NDTV Khabar

Shatrughan Sinha:राजेश खन्ना को हराकर राजनीति में हुई थी दमदार एंट्री, पढ़ें सिनेमा से लेकर सियासत तक का सफर

बॉलीवुड में शानदार पारी खेलने के बाद राजनीति में नाबाद पारी खेल रहे शत्रुघ्न सिन्हा का अब तक का सफर काफी उतार चढ़ाव भरा रहा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Shatrughan Sinha:राजेश खन्ना को हराकर राजनीति में हुई थी दमदार एंट्री, पढ़ें सिनेमा से लेकर सियासत तक का सफर

शत्रुघ्न सिन्हा करीब 3 दशक तक बीजेपी के साथ जुड़े रहे

नई दिल्ली:

बॉलीवुड में शानदार पारी खेलने के बाद राजनीति में नाबाद पारी खेल रहे शत्रुघ्न सिन्हा का अब तक का सफर काफी उतार चढ़ाव भरा रहा. करीब 28 साल तक बीजेपी के साथ रहने वाले शत्रुघ्न सिन्हा 2019 के आम चुनावों से पहले कांग्रेस में शामिल हो गए. कांग्रेस में शामिल होने से पहले शॉटगन को बीजेपी का 'शत्रु' करार दे दिया गया था. शत्रुघ्न सिन्हा ने पार्टी में रहते हुए कई मुद्दों को लेकर आलाकमानों पर निशाना साधा, जिसकी वजह से शत्रुघ्न सिन्हा समय बीतने के साथ साइड लाइन होते चले गए. शत्रुघ्न सिन्हा फिल्मों में रहे या फिर राजनीति में, अपनी मुखरता के लिए जाने जाते रहे हैं. पढ़िए उनके सिनेमा से लेकर सियासत तक के सफर को. 

जयंत सिन्हा: हार्वर्ड बिजनेस स्कूल में पढ़ाई से लेकर राजनैतिक सफर तक, यहां पढ़ें


शत्रुघ्न सिन्हा का फिल्मी सफर

शत्रुघ्न सिन्हा का जन्म 9 दिसंबर 1945 बिहार के पटना के कदमकुआं स्थित एक साधारण परिवार में हुआ. शत्रुघ्न बचपन से फिल्मों में ही काम करना चाहते थे लेकिन पिता चाहते थे कि वो पढ़ाई-लिखाई करके डॉक्टर या इंजीनियर बनें. लेकिन शत्रुघ्न अपना भविष्य कहीं और ही देख रहे थे. लिहाजा शत्रुघ्न सिन्हा ने पिता को बिना बताए फिल्म इंस्टीट्यूट पुणे का फॉर्म भर दिया. जहां दाखिले में बड़े भाई लखन ने सहयोग किया. फिल्म की पढ़ाई पूरी करने के बाद शत्रुघ्न फिल्मों में काम ढूंढने लगे, लेकिन होठ कटे होने के कारण उन्हें काम नहीं मिल रहा था. शत्रुघ्न ने अपने होठ की सर्जरी कराने का फैसला किया लेकिन उस वक्त के सुपरस्टार देवानंद ने उन्हें ऐसा करने से रोक लिया. इसके बाद शत्रुघ्न सिन्हा ने फिल्म साजन के साथ करियर की शुरुआत की. 

शकील अहमद: पिता और दादा कांग्रेस से रह चुके हैं विधायक, कुछ ऐसा है राजनैतिक करियर

शत्रुघ्न सिन्हा आए तो थे हीरो बनने लेकिन विलेन बन गए. विलेन में छाप छोड़ने के बाद वो हीरो भी बने और सिनेमा में100 से भी ज्यादा फिल्में की. बॉलीवुड में एक वक्त ऐसा भी आया था कि  जब शत्रुघ्न सिन्हा की तूती बोलती थी, निर्माता निर्देशक धर्मेंद्र और अमिताभ की जगह शत्रुघ्न सिन्हा को तरजीह दिया करते थे. फिल्मों में लंबा करियर करने के बाद शत्रुघ्न सिन्हा ने राजनीति का रुख किया. वहां भी शत्रुघ्न सिन्हा की एंट्री ने सबको हिलाकर रख दिया. 

रामकृपाल यादव: लालू प्रसाद यादव के 'हनुमान' कहलाते थे रामकृपाल, छात्र राजनीति से अब तक का सफर

शत्रुघ्न सिन्हा का राजनैतिक सफर

1991 में लाल कृष्ण आडवाणी ने गांधी नगर और दिल्ली, दो सीटों से चुनाव लड़े और जीते भी. एल के आडवाणी ने दिल्ली सीट छोड़ दी और वहां से 1992 में उपचुनावों में शत्रुघ्न सिन्हा को मौका मिला. शत्रुघ्न के सामने थे बॉलीवुड के सुपरस्टार राजेश खन्ना. दिलचस्प मुकाबले में शत्रुघ्न सिन्हा ने राजेश खन्ना को मामूली अंतर से हरा दिया. एक इंटरव्यू में शत्रुघ्न सिन्हा ने बताया था कि उनके दिल्ली सीट से चुनाव लड़ने से राजेश खन्ना नाराज हो गए थे और इस बात का उन्हें हमेशा अफसोस रहेगा. इस चुनाव के बाद शत्रुघ्न सिन्हा बीजेपी स्टार प्रचारकों की लिस्ट में शामिल हो गए. कुछ ही दिनों में वह अटल बिहारी वाजपेयी और एल के आडवाणी जैसे नेताओं के करीबी हो गए और इसका फायदा उन्हें कई मौकों पर मिला. 1996 में बीजेपी ने शत्रु को राज्यसभा को भेजा. एक कार्यकाल पूरा होने के बाद शत्रुघ्न सिन्हा को दोबारा राज्यसभा भेजा गया. 

Nirahua Profile: आजमगढ़ से अखिलेश यादव के खिलाफ मैदान में निरहुआ, जानें सपोर्टिंग एक्टर से जुबली स्टार बनने की कहानी...

अटल बिहारी वाजपेयी के विश्वस्त लोगों में शामिल रहे शत्रुघ्न को 2002 में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री बनाया गया. 2003 में उन्हें जहाजरानी मंत्री भी बनाया गया था. 2009 में लाल कृष्ण आडवाणी ने उन्हें बिहार की पटना साहिब सीट से उतारा जहां से शत्रुघ्नने जबरदस्त जीत हासिल की. इसके बाद 2014 में उन्हें फिर से इसी सीट से टिकट दिया गया. यहां से उन्हें जीत मिली. कहते हैं कि इस सीट से रविशंकर प्रसाद चुनाव लड़ना चाहते थे लेकिन ऐसा हो नहीं पाया. चुनाव जीतने के बाद शत्रुघ्न सिन्हा को उम्मीद थी कि वह मंत्री बनेंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ. यहीं से शुरू हुई शत्रुघ्न सिन्हा की नाराजगी. दूसरी तरफ उनको प्रदेश स्तर पर अनदेखा किया जाने लगा और ये नाराजगी बगावत के रूप में बदल गई. धीरे-धीरे शत्रुघ्न की नाराजगी को अन्य पार्टियों ने भुनाने की कोशिश की और वो कामयाब भी होते चले गए. आखिर में उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ा और पटना साहिब से उनका टिकट काट दिया गया. इसके बाद शत्रुघ्न सिन्हा कांग्रेस में शामिल हो गए और उन्हें पटना साहिब से उम्मीदवार बनाए गए. लिहाजा अब उनका मुकाबला बीजेपी के रविशंकर प्रसाद से है. 

टिप्पणियां

...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement