NDTV Khabar

लोकसभा चुनाव 2019: अगर ऐसा हुआ तो उपेंद्र कुशवाहा 'यदुवंशी के दूध और कुशवंशी के चावल' से सियासी खीर पका सकते हैं

लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर बीते कुछ समय से रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के बयानों और उनके हाव-भाव से ऐसा लग रहा है कि बीजेपी का यह फॉर्मूला उन्हें रास नहीं आने वाला है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकसभा चुनाव 2019: अगर ऐसा हुआ तो उपेंद्र कुशवाहा 'यदुवंशी के दूध और कुशवंशी के चावल' से सियासी खीर पका सकते हैं

लोकसभा चुनाव 2019 में उपेंद्र कुशवाहा को लेकर अटकलें तेज

खास बातें

  1. बीजेपी ने सुझाया सीट बंटवारे का फॉर्मूला.
  2. उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी को 2 से तीन सीटें मिलने की उम्मीद.
  3. नीतीश की पार्टी को 12+1 सीटों पर विचार.
नई दिल्ली: बिहार एनडीए में लोकसभा चुनाव 2019 से पहले ही बीजेपी, नीतीश कुमार और रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के बीच सीटों को लेकर खींचतान का दौर जारी है. हालांकि, गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी ने सीटों के बंटवारे को लेकर एक फॉर्मूला पेशकर बिहार में एनडीए के सहयोगियों के बीच सीटों की तस्वीर को साफ करने की कोशिश की. बीजेपी ने जो फॉर्मूला इजात किया है, उसके मुताबिक वह भी कॉम्प्रोमाइज की स्थिति में ही दिख रही है. कारण कि बीजेपी के फॉर्मूले के मुताबिक, बीजेपी 20 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ सकती है, जबकि बीजेपी के पास पहले से ही बिहार से बीजेपी के 22 सांसद हैं. बीजेपी का यह समझौता नाराज चल रही जनता दल यूनाइटेड के साथ गठबंधन को बनाए रखने को लेकर है. बीजेपी नीतीश कुमार की पार्टी जदयू को लोकसभा चुनाव में बिहार से 12 लोकसभा सीटें देने के फॉर्मूले पर विचार कर रही है. बीते कुछ समय से रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के बयानों और उनके हाव-भाव से ऐसा लग रहा है कि बीजेपी का यह फॉर्मूला उन्हें रास नहीं आने वाला है. क्योंकि बीजेपी के इस फॉर्मूले के मुताबिक, रालोसपा को 2 या 3 से अधिक सीटें मिलती नहीं दिख रही है. 

2019 लोकसभा चुनाव: बिहार में सीट बंटवारे का ये है BJP का नया 'फॉर्मूला', जानें किसको मिलेगी कितनी सीट

दरअसल, गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बिहार में एनडीए में सीट बंटवारे को लेकर एक फॉर्मूला सुझाया. जिसके तहत यह बात सामने आई कि बीजेपी खुद 20 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है और जदयू को 12+1 सीटें दे सकती है. जिनमें से एक सीट यूपी या बिहार में देने की बात है. गौरतलब है कि जदयू के पास अभी 2 लोकसभा सांसद हैं. वहीं राम विलास पासवान की पार्टी एलजेपी के पास फिलहाल 6 सांसद हैं और 2014 के लोकसभा चुनाव में एलजेपी ने 7 सीटों पर चुनाव लड़ा था. लेकिन इस बार बिहार में एनडीए के सीटों के बंटवारे में एलजेपी की सीटें घट सकती हैं. बताया तो यह भी जा रहा है कि बीजेपी एलजेपी को इस बार सिर्फ 5 सीटें देने पर विचार कर रही है. 

लालू यादव का दावा-मोदी सरकार 2019 से पहले विरोधी नेताओं को जेल भेजने की बना रही योजना

मगर सीटों के बंटवारे के इस फॉर्मूले को देखें तो राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के मुखिया उपेंद्र कुशवाहा को महज दो से तीन सीटें मिलती दिख रही हैं. पिछले कुछ समय से जिस तरह से बिहार में नीतीश कुमार से अधिका जनाधार होने का दावा उनकी पार्टी करती रही है और जिस तरह से उन्हें बिहार में सीएम फेस के तौर पर उनकी पार्टी आवाज मुखर करती रही है, उससे यह नहीं लगता कि उपेंद्र कुशवाहा आसानी से दो-तीन सीटों पर मान जाएंगे. दरअसल, भारतीय जनता पार्टी बिहार एनडीए को एकजुट रखने की काफी समय से कोशिश में लगी हुई है. कभी जदयू सीटों को लेकर नाराज दिखने लगती है, तो कभी उपेंद्र कुशवाहा के रंग बदले नजर आते हैं. खबर ऐसी भी है कि एनडीए में उपेंद्र कुशवाहा पांच सीटों से नीचे मानने वाले नहीं हैं. 

BJP का दावा, 2019 में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पहले से ज्यादा बहुमत से बनेगी सरकार

दरअसल, उपेंद्र कुशवाहा के लिए दोनों हाथ में लड्डू है. रालोसपा अभी एनडीए का हिस्सा है ही, वहीं लालू यादव की पार्टी राजद का दरवाजा भी उनके लिए खुला है. राजद नेता तेजस्वी यादव भी कई मौकों पर कह चुके हैं कि उपेंद्र कुशवाहा के लिए उनकी पार्टी का दरवाजा खुला है. तेजस्वी यादव बार-बार परोक्ष रूप से उपेंद्र कुशवाहा को राजद के साथ आने का न्योता भी दे चुके हैं. ऐसे कई मौके भी आए हैं, जब ऐसा लगा है कि लोकसभा चुनाव से पहले बिहार में बड़ा फेरबदल देखने को मिलेगा और पार्टियां इधर से उधर भी हो सकती हैं. बीते दिनों पटना में एक कार्यक्रम में के दौरान उपेंद्र कुशवाहा ने कहा, 'यदुवंशी का दूध, और कुशवंशी का चावल मिल जाये तो खीर बढ़िया होगी'. उसके बाद यह कायास लगाए गये कि उपेंद्र कुशवाहा का इशारा राजद के साथ जाने पर है. हालांकि, उन्होंने इस बयान पर मचे सियासी घमासान के तुरंत बाद सफाई दी कि उन्होंने सामाजिक एकता की बात की थी, इसे किसी समुदाय विशेष न जोड़ा जाए. कुशवाहा ने कहा, 'न तो आरजेडी का दूध मांगा है, न बीजेपी की चीनी. मैंने सामाजिक परिप्रेक्ष्य में ये बात कही थी, किसी पार्टी का नाम नहीं लिया था'. 

PM, शाह और 15 सीएम की बैठक: 2019 लोकसभा चुनाव से पहले BJP ने बनाई ये योजना

लेकिन राजनीति के जानकार अभी भी यह मानकर चल रहे हैं कि सीटों कें बंटवारे में अगर उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी को अपेक्षानुकूल और संतोषजनक सीटें नहीं मिलती हैं, तो निश्चित तौर पर सियासी फायदा उठाने के लिए उपेंद्र कुशवाहा  'यदुवंशी के दूध, और कुशवंशी के चावल' से सियासी खीर पका सकते हैं. जानकारों के अनुसार कुशवाहा अभी धीरे-धीरे लोकसभा चुनाव को लेकर अपनी रणनीति साफ़ कर रहे हैं. माना जा रहा है कि उपेन्द्र कुशवाहा फिलहाल मंत्री पद की वजह से भाजपा के साथ रहना चाहते हैं, लेकिन लोकसभा चुनाव से पूर्व अगर राजद के साथ सीट बंटवारे पर ठीक-ठाक बात बन जाती है तो वे एनडीए के ख़िलाफ़ गठबंधन के साथ होने में परहेज़ भी नहीं करेंगे.

बिहार में योग दिवस पर साथ-साथ दिखे पासवान-कुशवाहा, सरकारी आयोजन से नीतीश रहे नदारद

टिप्पणियां
गौरतलब है कि पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा को बिहार की 40 में से 22 सीटें मिलीं थीं, जबकि सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) और राष्‍ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) को क्रमश: छह और तीन सीटें मिलीं थीं. तब जेडीयू को केवल दो सीटें ही मिलीं थीं. वहीं, 2015 के विधानसभा चुनाव में बिहार की 243 सीटों में से जेडीयू को 71 सीटें मिलीं थीं. तब भाजपा को 53 और लोजपा एवं रालोसपा को क्रमश: दो-दो सीटें मिलीं थीं. उस चुनाव में जेडीयू, राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) तथा कांग्रेस का महागठबंधन था.

VIDEO: रणनीति इंट्रो: क्या बिहार में बन सकते हैं नए सियासी समीकरण?


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement