वर्ल्ड फूड प्रोग्राम को मिला 2020 का नोबेल शांति पुरस्कार

नॉर्वे की नोबेल समिति ने 2020 के नोबेल शांति पुरस्कार (Nobel Peace Prize 2020) का ऐलान कर दिया है. 'वर्ल्ड फूड प्रोग्राम' (World Food Programme) को शांति पुरस्कार दिया गया है.

वर्ल्ड फूड प्रोग्राम को मिला 2020 का नोबेल शांति पुरस्कार

'वर्ल्ड फूड प्रोग्राम' को नोबेल शांति पुरस्कार 2020 मिला.

खास बातें

  • 'वर्ल्ड फूड प्रोग्राम' को नोबेल शांति पुरस्कार
  • ओस्लो में की गई शांति पुरस्कार की घोषणा
  • शांति पुरस्कार के लिए 318 उम्मीदवार थे
ओस्लो:

नॉर्वे की नोबेल समिति ने 2020 के नोबेल शांति पुरस्कार (Nobel Peace Prize 2020) का ऐलान कर दिया है. 'वर्ल्ड फूड प्रोग्राम' (World Food Programme) को शांति पुरस्कार दिया गया है. 'वर्ल्ड फूड प्रोग्राम' को प्रभावित क्षेत्रों में भुखमरी से लड़ने व शांति कायम करने से जुड़े सराहनीय कार्यों के चलते शांति पुरस्कार दिया गया है. ओस्लो में यह घोषणा की गई. नोबेल समिति अपने पसंदीदा उम्मीदवार को लेकर पूरी गोपनीयता बरतती है. इसके बावजूद विजेता की घोषणा से पहले अटकलें लगती रहती हैं.

इस बार, अटकलें लगाई जा रही थीं कि इस साल का शांति पुरस्कार जलवायु कार्यकर्ता एवं स्वीडन की नागरिक ग्रेटा थनबर्ग, नर्व एजेंट हमले से उबर रहे रूस के नेता अलेक्सेई नवलनी और कोरोना वायरस संकट से निपटने में भूमिका के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन में से किसी को दिया जा सकता है. नवलनी ने अपने ऊपर हमले के लिए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पर आरोप लगाया है.

अमेरिकी कवि लुई ग्लक को मिला 2020 का साहित्य का नोबेल पुरस्कार

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) का भी मानना था कि उन्हें यह पुरस्कार दिया जाना चाहिए. इस पुरस्कार के लिए 318 उम्मीदवार थे, जिनमें से 211 व्यक्ति और 107 संगठन शामिल थे. नामांकन के लिए अंतिम समय सीमा 1 फरवरी, 2020 थी. इसका मतलब यह है कि मार्च में वैश्विक महामारी घोषित किए गए COVID-19 से लड़ रहे योद्धाओं में से किसी को पुरस्कार मिलने की संभावना नहीं थी.

डोनाल्ड ट्रम्प के Nobel Peace Prize के लिए नॉमिनेट होने पर ऋचा चड्ढा ने शेयर किया Video, फैन्स बोले- मैडम यह 2020 है...

बता दें कि नोबेल पुरस्कार के तहत स्वर्ण पदक, एक करोड़ स्वीडिश क्रोना (तकरीबन 8.27 करोड़ रूपये) की राशि दी जाती है. स्वीडिश क्रोना स्वीडन की मुद्रा है. यह पुरस्कार स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल के नाम पर दिया जाता है. इससे पहले, रसायन विज्ञान और भौतिकी सहित कई क्षेत्रों में इस साल के नोबेल पुरस्कार की घोषणा की जा चुकी है. अमेरिकी कवि लुई ग्लक को साहित्य के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया. रसायन विज्ञान के क्षेत्र में ‘जीनोम एडिटिंग' की पद्धति का विकास करने के लिए इमैनुएल चारपेंटियर और जेनीफर डॉडना को नोबेल पुरस्कार दिया गया. वहीं, भौतिक विज्ञान के क्षेत्र में रोजर पेनरोस को ब्लैक होल की खोज के लिए जबकि रिनहार्ड गेनजेल ओर एंड्रेया गेज को हमारी आकाशगंगा के केंद्र में सुपरमैसिव कॉम्पैक्ट ऑब्जेक्ट की खोज के लिए यह पुरस्कार दिया गया.

Newsbeep

VIDEO: 'बनेगा स्वस्थ इंडिया' में नोबेल विजेता मोहम्मद यूनुस ने बताया ग्रामीण बैंकों का सफर

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com