NDTV Khabar

उत्तर-पश्चिम दिल्ली सीट : हंसराज हंस की नई तान- दिल मोदी-मोदी बोलता, कमल का फूल खिल जाए...

हंसराज हंस के आने से उत्तर-पश्चिम दिल्ली सीट पर मुकाबला कुछ सुरीला हो गया, कांग्रेस उम्मीदवार राजेश लिलोठिया और आम आदमी पार्टी से गुग्गन सिंह उम्मीदवार

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उत्तर-पश्चिम दिल्ली सीट :  हंसराज हंस की नई तान- दिल मोदी-मोदी बोलता, कमल का फूल खिल जाए...

उत्तर-पश्चिम दिल्ली सीट पर बीजेपी के उम्मीदवार सूफी गायक हंसराज हंस को लोकसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबले का सामना करना होगा.

खास बातें

  1. बीजेपी ने सूफी गायक हंसराज हंस पर लगाया दांव
  2. त्रिकोणीय मुकाबले में कड़ा चुनावी संघर्ष
  3. हंसराज ने चुनावी अभियान के लिए कैंपेन गीत तैयार किया
नई दिल्ली:

दिल्ली की उत्तर-पश्चिम सीट पर बीजेपी (BJP), कांग्रेस (Congress) और आम आदमी पार्टी (AAP) तीनों ने नए उम्मीदवार खड़े किए हैं. तीनों पहली बार लोकसभा चुनाव (Loksabha Elections) लड़ रहे हैं. मुकाबला इसलिए कुछ अधिक दिलचस्प हो गया है कि उदित राज की जगह बीजेपी ने एक सूफी गायक हंसराज हंस (Hansraj Hans) को टिकट दिया. ये अलग बात है कि अब उनके सूफी गायन में मोदी (PM Modi) और कमल शामिल हो गए हैं.

"दिल मोदी-मोदी हो गया, बीजेपी-बीजेपी...दिल मोदी-मोदी बोलता, कमल का फूल खिल जाए"... सूफी गायक हंसराज हंस ने अपने चुनावी अभियान के लिए यह कैंपेन गीत तैयार किया है. उनके चुनावी जंग में उतरने से आरक्षित उत्तर-पश्चिम दिल्ली सीट पर मुकाबला कुछ सुरीला हो गया है. हंसराज हंस खुश हैं कि उन्हें बीजेपी ने उम्मीदवार बनाया है. एनडीटीवी से बातचीत में कहते हैं, संगीत से लोगों के दिल जीतने की कोशिश करेंगे.

हालांकि हंसराज हंस के लिए चुनौती कम नहीं है. उत्तर-पश्चिम दिल्ली सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार राजेश लिलोठिया हंसराज हंस की चुनौती को गंभीर नहीं मानते हैं. राजेश लिलोठिया एनडीटीवी से कहते हैं, "बीजेपी को उम्मीदवार नहीं मिला इसीलिए आखिरी मौके पर हंसराज हंस को उम्मीदवार बनाया."  


NDTV से बोले हंसराज हंस: मुझे भूख की परिभाषा पता है, रोटी की कीमत पता है, संगीत से लोगों का दिल जीतूंगा

आम आदमी पार्टी ने इस बार 2017 में पार्टी में शामिल हुए गुग्गन सिंह को उम्मीदवार बनाया है. गुग्गन सिंह एनडीटीवी से कहते हैं, युवाओं को रोजगार, शिक्षा के लिए अच्छे कालेज और विकास के लिए दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्ज़ा दिलाना उनकी प्राथमिकता होगी.

VIDEO : हंसराज हंस ने खुद को मजदूर का बेटा बताया

टिप्पणियां

कांग्रेस-आप ने दिल्ली में तालमेल की बहुत कोशिश की, जो आखिरकार नाकाम रही. इसलिए अब सारे मुकाबले त्रिकोणीय होते नज़र आ रहे हैं. इसके बावजूद हंसराज हंस के लिए राह आसान नहीं है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement