अपना डूडल
  2. आज है विक्रम साराभाई की 100वीं जयंती
  3. भारत के महान वैज्ञानिकों में से एक हैं साराभाई
नई दिल्ली:

विक्रम साराभाई (Vikram Sarabhai) को उनकी 100वीं जंयती पर Google Doodle बनाया गया है. वह भारत के सबसे महान वैज्ञानिकों में से एक थे. उनका जन्म 12 अगस्त 1919 को हुआ था. विक्रम साराभाई (Vikram Sarabhai) अपने दौर के उन गिने-चुने वैज्ञानिकों में से एक थे जो अपने साथ काम करने वाले वैज्ञानिकों और खासकर युवा वैज्ञानिकों को आगे बढ़ने में मदद करते थे. यही वजह थी कि उन्हें (Vikram Sarabhai) एक बेहतर लीडर भी माना जाता था. साराभाई ने 1947 में अहमदाबाद में भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला (पीआरएल) की स्थापना की थी. बता दें कि गूगल अलग-अलग क्षेत्र की उन बड़ी हस्तियों को Google Doodle बना कर श्रद्धांजलि अर्पित करता है जिन्होंने समाज के लिए बड़ा योगदान दिया है.

Google Doodle: चांद पर कैसे पहुंचे नील आर्मस्ट्रॉन्ग, 5 मिनट के इस वीडियो में देखें Apollo 11 का पूरा सफर


साराभाई (Vikram Sarabhai) के पिता उद्योगपति थे और भौतिक विज्ञान के अध्ययन-अनुसंधान के इस केंद्र के लिए उन्होंने अपने पिता से ही वित्तीय मदद मिली थी. उस समय साराभाई की उम्र महज 28 साल थी लेकिन कुछ ही सालों में उन्होंने पीआरएल को विश्वस्तरीय संस्थान बना दिया. साराभाई को उनके बेहतर काम के लिए वर्ष 1966 में पद्म विभूषण सम्मान से भी नवाजा गया था.

Google Doodle: LGBTQ+ Pride के लिए गूगल ने बनाया 3D Doodle, जानें इतिहास और खास बातें

बता दें कि साराभाई (Vikram Sarabhai) को भारतीय स्पेस प्रोग्राम का जनक भी माना जाता है. उन्हें 1962 में शांति स्वरूप भटनागर मेडल से भी सम्मानित किया गया था. 30 दिसंबर, 1971 को उनकी मृत्यु उसी स्थान के नजदीक हुई थी जहां उन्होंने भारत के पहले रॉकेट का परीक्षण किया था. दिसंबर के आखिरी हफ्ते में वे थुंबा में एक रूसी रॉकेट का परीक्षण देखने पहुंचे थे और यहीं कोवलम बीच के एक रिसॉर्ट में रात के समय सोते हुए उनकी मृत्यु हो गई. 

VIDEO: इसे बनाया गया गूगल डूडल

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement