NDTV Khabar

ज्योतिरादित्य सिंधिया की शिवराज सिंह चौहान से बंद कमरे में मुलाकात, 45 मिनट चली बैठक, चर्चाएं जोरों पर

इस मुलाकात को लेकर राजनीति के गलियारों में चर्चाएं जोरों पर हैं. बैठक पर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं, हालांकि, दोनों नेताओं ने इस मुलाकात को सौजन्य करार दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ज्योतिरादित्य सिंधिया की शिवराज सिंह चौहान से बंद कमरे में मुलाकात, 45 मिनट चली बैठक, चर्चाएं जोरों पर

कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया

खास बातें

  1. भोपाल में बंद कमरे में हुई मुलाकात
  2. 45 मिनट चली मुलाकात
  3. सियासी गलियारे में हलचल तेज
भोपाल:

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia)औरमध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्रीशिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan)ने भोपाल में बंद कमरे में मुलाकात की है. सोमवार रात को दोनों करीब 45 मिनट बातचीत की. इस मुलाकात को लेकर राजनीति के गलियारों में चर्चाएं जोरों पर हैं. बैठक पर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं, हालांकि, दोनों नेताओं ने इस मुलाकात को सौजन्य करार दिया. दरअसल सिंधिया सोमवार की रात दिल्ली से भोपाल पहुंचे. उसके बाद सिंधिया अचानक पूर्व मुख्यमंत्री चौहान के आवास पहुंच गए.

मुलाकात के बाद सिंधिया ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'हम दोनों के बीच कोई मनमुटाव नहीं है, कोई कड़वाहट नहीं है, मैं ऐसा व्यक्ति नहीं हूं, जो चुनाव के समय की कड़वाहट को लेकर पूरी जिंदगी बिताऊं. जैसा कहा जाता है कि रात गई बात गई. इसलिए आगे की सोचना होगा. मध्य प्रदेश का भविष्य संवारना है, उज्जवल करना है, इसलिए हमें सबको साथ लेकर चलना है, खासकर कांग्रेस की जिम्मेदारी बनती है क्योंकि यह सत्ता में है. चुनाव मैदान में कशमकश होती है, मगर चुनाव के बाद सबको मिलकर साथ काम करना चाहिए.'


मध्य प्रदेश : कमलनाथ के शपथग्रहण में 'मामा' शिवराज ने जीता सबका दिल, देखें Video

सिंधिया ने चौहान के साथ हुई बातचीत को अच्छा बताते हुए कहा कि वे हमारे राज्य के मुख्यमंत्री रहे हैं उनसे मिलने आया था, बहुत सारी बातें हुई. सिंधिया से सवाल किया गया कि क्या विपक्ष का कांग्रेस को साथ मिलेगा तो उन्होंने कहा कि, विपक्ष को सदैव अच्छी चीजों का साथ देना चाहिए और कमियों को उजागर करना चाहिए. देश के प्रजातंत्र में विपक्ष की भूमिका भी उतनी ही महत्वपूर्ण होती है जितनी सत्ता पक्ष की होती है. केंद्र में कांग्रेस का महत्वूपर्ण योगदान है, अपेक्षा है कि इसी तरह का राज्य में भाजपा का रहेगा.

CM गहलोत के शपथ ग्रहण में जब सारे मतभेद भूल वसुंधरा ने भतीजे ज्योतिरादित्य को लगाया गले

पूर्व मुख्यमंत्री चौहान ने भी इस मुलाकात को सौजन्य मुलाकात करार दिया है. इससे पहले चौहान का मुख्यमंत्री कमलनाथ के शपथ ग्रहण समारोह में मंच पर जाना और सिंधिया व कमलनाथ द्वारा चौहान का गर्मजोशी से स्वागत खासा चर्चाओं में रहा था. अब यह मुलाकात सियासी गलियारों की चर्चा का विषय बन गई है.

(इनपुट- आईएएनएस)

कमलनाथ के शपथग्रहण समारोह में दिखा दिलचस्प नजारा, देखें VIDEO

टिप्पणियां

VIDEO- बीजेपी नेता की हत्‍या पर बोले शिवराज सिंह चौहान, मन में गुस्सा और दुख है

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement