NDTV Khabar

मोदी सरकार में मंत्री मनोज सिन्हा बोले- किसी ने आंख और अंगुली उठाई तो सलामत नहीं रहेगी

द्रीय मंत्री की ओर से धमकी भरे दिए बयान की हर ओर चर्चा हो रही है. आपको बता दें कि इससे पहले चुनाव आयोग की ओर से विवादित बयान देने वाले नेताओं पर बोलने के लिए प्रतिबंध लगा चुका है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. गाजीपुर की रैली में दिया बयान
  2. नेताओं के विवादित बयान जारी
  3. चुनाव आयोग कर चुका है कार्रवाई
नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव में नेताओं की बेलगाम बयानबाजी रुकने का नाम नहीं ले रही है. इस फेरहिस्त मेंकेंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हाभी शामिल हो गए हैं. उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र में कहा है कि अगर बीजेपी कार्यकर्ताओं पर किसी ने अंगुली उठाई तो भरोसा रखिए 4 घंटे में वह अंगुली सलामत नहीं रहेगी. न्यूज एजेंसी एएनआई में छपी खबर के मुताबिक केंद्रीय मंत्री ने यह बयान गुरुवार को गाजीपुर में आयोजित एक सभा में दिया है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कोई भी पूर्वांचल का अपराधी किसी की औकात नहीं है कि गाजीपुर की सीमा में आकर बीजेपी के कार्यकर्ता की तरफ आंख दिखाएगा, वह आंख सलामात नहीं रहेगी. इससे पहले मनोज सिन्हा ने कहा कि बीजेपी के कार्यकर्ता अपराध से अर्जित धन और भ्रष्टाचार को जमींदोज करने के लिए तैयार हैं.  केंद्रीय मंत्री की ओर से धमकी भरे दिए बयान की हर ओर चर्चा हो रही है. आपको बता दें कि इससे पहले चुनाव आयोग की ओर से विवादित बयान देने वाले नेताओं पर बोलने के लिए प्रतिबंध लगा चुका है जिसमें मायावती पर 48 घंटे और उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ पर 72 घंटे तक बोलने और चुनाव प्रचार में रोक लगा दी थी. लेकिन ऐसा लग रहा है कि नेता बयान देने में मर्यादा की सीमा पार करने में कोई परहेज नहीं कर रहे हैं. 


VIDEO: PM मोदी के खिलाफ सिद्धू का विवादित बयान- 'आए थे मां गंगा का लाल बनके, जाओगे राफेल का दलाल बनके'

मेनका गांधी पर भी कार्रवाई
मेनका गांधी ने मुस्लिम बहुल क्षेत्र तूराबखानी में बीते गुरुवार को आयोजित एक चुनावी सभा में कहा था कि मैं लोगों के प्यार और सहयोग से जीत रही हूं, लेकिन अगर मेरी यह जीत मुसलमानों के बिना होगी तो मुझे बहुत अच्छा नहीं लगेगा. बीजेपी नेता ने कहा कि इतना मैं बता देती हूं कि फिर दिल खट्टा हो जाता है. फिर जब मुसलमान आता है काम के लिए, फिर मै सोचती हूं कि नहीं रहने ही दो क्या फर्क पड़ता है. आखिर नौकरी भी तो एक सौदेबाजी ही होती है, बात सही है या नहीं?''  उनके इस बयान पर चुनाव आयोग ने उनको 48 घंटे तक प्रचार करने से रोक लगा दी थी. 

टिप्पणियां

विधायक ने मतदाताओं को दी धमकी, RJD ने बीजेपी पर साधा निशाना, बोले- धमकी को हल्के में नहीं लिया जा सकता

आजम खान पर भी लगी रोक
चुनाव आयोग ने जया प्रदा के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी कर आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने पर आजम खान को 72 घंटे तक प्रचार करने पर रोक लगा दी थी.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement