NDTV Khabar

31 जनवरी की रात को आएगा Super Blue Blood Moon, जानिए भारत में कहां आएगा नजर

31 जनवरी को सुपरमून, ब्लूमून और चंद्र ग्रहण (जिसे ब्लड मून भी कहते हैं) एक ही रात को नजर आएगा. इस घटना को 'सुपर ब्लू ब्लड मून' कहा जा रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
31 जनवरी की रात को आएगा Super Blue Blood Moon, जानिए भारत में कहां आएगा नजर

31 जनवरी को सुपरमून, ब्लूमून और चंद्र ग्रहण (जिसे ब्लड मून भी कहते हैं) एक ही रात को नजर आएगा.

खास बातें

  1. 31 जनवरी की रात को नजर आएगा सुपर ब्लू ब्लड मून.
  2. सुपरमून, ब्लूमून और चंद्र ग्रहण एक ही रात को नजर आएंगे.
  3. भारत के साथ-साथ कई देशों में आएगा नजर.
नई दिल्ली: सभी ने 2018 का शानदार स्वागत किया. ये साल शानदार जाने वाला है क्योंकि साल के आते ही सुपरमून दस्तक देने जा रहा है. 31 जनवरी को सुपरमून, ब्लूमून और चंद्र ग्रहण (जिसे ब्लड मून भी कहते हैं) एक ही रात को नजर आएगा. इस घटना को 'सुपर ब्लू ब्लड मून' कहा जा रहा है. जनवरी की आखिरी रात ये ग्रहण नजर आएगा. ये ग्रहण 31 जनवरी को 6 बजकर 22 मिनट से 8 बजकर 42 मिनट के बीच नजर आएगा. इसे भारत के साथ-साथ इंडोनेशिया, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया में चंद्र ग्रहण का नजारा साफ नजर आएगा. इसे पूरे भारत में देखा जा सकेगा. इसी के साथ अमेरिका के अलास्का, हवाई और कनाडा में साफ-साफ नजर आएगा. आइए जानते हैं आखिर क्यों कहा जाता है इसे सुपर ब्लू ब्ल्ड मून...

ये है सौर मंडल का एक मात्र ऐसा ग्रह जहां उल्टी दिशा से चलती है हवा, वैज्ञानिकों के लिए बनी पहेली
 
blood moon siliguri super moon siliguri

क्या होता है सुपरमून
चांद और धरती के बीच की दूरी सबसे कम हो जाती है और चंद्रमा अपने पूरे शबाब पर चमकता दिखाई देता है. इसे पिछले साल 3 दिसंबर को भी दिखाई दिया था. चांद की तुलना में 14 फीसद ज्यादा बड़ा और 30 फीसद तक ज्यादा चमकीला दिखेगा. इस महीने पूर्ण चंद्रमा दिखने की घटना हो रही है. इस कारण इसे ब्लू मून भी कहा जा रहा है.

शनि के चंद्रमा 'टाइटन' पर दिखीं पृथ्वी जैसी खासियतें, नए डाटा से हुआ खुलासा
 
blue moon

क्या होता है ब्लू मून
NASA के मुताबिक, ब्लू मून हर ढाई साल में एक बार नजर आता है. स्पेस डॉट कॉम की खबर के मुताबिक चंद्रमा का नीचे का हिस्सा ऊपरी हिस्से की तुलना में ज्यादा चमकीला दिखाई देता है और नीली रोशनी फेंकता है. 31 जनवरी 2018 के बाद ये 2028 और 2037 में देखने को मिलेगा. 

टिप्पणियां
अंतरिक्ष यात्रियों ने स्पेस में देखी फिल्म, ड्रिंक्स के साथ कुछ इस तरह लिए मजे
 
total lunar eclipse


चंद ग्रहण
चंद्र ग्रहण तब होता है जब सूर्य, पृथ्वी एवं चंद्रमा ऐसी स्थिति में होते हैं कि कुछ समय के लिए पूरा चांद अंतरिक्ष धरती की छाया से गुजरता है. लेकिन पृथ्वी के वायुमंडल से गुजरते वक्त सूर्य की लालिमा वायुमंडल में बिखर जाती है और चंद्रमा की सतह पर पड़ती है. इसे ब्लड मून भी कहा जाता है. ये तीनों एक ही रात को पड़ेगा. जिसे सुपर ब्लू ब्लड मून भी कहा जा रहा है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement