NDTV Khabar

Birthday Special : 15 साल की हीरोइन का ‘रेप सीन’ और सिनेमाघरों में लग गई थी लाइन

पद्मिनी कोल्हापुरे का चेहरा बहुत ही मासूम था लेकिन उन्होंने करियर के शुरू में उतने ही बोल्ड रोल किए थे

676 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
Birthday Special : 15 साल की हीरोइन का ‘रेप सीन’ और सिनेमाघरों में लग गई थी लाइन

पद्मिनी कोल्हापुरे

खास बातें

  1. 1 नवंबर, 1965 को हुआ जन्म
  2. बचपन में फिल्मों में गाने भी गाए
  3. करियर के शुरू में की बोल्ड फिल्में
नई दिल्ली: पद्मिनी कोल्हापुरे बॉलीवुड की उन एक्ट्रेस में से हैं जिन्होंने कम उम्र में चकाचौंध भरी दुनिया में कदम रखा था. 1 नवंबर, 1965 को जन्मीं पद्मिनी कोल्हापुरे ने बचपन से फिल्मों में गायकी शुरू कर दी थी. उन्होंने ‘यादों की बारात’ फिल्म में कोरस में गाया था. इसके बाद भी कई फिल्मों में उनकी आवाज सुनाई दी थी. उनका चेहरा बहुत ही मासूम था. जिस वजह से फिल्म डायरेक्टरों की नजर उन पर पड़ी और उन्होंने उन्हें बाल कलाकार के तौर पर फिल्मों में लिया. बालपन से ही उनके हाथ बोल्ड और संवेदनशील रोल हाथ आए. 
 
padmini
बप्पी लहिड़ी के साथ पद्मिनी कोल्हापुरे

उन्होंने राज कपूर की फिल्म ‘सत्यम शिवम सुंदरम (1978)’ में जीनत अमान के बचपन का रोल निभाया था. फिल्म सुपरहिट रही थी, और पद्मिनी कोल्हापुरे का अंदाज दर्शकों के दिलों में उतर गया था. 15 साल की बाली उम्र में उन्होंने कुछ ऐसी फिल्में कर डालीं जो उनकी उम्र से कहीं आगे की चीज थीं, और बॉलीवुड के लिहाज से काफी बोल्ड. 1980 में आई उनकी फिल्म ‘गहराई’ में तो उन्होंने बोल्डनेस की हद तक कर दी और बहुत ही बेबाक सीन फिल्म में दिया.

यह भी पढ़ें : Viral Photos: जयपुर में कुछ यूं 'झांसी की रानी' बनी नजर आ रही हैं कंगना रनोट

इसी साल उनकी फिल्म ‘इंसाफ का तराजू’ आई, जिसमें उनके साथ जीनत अमान और राज बब्बर थे. बी.आर. चोपड़ा की ‘इंसाफ का तराजू’ इंग्लिश फिल्म ‘लिपस्टिक (1976)’ का रीमेक थी. फिल्म में पद्मिनी कोल्हापुरे के रेप का लंबा सीन था, जिसे लेकर उस समय बहुत विवाद भी हुआ था. लेकिन विवादों के बावजूद फिल्म अपने गंभीर विषय की वजह से दर्शकों का दिल जीतने में कामयाब रही थी. फिल्म को देखने के लिए सिनेमाघरों पर लाइन लग गई थी क्योंकि फिल्म का विषय और ट्रीटमेंट दोनों ही बेहतरीन थे. फिर रेप सीन की वजह से फिल्म को लेकर काफी हाइप भी बन गई थी. 
 
padmini

पद्मिनी कोल्हापुरे ने अपने करियर के शुरू में बोल्ड विषयों से कतई परहेज नहीं किया. तभी तो 17 साल की उम्र में उन्होंने राज कपूर की ‘प्रेम रोग (1982)’ में काम किया था. फिल्म में उनकी कम उम्र में शादी हो जाती है और वे विधवा हो जाती हैं. लेकिन उनके पति का बड़ा भाई उनका रेप कर देता है. फिल्म का विषय और राज कपूर के टच की वजह से उनकी ये फिल्म भी सुपरहिट रही थी. 

यह भी पढ़ें : Birthday Bash: अभिषेक बच्‍चन और अराध्‍या ने बनाया है ऐश्वर्या राय के बर्थडे का यह प्‍लान

यही नहीं, 21 साल की उम्र में पद्मिनी कोल्हापुरे ने शेखर सुमन के साथ ‘अनुभव (1986)’ फिल्म की. इसमें वे शरीर से तो युवती होती हैं लेकिन उनकी हरकतें और आदतें बच्चों जैसी होती हैं. इस तरह वे अपने पति शेखर सुमन के साथ शारीरिक संबंधों की कसौटी पर खरी नहीं उतर पाती हैं और पति खीझकर दूसरी औरत के प्रति आकर्षित हो जाता है. फिल्म को काफी पसंद किया गया था. 

यह भी पढ़ें : Birthday Special: जब नीता अंबानी को होता है स्‍ट्रैस, तो अपनाती हैं यह इलाज

टिप्पणियां
बेशक पद्मिनी कोल्हापुरे ने अपने करियर के शुरू में बोल्ड विषयों के साथ बॉलीवुड में कदम रखा लेकिन उन्होंने विषयों की गंभीरता और उसमें सहेजे को गए मैसेज को पकड़े रखा. इसी वजह से बोल्डनेस के बावजूद उनकी फिल्में हिट होती गईं और उनके रोल यादगार बनते गए. 

 ...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement