NDTV Khabar

प्रेमिका से बेवफाई अपराध नहीं : दिल्ली हाई कोर्ट

अदालत ने यह फैसला दुष्कर्म के मामले में एक व्यक्ति को बरी करने के फैसले को बरकरार रखते हुए दिया जिसके खिलाफ उस महिला ने दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया था जिससे उसने शादी का वादा किया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
प्रेमिका से बेवफाई अपराध नहीं : दिल्ली हाई कोर्ट

प्रेमिका से बेवफाई अपराध नहीं : हाई कोर्ट

नई दिल्ली:

दिल्ली उच्च न्यायालय (Delhi High Court) ने कहा है कि शारीरिक संबंधों के बावजूद प्रेमिका से बेवफाई चाहे जितनी खराब बात लगे, लेकिन यह अपराध नहीं है. अदालत ने आगे कहा कि यौन सहमति पर ‘न का मतलब न' से आगे बढ़कर, अब ‘हां का मतलब हां' तक व्यापक स्वीकार्यता है.

अदालत ने यह फैसला दुष्कर्म के मामले में एक व्यक्ति को बरी करने के फैसले को बरकरार रखते हुए दिया जिसके खिलाफ उस महिला ने दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया था जिससे उसने शादी का वादा किया था. अदालत ने इस मामले में पुलिस की अपील को खारिज करते हुए कहा कि इस मामले में व्यक्ति को बरी करने के निचली अदालत के फैसले में कोई कमी नहीं है.

अदालत ने कहा, “प्रेमी से बेवफाई, कुछ लोगों को चाहे जितनी खराब बात लगे, भारतीय दंड संहिता के तहत दंडनीय अपराध नहीं है. दो वयस्क परस्पर सहमति से शारीरिक संबंध बनाते हैं, यह अपराध नहीं है.”

उच्च न्यायालय ने कहा कि महिला ने शादी के वादे का प्रलोभन देकर शारीरिक संबंध बनाने के आरोपों का इस्तेमाल न सिर्फ पूर्व में आरोपी के साथ शारीरिक संबंध बनाने को सही ठहराने के लिए बल्कि प्राथमिकी दर्ज होने के बाद भी अपने आचरण को उचित ठहराने के लिये किया. उसने आंतरिक चिकित्सकीय परिक्षण से भी इनकार कर दिया.


न्यायमूर्ति विभु भाखरू ने कहा, “जहां तक यौन संबंध बनाने के लिये सहमति का सवाल है, 1990 के दशक में शुरू हुए अभियान ‘न मतलब न', में एक वैश्विक स्वीकार्य नियम निहित है: मौखिक ‘न' इस बात का स्पष्ट संकेत है कि यौन संबंध के लिये सहमति नहीं दी गई है.”

उन्होंने कहा, “यौन सहमति पर ‘न का मतलब न' से आगे बढ़कर, अब ‘हां का मतलब हां' तक व्यापक स्वीकार्यता है. इसलिये, यौन संबंध स्थापित करने के लिये जबतक एक सकारात्मक, सचेत और स्वैच्छिक सहमति नहीं है, यह अपराध होगा.”

उच्च न्यायालय ने कहा कि महिला का दावा कि उसकी सहमति स्वैच्छिक नहीं थी बल्कि यह शादी के वादे के प्रलोभन के बाद हासिल की गई थी, इस मामले में स्थापित नहीं हुआ.

अदालत ने कहा कि पहली बार दुष्कर्म के कथित आरोप के तीन महीने बाद, महिला 2016 में आरोपी के साथ स्वेच्छा से होटल में जाती दिखी और इस बात में कोई दम नजर नहीं आता कि उसे शादी के वादे का प्रलोभन दिया गया था.

लाइफस्टाइल से जुड़ी और भी खबरें...

Karwa Chauth 2019: करवा चौथ के लिए 8 लुक्स, इस साल ऐसे हों तैयार

पवित्र पानी से भरा ये 'जीसस शूज़' मिनटों में हुआ Sold Out, कीमत जान रह जाएंगे हैरान

नोएडा में खुला ये अनोखा रेस्टोरेंट, अब हवा में 160 फीट ऊपर बैठकर खा सकेंगे खाना

टिप्पणियां

TikTok पर वायरल हुआ दाल पीसने का ये अनोखा अंदाज़, नहीं देखा होगा ऐसा सिल-बट्टा



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement