NDTV Khabar

लोकसभा चुनाव : बीजेपी सांसद उदित राज ने टिकट न मिलने के पीछे पांच कारण गिनाए

उत्तर-पश्चिमी दिल्ली से बीजेपी सांसद उदित राज का टिकट काट दिया गया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी पर आरोप लगाए

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकसभा चुनाव : बीजेपी सांसद उदित राज ने टिकट न मिलने के पीछे पांच कारण गिनाए

उत्तर-पश्चिम दिल्ली के सांसद उदित राज ने बीजेपी द्वारा टिकट न दिए जाने के पीछे पांच कारण बताए हैं.

खास बातें

  1. कहा- अपनी पार्टी 'इंडियन जस्टिस पार्टी' का बीजेपी में विलय कर दिया
  2. क्या यह खता थी कि मैं भाजपा में दलित नेता के नाम से जाना जाता रहा
  3. दिल्ली में सीलिंग के विरोध में सुप्रीम कोर्ट का घेराव क्या गलती थी?
नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) के लिए बीजेपी ने उत्तर-पश्चिमी दिल्ली से बीजेपी सांसद उदित राज का टिकट काट दिया है. इस सीट से मशहूर पंजाबी सिंगर हंसराज हंस को पार्टी ने टिकट देने का ऐलान आधिकारिक तौर पर कर दिया है. इस फैसले से नाराज उदित राज ने पार्टी छोड़ने का फैसला ले लिया है. उन्होंने कहा, 'बीजेपी ने टिकट नहीं दिया, अब मैंने पार्टी छोड़ने का फैसला किया है.' उदित राज ने टिकट न देने के पीछे पांच कारण गिनाए हैं. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी पर आरोप लगाए हैं.   

उदित राज ने एक प्रेस नोट में कहा है - मैं (उदित राज) बड़े भारी मन से जानना चाहता हूं कि मेरा टिकट क्यों कटा और उन कारणों को ढूंढने की कोशिश की तो निम्न वजह सोच पाया हूं-

  1. क्या मोदी जी के नेतृत्व में आंख मूंदकर विश्वास करते हुए अपनी पार्टी 'इंडियन जस्टिस पार्टी' का बीजेपी में विलय कर दिया. अपना दल जैसे छोटी पार्टियां ज्यादा फायदे में रहीं कि जनाधार स्थानीय होने के बावजूद बहुत कुछ लिया.
  2. क्या मेरी यह खता थी कि मैं भाजपा में दलित नेता के नाम से जाना जाता रहा और 2014 में जब मैं पार्टी में शामिल हुआ था तो व्यापक जन समर्थन लोकसभा के चुनाव में मिला. क्या पार्टी को जनाधार वाला दलित नेता नहीं चाहिए? क्या मैंने समय-समय पर दलितों की आवाज़ उठाई?
  3. क्या मैंने 2 अप्रैल 2018 को दलितों द्वारा भारत बंद का समर्थन करके गलती की? एससी-एसटी एक्ट और रोस्टर पॉइंट के मुद्दे पर भारत बंद किया गया था. क्या महिलाओं के पक्ष में सबरीमाला मंदिर में उनके प्रवेश का समर्थन किया, तो क्या मुझे उसकी सजा मिली और सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लागू करने की आवाज़ उठाई.
  4. प्रधानमंत्री जी की उपस्थिति में मैंने संसद में सवाल किया था कि उच्च न्यायपालिका गरीब दलित एवं पिछड़ा विरोधी हैं, क्या वह गलती थी?
  5. दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट द्वारा सीलिंग के विरोध में सुप्रीम कोर्ट का घेराव क्या गलती थी?  मैं हैरान इस बात से हूं कि इनमें से सारे कारण हैं या कौन से कारण हैं? जिसकी वजह से मेरा टिकट काटा?

उदित राज का BJP ने काटा टिकट, गायक हंसराज हंस होंगे उत्तर-पश्चिम दिल्ली से उम्मीदवार

उदित राज ने कहा है कि 'मुझे अत्यंत दुख है कि भारतीय जनता पार्टी मुझे पार्टी छोड़ने के लिए मजबूर कर रही है. देश में यह प्रचार है कि भाजपा टिकट काम, ईमानदारी और योग्यता के आधार पर देती है लेकिन किसी को टिकट देना या न देने का हथियार आंतरिक सर्वे को बनाया गया है, लेकिन यह असत्य है, पूरे देश में भाजपा के कार्यकर्ता अब तक इस न्यायतुला में यकीन करते हुए पार्टी के फैसले को शत-प्रतिशत सच मान लेते हैं लेकिन अब नहीं मानना चाहिए, पार्टी ने चार एजेंसियों से सर्वे कराया है और दिल्ली में मुझे सबसे अच्छा पाया गया, पॉपुलरटी और विजेता दोनों मामलों में और सांसदों से सबसे ऊपर हूं और फिर भी मेरा उत्तर पश्चिम लोकसभा से टिकट काटा गया. दूसरा हौआ ये खड़ा कर रखा है जो अच्छा काम करेगा उसे टिकट मिलेगा, यह भी असत्य है.'

Election 2019: क्या मान गए उदित राज? ट्विटर पर अपने नाम के आगे फिर लगाया 'चौकीदार'

उन्होंने कहा है कि 'इंडिया टुडे सर्वे में मुझे देश का दूसरा उत्कृष्ट सांसद घोषित किया. इसके पहले फेम इंडिया एशिया पोस्ट सर्वे द्वारा एक बार श्रेष्ठ सांसद  और  दूसरी बार बेजोड़ सांसद का ख़िताब भी मुझे मिला है.'

VIDEO : उदित राज ने कहा- बीजेपी को गूंगे-बहरे दलित चाहिए

टिप्पणियां

उदित राज ने कहा कि 'जब मैं इनके आंतरिक सर्वे और अच्छा काम करने में उत्तम हूं तो मेरा टिकट किस आधार पर काटा गया. अफ़सोस इस बात का है कि पार्टी ने मेरे पक्ष को प्रस्तुत करने का मौका भी नही दिया घर में काम करने वाले की भी मर्जी पूछी जाती है लेकिन मुझसे टिकट देने या न देने के मामले में कभी पूछा ही नहीं गया.'



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement