NDTV Khabar

Wi-Fi पर शख्स ने यूजरनेम लिखा था- 'Join Hizbul Mujahideen', पुलिस ने किया फिर ऐसा

34 वर्षीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर रविवार रात जब घर पहुंचा तो उसने फोन में वाई-फाई लिस्ट देखी. जहां एक वाई-फाई पासवर्ड का यूजरनेम- 'Join Hizbul Mujahideen' लिखा था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Wi-Fi पर शख्स ने यूजरनेम लिखा था- 'Join Hizbul Mujahideen', पुलिस ने किया फिर ऐसा

Wi-Fi पर शख्स ने यूजरनेम लिखा था- 'Join Hizbul Mujahideen'

खास बातें

  1. Wi-Fi पर शख्स ने यूजरनेम लिखा था- 'Join Hizbul Mujahideen'
  2. पुलिस ने ऐसे लगाया पता.
  3. नेटवर्क को देख हैरान रह गए लोग.

हर कोई वाई-फाई का यूजरनेम चेंज करके कुछ न कुछ यूनीक रखता है. लेकिन एक शख्स ने अपना यूजर नेम ऐसा लिख दिया. जिसने भी देखा उसके रोंगटे खड़े हो गए. हर कोई घबरा गया. TimesOfIndia की खबर के मुताबिक, दिल्ली के रहने वाला 34 वर्षीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर रविवार रात जब घर पहुंचा तो उसने फोन में वाई-फाई लिस्ट देखी. जहां एक वाई-फाई पासवर्ड का यूजरनेम- 'Join Hizbul Mujahideen' लिखा था. पहली बार उसे समझ नहीं आया. उसने सबसे पहले फोन को बंद किया और फिर ऑन करके देखा. उसके बाद भी यूजर नेम वही दिखा रहा था. जिसके बाद उन्होंने पीसीआर को कॉल किया और पुलिस को इस बात की जानकारी दी. उन्होंने इस नेटवर्क के बारे में बताया और कहा कि इसे लोकेट नहीं किया जा रहा है. 

शख्स ने उंगली के जरिए ऐसे निकाले ATM से 1.5 लाख रुपये, ऐसे आया पकड़ में


लोकल पुलिस को बुलाया गया और उन्होंने देखा कि कोई नेटवर्क यहां इस नाम से नजर आ रहा है. टीम ने पता लगाने की कोशिश की. लोकल इनक्वायरी पर कुछ पता नहीं चला. जिसके बाद साइबर क्राइम को बताया गया और सिक्योरिटी एजेंसी को नोटिस में लाया गया. जांच करने वाले अधिकारी ने वाई-फाई नेटवर्क के बारे में पता किया. उन्होंने पूरी लिस्ट देखी और अगले दिन वाई-फाई एड्रेस के जरिए पता करना शुरू किया. उन्होंने लोकल इंटरनेट सर्विस चलाने वाले लोगों से संपर्क किया. टीम ने एक टेलीकॉम शॉप से संपर्क किया. जिन्होंने बताया कि 26 नवंबर को उन्होंने गुलशन तिवारी के घर वाई-फाई इंस्टॉल किया था. 

8 दिन टॉर्चर झेलने के बाद ऐसे भारत लौटे थे पाकिस्तान में फंसे पायलट नचिकेता

60 वर्षीय गुलशन तिवारी लखनऊ के रहने वाले हैं. उनसे जब इस नाम के बारे में पूछा गया तो उनको कुछ समझ नहीं आया और पहेली बन गई. इस रहस्य का खुलासा तब हुआ जब तिवारी के छोटे बेटे ने माना कि उसने ही नेटवर्क का नाम चेंज किया था. तिवारी के बड़े बेटे ने वाई-फाई लगवाया था. वाई-फाई लगवाने के बाद हर कोई उनका नेटवर्क खोलकर इंटरनेट चला रहा था. इससे गुस्सा होकर उन्होंने नेटवर्क का नाम चेंज करके 'Join Hizbul Mujahideen' रख दिया.

टिप्पणियां

छक्का जड़ने के बाद ऐसे चिढ़ाने लगा बल्लेबाज, झल्ला गया गेंदबाज, वायरल हुआ VIDEO

पड़ोसियों को रोकने के लिए उन्होंने ऐसा नाम रखा था. द्वारका के डीसीपी एंटो अल्फोंसो ने TOI से बात करते हुए कहा- 'किसी भी तरह का केस दर्ज नहीं किया गया है. उनके वाई-फाई नेटवर्क से किसी भी तरह की संदिग्ध गतिविधियां नहीं हो रही थीं. हमने परिवार से तुरंत यूजर नेम चेंज करने को कहा है.'


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement