NDTV Khabar

अमरिंदर को जो फैसला लेना हो ले लें, मैं अपने विभाग की रिपोर्ट जारी करूंगा : नवजोत सिंह सिद्धू

पंजाब में सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के आरोपों और विभाग बदलने के ऐलान पर शहरी विकास मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने दी सफाई

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमरिंदर को जो फैसला लेना हो ले लें, मैं अपने विभाग की रिपोर्ट जारी करूंगा : नवजोत सिंह सिद्धू

पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह के आरोपों पर शहरी विकास मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने गुरुवार को सफाई दी.

खास बातें

  1. सिद्धू के खिलाफ पार्टी आलाकमान से संपर्क साधेंगे अमरिंदर
  2. स्थानीय निकाय विभाग को कुशलतापूर्वक नहीं संभालने का आरोप
  3. सिद्धू ने कहा कि उन्हें गालियां दी जा रही हैं, लेकिन वे चुप रहेंगे
नई दिल्ली:

पंजाब (Punjab) के शहरी विकास मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) के बीच विवाद गहराता जा रहा है. कैप्टन ने जहां सिद्धू से उनका विभाग छीनने का ऐलान कर दिया है वहीं आज सिद्धू ने अपने कामकाज को लेकर सफाई दी और साथ में कैप्टन अमरिंदर सिंह पर निशाना भी साधा. उन्होंने कहा कि उनको पार्टी (Congress) के लोगों से गालियां दिलाई जा रही हैं लेकिन वे इस पर भी चुप हैं. सिद्धू ने शहरी विकास मंत्रालय के कामकाज का ब्यौरा दिया और कहा कि सीएम जो भी फैसला लें, उनकी मर्जी, वे अपने विभाग की रिपोर्ट जारी करेंगे.    

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) द्वारा हाल ही में दिए गए वक्तव्य कि वे अपने मंत्रिमंडल सहयोगी नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) का विभाग बदलना चाहते हैं क्योंकि वह स्थानीय निकाय विभाग को कुशलतापूर्वक नहीं संभाल पा रहे हैं, पर नवजोत सिंह सिद्धू ने आज सफाई दी. उन्होंने चंडीगढ़ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सीएम अमरिंदर सिंह के आरोपों पर सफाई दी. सिद्धू ने कहा कि उनके खिलाफ माहौल बनाया जा रहा है.


सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने कहा कि 'मुझ पर जो विभाग के आरोप लगाए गए उनका जवाब दे रहा हूं. उन्होंने कहा कि सीएम साहब (Amarinder Singh) ने आरोप लगाए मुझसे किसी ने नहीं पूछा कि वे क्या करते हैं.' सिद्धू ने कहा कि उनके विभाग के पास कुछ नहीं था, सिर्फ सीएलयू साइन किए गए हैं लेकिन पूर्व के दो वर्षों में समय की पाबंदी के साथ काम शुरू हुए हैं. पाइन वाला पानी हो या स्मार्ट सिटी, उसमें अमृत स्कीम के तहत  कोई राशि नहीं दी गई. इसमें आधी राशि राज्य व आधी राशि केंद्र देता है. पैसा नहीं मिलने के कारण काम नहीं हुआ. 'मैने उस पर काम शुरू करवाए. हर क्षेत्र में मैंने अपने विभाग के काम शुरू करवाए. सीवरेज, पानी, फायर ब्रिगेड, विज्ञापन, सब पर काम शुरू हुआ. विज्ञापन में 64 शहर 18 करोड़ कमाते थे, लेकिन  अब केवल लुधियाना ही करीब 34 करोड़ रुपये की कमाई दे रहा है.' उन्होंने कहा कि 'जब मैं आया था उसमें एक एसटीपी नहीं चलता था, लेकिन मैंने शुरू करवाए. तीन हजार करोड़ रुपये सीएम से लेकर काम शुरू करवाए.'

नवजोत सिंह सिद्धू ने फिर शायराने अंदाज में किया ट्वीट, लिखा- हमें मुजरिम ना यूं समझना, बड़ा अफसोस...

सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने कहा कि यह सब विजन की वजह से हुआ है. इसमें पंजाब के तमाम बफे शहर शामिल हैं. उन्होंने कहा कि 'आज हमारे पास सरप्लस फंड है.' उन्होंने कहा कि 'जब नाजायज इमारतों पर कार्रवाई करने गया तो मेरा विरोध किया, मैं फिर भी नहीं बोला. मेरा एक भी काम ऐसा नहीं है जिसमें ट्रांसपेरेंसी न हो. वे (Amarinder Singh) जो भी फैसला लें उनकी मर्जी, मैं अपने विभाग की रिपोर्ट जारी करूंगा. नहरों का जो पानी शहरों को देने जा रहे हैं, वह कहां से हो रहा है? मैंने पूरा योगदान दिया है, पर उंगली किसी पर नहीं उठाई.'

सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने कहा कि 'मैंने आज तक कांग्रेस के किसी वर्कर के खिलाफ नहीं बोला, जबकि उनसे मुझे गालियां दिलाई जाती हैं. मैनें बठिंडा में स्टेज पर जो कहा उसमें किसी का नाम नहीं लिया, सिर्फ इतना कहा कि कांग्रेस की पीठ पर जो छुरा मार रहा है, उसको ठोक दो. बस यही कहा, मैं अपनी बात से नहीं मुकरता.

बठिंडा में 40 वर्ष में देखें तो सबसे कम वोट से हम हर हैं. वहां से कैप्टन (Amarinder Singh) के बेटे भी हारे हैं. मैंने कैप्टन के खिलाफ कभी कुछ नहीं कहा. पहले मैं 55 सीटों पर गया जिसमें 53 जीतीं लेकिन कोई नहीं बोला. सीएम साहब ने यह कहा था कि जो मंत्री अपने क्षेत्र से हारेंगे उन पर कार्रवाई होगी.'

चुनाव परिणाम आने के बाद पहली बार सिद्धू ने ट्वीट, कहा- 'अभी इश्क के इम्तेहान और भी हैं...'

सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने कहा कि 'मुझे कई बार गालियां दी गईं लेकिन मैंने कभी कुछ नहीं कहा क्योंकि सत्ता विपक्षियों के खिलाफ बोलने की होती है.'

उन्होंने कहा कि 'जो मंत्री मेरा विरोध करते हैं उनके खिलाफ कुछ नही कहूंगा. सभी मेरे भाई हैं.
 मैंने टीवी पर 20 वर्ष काम किया. आज पंजाब के लिए खड़ा हूं. डिपार्टमेंट अगर बदल जाता है तो यह कैप्टन (Amarinder Singh) का फैसला होगा.' मोदी की शपथ पर सिद्धू ने कहा कि जो जनता का फैसला है उस पर हमें अभिवादन करना होता है.

गौरतलब है कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने हाल ही में कहा था कि चुनाव के दौरान धर्मग्रंथों की बेअदबी पर सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) की टिप्पणी को लेकर वह कांग्रेस आलाकमान से संपर्क करेंगे. चुनाव से एक दिन पहले सिद्धू ने 2015 में धार्मिक ग्रंथों की बेअदबी की जांच पर सवाल उठाए थे. मुख्यमंत्री ने कहा था कि सिद्धू के बयान से बठिंडा में पार्टी के प्रदर्शन पर असर पड़ा होगा और चुनाव परिणामों के बाद वह पार्टी आलाकमान से संपर्क करेंगे.    

अमेठी से राहुल गांधी हारे, तो लोगों ने नवजोत सिंह सिद्धू से पूछा- राजनीति से संन्यास कब ले रहे हो

कैप्टन (Amarinder Singh) ने एक बयान में कहा था, ‘मैं सिद्धू का विभाग बदलना चाहता हूं क्योंकि वह अपने विभाग को कुशलतापूर्वक नहीं संभाल पा रहे हैं.'' मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब के शहरी इलाकों में कांग्रेस का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा और सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) शहरी विकास मंत्री हैं. उन्होंने कहा कि उन्होंने विवादास्पद बयान देकर गलती की है. मुख्यमंत्री ने कहा कि मंत्री इस बात को नहीं समझ पाए कि धार्मिक ग्रंथों की बेअदबी के मुद्दे की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया था.    

VIDEO : अमरिंदर करेंगे सिद्धू की शिकायत

टिप्पणियां

अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने यह भी कहा था कि सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) की पाकिस्तान के सेना प्रमुख से ‘यारी और झप्पी' को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और खासकर सेना इसे बर्दाश्त नहीं करेगी जिसे आईएसआई समर्थक आतंकवादी निशाना बनाते हैं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement