भूमि पूजन से पहले रामजन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट की जनता से अपील- 'हाथ जोड़कर निवेदन है, अयोध्या ना आएं'

मंदिर की जिम्मेदारी संभाल रहे राम जन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट की ओर से आम जनता से एक अपील भी की गई है. हिंदू परिषद सेंटर की ओर से ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय का वीडियो जारी किया गया है, जिसमें उन्होंने कहा कि 'आप लोगों से हाथ जोड़कर निवेदन है कि अयोध्या मत आओ.'

भूमि पूजन से पहले रामजन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट की जनता से अपील- 'हाथ जोड़कर निवेदन है, अयोध्या ना आएं'

पांच अगस्त को अयोध्या में भूमि पूजन में बस VVIPs होंगे मौजूद. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • रामजन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट ने जारी किया वीडियो
  • आम जनता से अयोध्या न आने की अपील की
  • पांच अगस्त को होना है भूमि पूजन
अयोध्या:

Ram Mandir Construction: अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण शुरू होने की चर्चा जोरों पर है. अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक, अयोध्या में पांच अगस्त को भूमि पूजन (Ayodhya Bhoomi Pujan) का आयोजन होना है, जिसके बाद मंदिर की नींव रख दी जाएगी. नींव रखने के बाद मंदिर निर्माण का काम शुरू हो जाएगा. भूमि पूजन के लिए अयोध्या में तैयारियां जोरों पर है. यह आयोजन ऐसे वक्त में हो रहा है, जब देश में कोरोनावायरस की स्थिति अब तक की सबसे खराब स्थिति में है. ऐसे में यहां बहुत ही कम लोगों के इकट्ठा होने की संभावना है. जानकारी है कि नींव की ईंट खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रखने वाले हैं.

इस आयोजन में आम जनता प्रत्यक्षदर्शी नहीं बन पाएगी. वहीं, बुधवार को मंदिर की जिम्मेदारी संभाल रहे राम जन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट की ओर से आम जनता से भूमि पूजन वाले दिन अयोध्या न आने की अपील की गई है. हिंदू परिषद सेंटर की ओर से ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय का वीडियो जारी किया गया है, जिसमें उन्होंने कहा कि 'आप लोगों से हाथ जोड़कर निवेदन है कि अयोध्या मत आओ.'

यह भी पढ़ें: अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण: अब तीन की जगह 5 शिखर होंगे, जानिए कितना अलग है नया मॉडल

चंपत राय ने कहा, '1984 में प्रारंभ हुए श्री राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण आंदोलन में लाखों-करोड़ों राम भक्तों का प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष सहयोग प्राप्त हुआ है. उन सभी की यह स्वाभाविक इच्छा होगी कि वे इस भूमि पूजन के पवित्र ऐतिहासिक अवसर पर प्रत्यक्ष उपस्थित रहें. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र की भी ऐसी ही भावना थी, हमने ऐसा सोचा भी था. किंतु वर्तमान कोरोना महामारी के कारण उत्पन्न परिस्थिति में ऐसा करना असंभव है ,किंतु माननीय प्रधानमंत्री इस ऐतिहासिक प्रसंग पर अयोध्या आकर श्री राम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण कार्य तीव्र गति से प्रारंभ करा दें, इसलिए भूमि पूजन आवश्यक है.'

उन्होंने आगे कहा, 'श्री राम जन्मभूमि तीर्थ समिति सभी राम भक्तों से निवेदन करती है कि अयोध्या पहुंचने के लिए व्यग्र न हो , सभी लोग अपने स्थान से दूरदर्शन पर समारोह का सजीव प्रसारण देखें और सायंकाल अपने घर पर दीपक जलाकर दिव्य भव्य अवसर का स्वागत करें. भविष्य में किसी उचित अवसर पर राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण यज्ञ में सभी राम भक्तों को सम्मिलित होने का अवसर  मिले, यह प्रयास अवश्य होगा.'

यह भी पढ़ें: PM मोदी समेत 50 VIP, बड़ी स्क्रीन : राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए चल रही भव्य तैयारी

क्या है तैयारियां?

बता दें कि इस कार्यक्रम बस वीआईपी लोगों को बुलाने की योजना है. सूत्रों के अनुसार, बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी जैसे बुजुर्ग नेताओं को कार्यक्रम में बुलाया जाएगा. इसके अलावा, राम मंदिर आंदोलन में सक्रिय रहीं उमा भारती, विनय कटियार, साध्वी ऋतंभरा आदि को भी आमंत्रित किया जाएगा. विश्व हिंदू परिषद (VHP) की ओर से आलोक कुमार और मिलिंद परांदे कार्यक्रम में रहेंगे. संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत व अन्य वरिष्ठ नेता रहेंगे. 

गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को भी न्योता दिया जाएगा. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन होगा. अयोध्या के पांच से छह क्षेत्रों में बड़े स्क्रीन लगाए जाएंगे ताकि श्रद्धालु भी भूमि पूजन कार्यक्रम को देख सकें. 

Video: अयोध्या भूमि पूजन: BJP नेता ने शेयर की चांदी की ईंट की तस्वीर

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com