NDTV Khabar

बिग बी को फिर आई 'कुली' हादसे की याद, बताई जिंदा बचने की असली वजह

महानायक ने ट्विटर पर लिखा, "August 2, 1982 .. सासें बंद होने को थीं, परंतु आप सब की प्रार्थना ने मुझे जीवित रक्खा. एक ऋण जिसे मैं कभी भी उतार नहीं सकूंगा."

405 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिग बी को फिर आई 'कुली' हादसे की याद, बताई जिंदा बचने की असली वजह

'कुली' के क्लाइमैक्स सीन में पुनीत इस्सर और अमिताभ बच्चन.

खास बातें

  1. 'कुली' फिल्म के सेट पर हुए हादसे को 35 साल पूरे
  2. अमिताभ ने 'पुनर्जन्म' के लिए फैन्स का शुक्रिया अदा किया
  3. इस दुर्घटना में बुरी तरह से घायल हो गए थे बिग बी
नई दिल्ली: वैसे तो बॉलीवुड मेगास्टार अमिताभ बच्चन का जन्म 11 अक्टूबर, 1942 को हुआ था. लेकिन उनके मुताबिक, उनका पुर्नजन्म 2 अगस्त, 1982 को हुआ. यह वहीं दिन था जब फिल्म 'कुली' के दौरान हुए हादसे के कई महीनों बाद अमिताभ बच्चन की तबीयत में सुधार आया था और लंबी बीमारी के बाद उन्होंने जिंदगी की जंग जीत ली थी. 

'कुली' के सेट पर हुए हादसे का जिक्र करते हुए महानायक ने ट्विटर पर लिखा, "August 2, 1982 .. सासें बंद होने को थीं, परंतु आप सब की प्रार्थना ने मुझे जीवित रक्खा. एक ऋण जिसे मैं कभी भी उतार नहीं सकूंगा." सेट पर हुए हादसे के बाद, 2 महीने हॉस्पिटल में रहे
अमिताभ बच्चन ने अपने करियर में कई यादगार फिल्में दी हैं, लेकिन फिल्म 'कुली' उनकी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ के लिए बेहद अहम रही, यही वो फिल्म है जिसकी शूटिंग के दौरान अमिताभ मौत के मुंह में बच कर निकल आए थे. 24 जुलाई, 1982 को फिल्म के एक सीन की बेंगलुरु में शूटिंग के दौरान एक्टर पुनीत इस्सर का घूंसा अमिताभ के मुंह पर पड़ते ही वह स्टील की टेबल पर गिरे और लुढ़कते हुए दूसरी ओर जा गिरे. सीन काफी रियल लगा, इसपर उन्हें तालियां मिली. अमिताभ भी मुस्कुराए, लेकिन तभी उनके पेट में हल्का दर्द शुरू हुआ. कुछ देर बाद अमिताभ ने बताया कि टेबल का कोना उनके पेट में बुरी तरह चुभा है.

ये भी पढ़ें:जब अनुष्‍का की 'पतली कमरिया' को देख बोले शाहरुख, 'लपालप लॉलीपॉप लागेलू...'​

जब डॉक्टर्स ने चीरा पेट तो हैरान रह गए 
अमिताभ सहित सभी को ये चोट मामूली लग रही थी, क्योंकि खून की एक बूंद भी नहीं निकली थी. शुरुआती जांच में कुछ नहीं निकला, फिर 27 जुलाई, 1982 को डॉक्टर्स ने ऑपरेशन का फैसला कर जब उनका पेट चीरा तो हैरान रह गए. अमिताभ के पेट की झिल्ली (जो पेट के अंगो को जोड़े रखती है और केमिकल्स से उन्हें बचाती है) और छोटी आंत फट चुकी थी. 28 जुलाई को ऑपरेशन के एक दिन बाद अमिताभ को निमोनिया भी हो गया. उनके शरीर में जहर फैला और खून पतला हो रहा था. ब्लड डेंसिटी को सुधारने के लिए बेंगलौर में सेल्स मौजूद नहीं थे, जिन्हें मुंबई से बुलवाए गए.

 
दवा के साथ, दुआओं का असर हुआ

फिर एयरबस के जरिए अमिताभ को 31 जुलाई की सुबह मुंबई जाया गया. उन्हें ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल के स्पेशल विजिलेंस वॉर्ड में रखा गया. 1 अगस्त उनकी तबीयत में सुधार था जबकि 2 तारीक को अचानक अमिताभ की कंडीशन फिर बिगड़ गई. शरीर में जहर फैलने की वजह से डॉक्टर्स ने दोबारा ऑपरेशन कियो, जो 3 घंटों तक चला. बिग बी की हालत काफी गंभीर थी, उन्हें दवाओं के साथ दुआओं की भी जरूरत थी. इसलिए देशभर के लोगों ने उनके लिए प्रार्थनाएं शुरू की. तमाम मंदिरों और धार्मिक स्थलों में लोग अमिताभ की सलामती की दुआ मांगने के लिए उमड़ पड़े और आखिरकार उनके स्वास्थ में सुधार आया. यही वजह है कि अमिताभ के जीवन के लिए 2 अगस्त का दिन बेहद खास है.

...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement