NDTV Khabar

कर्नाटक में गहराया राजनीतिक संकट, कांग्रेस-जद (एस) की सरकार बचाने की कवायद जारी

आर शंकर के इस्तीफे के बाद अब बागी विधायकों की संख्या 15 हो गई है. इससे पहले सोमवार को निर्दलीय विधायक एच नागेश ने भी मंत्रिपद से इस्तीफा दे दिया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कर्नाटक में गहराया राजनीतिक संकट, कांग्रेस-जद (एस) की सरकार बचाने की कवायद जारी

राजनीतिक संकट के बीच विदेश से लौटे कुमारस्वामी

नई दिल्ली:

कर्नाटक में सवा साल पुरानी एचडी कुमारस्वामी सरकार अब कितने दिन की मेहमान है पता नहीं. उसे समर्थन दे रहे 15 विधायकों ने अपने हाथ पीछे खींच लिए हैं. इनमें दस कांग्रेस के, तीन जेडीएस के और दो निर्दलीय विधायक हैं. राज्य में सत्तारूढ़ जेडीएस और कांग्रेस के पास जो विधायक अब बचे हुए हैं उन्हें ये दोनों पार्टियां गोलबंद कर ऐसी जगहों पर ले जा रही हैं जहां कोई उनसे संपर्क न साध सके. जेडीएस और कांग्रेस को डर है कि बीजेपी उसके बाकी सांसदों को भी डरा धमका कर या लालच देकर अपने पक्ष में कर सकती है. हालांकि बीजेपी ऐसे सभी आरोपों को ग़लत बता रही है. बीजेपी की मांग है कि कुमारस्वामी अब मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा दें क्योंकि उनकी सरकार अल्पमत में आ गई है.

कर्नाटक में राजनीतिक संकट हर बीतते दिन के साथ गहराता ही जा रहा है. हाल ही में मंत्री बने केपीजेपी के विधायक आर शंकर ने भी सरकार का साथ छोड़ दिया है. आर शंकर के इस्तीफे के बाद अब बागी विधायकों की संख्या 15 हो गई है. इससे पहले सोमवार को निर्दलीय विधायक एच नागेश ने भी मंत्रिपद से इस्तीफा दे दिया था. अपने इस्तीफे के ठीक बाद वह विशेष विमान से मुंबई के लिए रवाना हो गए. ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या कुमारस्वामी की सरकार अब अल्पमत में आ चुकी है. हालांकि कर्नाटक सरकार अपने पास बहुमत होने का अभी भी दावा कर रही है. 


कर्नाटक में सियासी घमासान: BJP के राज्यसभा MP से जुड़ी कंपनी का है MLAs को मुम्बई ले जाने वाला विमान

गौरतलब है कि सोमवार को पहले निर्दलीय विधायक ने नागेश ने मंत्रीपद से इस्तीफा दे दिया. इसके बाद कांग्रेस के सभी 21 मंत्रियों ने मंत्रीपद छोड़ दिया. एआईसीसी महासचिव के सी वेणुगोपाल ने कहा कि कर्नाटक में कांग्रेस के मंत्रियों ने स्वेच्छा से इस्तीफा दिया है, मंत्रिमंडल में फेरबदल को लेकर फैसला पार्टी पर छोड़ दें. कांग्रेस के बाद जेडीएस के भी सभी मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया. कर्नाटक मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से कहा गया है कि कांग्रेस की तरह जेडीएस के भी सभी मंत्रियों ने दिया इस्तीफा, नए कैबिनेट का जल्द होगा पुनर्गठन.

Karnataka : क्या बदला जाएगा मुख्यमंत्री? जाने कर्नाटक संकट से जुड़ीं 12 बड़ी बातें

वहीं कर्नाटक के मंत्री एवं निर्दलीय विधायक एच. नागेश ने सोमवार को इस्तीफा दे दिया और एच डी कुमारस्वामी नीत गठबंधन सरकार से समर्थन वापस लेकर राज्य में सत्तारूढ़ जद(एस)-कांग्रेस की सरकार को एक और झटका दिया है. हाल ही में लघु उद्योग मंत्री के तौर पर मंत्रालय में शामिल किए गए नागेश ने यहां राजभवन में राज्यपाल वजुभाई वाला से मुलाकात की और त्यागपत्र सौंपा.

क्या से क्या हो गए देखते-देखते! जब कुमारस्वामी का शपथग्रहण बना था विपक्षी एकता की मिसाल, PM मोदी को हराने का था सपना

यह कदम उन खबरों के बीच उठाया गया है जिनके मुताबिक गठबंधन सरकार के मंत्रियों से इस्तीफा देने वाले असंतुष्ट विधायकों की खातिर अपना पद छोड़ने को कहा गया है. इस्तीफे स्वीकार होने की सूरत में सत्तारूढ़ गठबंधन अपना बहुमत खोने की कगार पर पहुंच जाएगा. 

इसके अलावा कांग्रेस के एक और विधायक ने इस्तीफा देने की सोमवार को धमकी दी है. कर्नाटक के मंत्री एवं बीदर उत्तर के विधायक रहीम महमूद खान ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को अपनी समस्याओं के बारे में सूचित कर दिया है और उपमुख्यमंत्री जी. परमेश्वर के निवास पर बैठक के बाद फैसले लेने की बात कही. कांग्रेस के नौ विधायकों और जद (एस) के तीन विधायकों ने शनिवार को इस्तीफा दे दिया था. इससे सरकार पर संकट मंडरा रहा है. कांग्रेस विधायक आनंद सिंह ने एक जुलाई को इस्तीफा दिया था.

संकट में कुमारस्वामी सरकार: कांग्रेस सांसद बोले- BJP नहीं चाहती विपक्षी पार्टी किसी राज्य में चलाए सरकार, हमारे सभी मंत्री देंगे इस्तीफा

खेल एवं युवा सशक्तिकरण मंत्री खान ने बताया, मेरे विभाग को इस साल केवल 15 करोड़ रुपये का बजट मिला और यह भी बस अभी जारी किया गया है. इस राशि में से 13 करोड़ रुपये पुराने बिलों को चुकाने में लग जाएंगे. मैं शेष दो करोड़ रुपये के साथ कर्नाटक भर में विभिन्न परियोजनाओं को कैसे पूरा करुंगा? खान ने कहा कि वह बागी समूह के साथ नहीं जाना चाहते लेकिन स्थिति ने उन्हें फैसला लेने पर मजबूर किया है. 

Karnataka : क्या बदला जाएगा मुख्यमंत्री? जाने कर्नाटक संकट से जुड़ीं 12 बड़ी बातें

टिप्पणियां

जद (एस)-कांग्रेस की गठबंधन सरकार के विधानसभा में कुल 118 विधायक हैं. इनमें इस्तीफा दे चुके विधायक भी शामिल हैं. इन 118 विधायकों में से अध्यक्ष के अलावा 78 कांग्रेस के, 37 जद (एस) के, बसपा का एक और दो निर्दलीय विधायक हैं.  सदन में भाजपा के 105 विधायक हैं जहां बहुमत 113 होना चाहिए. अगर इस्तीफे स्वीकार होते हैं तो गठबंधन के सदस्यों की संख्या 105 पर आ जाएगी. अध्यक्ष का भी एक मत है.

VIDEO: कर्नाटक सरकार में मंत्री और निर्दलीय विधायक एच नागेश ने दिया इस्तीफा



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement