Citizenship Amendment Bill पर बोलीं स्वरा भास्कर- मैं नहीं चाहती कि मेरी मेहनत की कमाई...

बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर (Swara Bhasker) ने नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) पर ट्वीट किया है, जो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है.

Citizenship Amendment Bill पर बोलीं स्वरा भास्कर- मैं नहीं चाहती कि मेरी मेहनत की कमाई...

स्वरा भास्कर (Swara Bhasker) ने नागरिकता संशोधन बिल को लेकर किया ट्वीट

खास बातें

  • नागरिकता संशोधन बिल पर आया स्वरा भास्कर का ट्वीट
  • एक्ट्रेस ने कहा कि मैं नहीं चाहती कि मेरी मेहनत की कमाई...
  • स्वरा भास्कर के ट्वीट ने बटोरी सुर्खियां
नई दिल्‍ली:

लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) पास होने के बाद अब यह राज्यसभा में भी पेश होने वाला है. लोकसभा में बिल के पक्ष में 311, जबकि विरोध में 80 वोट पड़े. बिल को लेकर सदन में गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने सदस्यों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि ये बिल लाखों- करोड़ों शरणार्थियों को यातनापूर्ण जीवन से मुक्ति दिलाने का जरिया बनने जा रहा है. नागरिकता संशोधन बिल को लेकर यूं तो चारों तरफ से रिएकक्श आने जारी है. लेकिन हाल ही में बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर (Swara Bhasker) ने इस पर ट्वीट किया है, जो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. 

बॉलीवुड डायरेक्टर अनुभव सिन्हा ने किया ट्वीट, बोले- भारतीय मुसलमानों, ये वक्त गुजर जाएगा, आप सभी...

एक्ट्रेस स्वरा भास्कर (Swara Bhasker) ने अपने ट्वीट में नागरिकता संशोधन बिल को लेकर कहा कि वह करदाता के तौर पर अपनी मेहनत की कमाई एनआरसी या नागरिकता संशोधन बिल पर नहीं खर्च करना चाहतीं. स्वरा भास्कर का यह ट्वीट खूब सुर्खियां बटोर रहा है, साथ ही लोगों ने इसपर अपना रिएक्शन भी दिया है. स्वरा भास्कर ने बिल पर ट्वीट करते हुए लिखा, "मैं नहीं चाहती कि करदाता के रूप में मेरी मेहनत की कमाई एनआरसी या नागरिकता संशोधन बिल के वित्तपोषण में खर्च हो."

दीपिका पादुकोण की फिल्म 'छपाक' का ट्रेलर हुआ रिलीज, तो आमिर खान ने Tweet कर कही ये बात

बता दें कि गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill) के बारे में बात करते हुए कहा था कि यह बिल शरणार्थियों को नागरिकता देने का काम होगा. उन्होंने कहा कि यह बिल किसी भी तरह से गैर संवैधानिक नहीं है न ही ये आर्टिकल-14 का उल्लंघन करता है. अमित शाह ने कहा कि इस देश का विभाजन धर्म के आधार पर न होता तो मुझे बिल लाने की जरूरत ही नहीं होती, सदन को ये स्वीकार करना होगा कि धर्म के आधार पर विभाजन हुआ है. जिस हिस्से में ज्यादा मुस्लिम रहते थे वो पाकिस्तान बना और दूसरा हिस्सा भारत बना. अब इस बिल को राज्यसभा में पेश किया जाएगा. 

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...