NDTV Khabar

' मेरे पास बंगला है, गाड़ी है, तुम्‍हारे पास क्‍या है?...' तो बॉलीवुड ने कहा निरूपा रॉय

फिल्‍म 'राजा और रंक' का प्रसिद्ध गाना 'तू कितनी अच्‍छी है, तू कितनी भोली है...' गाना भी निरूपा रॉय पर ही फिल्‍माया गया था.

510 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
' मेरे पास बंगला है, गाड़ी है, तुम्‍हारे पास क्‍या है?...' तो बॉलीवुड ने कहा निरूपा रॉय

निरूपा रॉय का निधन 13 अक्‍टूबर, 2004 में हुआ था.

खास बातें

  1. 13 अक्‍टूबर, 2004 में दुनिया को अलविदा कह गई थीं निरूपा
  2. सिर्फ चौथी क्लास तक पढ़ी थीं निरूपा रॉय
  3. 'दीवार', 'मुकद्दर का सिकंदर', समेत कई फिल्‍मों में बनीं अमिताभ की मां
नई दिल्‍ली: ' मेरे पास बंगला है, गाड़ी है, बैंक बैलेंस है... तुम्‍हारे पास क्‍या है?... मेरे पास, 'मां' है...  फिल्‍म 'दीवार' का वह फेमस डायलॉग बॉलीवुड के उन चंद डायलॉगों में से है जिसे शायद ही कोई भूल सके. अमिताभ बच्‍चन और शशि कपूर के बीच हुए इस संवाद की सबसे बड़ी ताकत थी 'मां' और यह मां है निरूपा रॉय.. बॉलीवुड की सबसे चहेती मांओं में से एक निरूपा रॉय आज ही के दिन यानी 13 अक्‍टूबर, 2004 को दुनिया से अलविदा कह गई थीं. महज 15 साल की उम्र में बॉलीवुड में अपने करियर की शुरुआत करने वाली निरूपा रॉय एक्‍ट्रेस भी रहीं और कई फिल्‍मों में नजर आईं लेकिन उन्‍हें आज भी उनके 'मां' के किरदारों के रूप में ही याद किया जाता है.

यह भी पढ़ें: निरूपा राय का वह 'रोल' कैसे फ्लोरिडा में सच साबित हुआ, ऋषि बोले- अब हंसना बंद करो

निरूपा का मूल नाम कोकिला था और उनका जन्म 4 जनवरी 1931 को गुजरात के बलसाड में हुआ था. सिर्फ चौथी क्लास तक पढ़ी निरूपा की शादी मुंबई में राशनिंग विभाग में काम करने वाले कमल राय से हुई और शादी रचा वह मुंबई आ गईं. निरूपा ने अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत 1946 में आई गुजराती फिल्म 'गणसुंदरी' की. वर्ष 1949 में रिलीज हुई फिल्म 'हमारी मंजिल' से उन्होंने हिंदी फिल्म की ओर भी रूख कर लिया. इसके बाद उन्हें फिल्म 'गरीबी' में काम मिल गया. साल 1953 में आई 'दो बीघा जमीन' निरूपा राय के लिए मील का पत्थर साबित हुई. फिल्म में दमदार एक्टिंग के लिए उन्हें इंटरनेशनल अवॉर्ड भी दिया गया था.

यह भी पढ़ें: जब अमिताभ बच्चन की इस खासियत पर राजेश खन्ना ने कसा तंज...
 
nirupa roy

फिल्‍म 'घर घर की कहानी' में बलराज सहानी के साथ एक सीन में निरूपा रॉय.


साल 1955 में फिल्म 'मुनीम जी' में निरूपा ने देवानंद की मां की भूमिका निभाई. फिल्म में अपनी एक्टिंग के चलते उन्हें बेस्ट को-एक्ट्रेस के लिए फिल्म फेयर अवॉर्ड से नवाजा गया. लेकिन इसके बाद छह सालों तक उन्होंने मां की भूमिका स्वीकार नहीं की. फिल्‍म 'राजा और रंक' का प्रसिद्ध गाना 'तू कितनी अच्‍छी है, तू कितनी भोली है...' गाना भी निरूपा रॉय पर ही फिल्‍माया गया था.

यह भी पढ़ें: मालदीव में अभिषेक और ऐश्‍वर्या ने मनाया अमिताभ बच्‍चन का धमाकेदार Birthday
 
nirupa roy

फिल्‍म 'बेताब' के एक सीन सनी देओल और अमृता सिंह के साथ निरूपा रॉय.


निरूपा वैसे तो कई एक्‍टर्स की मां के रूप में नजर आ चुकी हैं, लेकिन उन्‍हें हमेशा अमिताभ बच्‍चन की मां के किरदारों में ही याद किया जाता है. 'दीवार' वह पहली फिल्‍म में जिसमें मां-बेटे की यह जोड़ी साथ नजर आई और उसके बाद कई फिल्‍मों में यह सिलसिला चला हो हिट भी रहा. 'दीवार' के बाद, 'खून पसीना', 'मुकद्दर का सिकंदर', 'अमर अकबर एंथनी', 'सुहाग', 'इंकलाब', 'गिरफ्तार', 'मर्द' और 'गंगा जमुना सरस्वती' जैसी फिल्मों में निरूपा, अमिताभ की मां के रूप में नजर आईं.
 
nirupa roy

अमिताभ और शशि कपूर के साथ 'दीवार' के एक सीन में निरूपा रॉय.


साल 1999 में आई फिल्म 'लाल बादशाह' में यह दोनों आखिरी बार मां-बेटे के किरदार में नजर आए. निरूपा ने अपने पांच दशक लंबे बॉलीवुड कैरियर में लगभग 300 फिल्मों में काम किया.

VIDEO: बनेगा स्वच्छ इंडिया : एनडीटीवी-डेटॉल की खास मुहिम से जुड़े अमिताभ बच्चन ने कही अहम बात



...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement