NDTV Khabar

Election 2019: आंकड़ों में पीएम मोदी और राहुल गांधी की चुनावी रैलियों की पड़ताल, आखिर क्यों इन्हीं राज्यों पर रहा फोकस...

Election 2019: पीएम मोदी (PM Modi) की करें तो उन्होंने अपने चुनाव प्रचार के दौरान कुल 144 रैलियां और रोड शो किए. उत्तर प्रदेश को पीएम मोदी और बीजेपी ने चुनाव प्रचार के दौरान सबसे ज्यादा प्राथमिकता दी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. राहुल गांधी ने दक्षिण के राज्यों पर भी किया फोकस
  2. पीएम मोदी ने यूपी और पश्चिम बंगाल में लगाया दम
  3. कांग्रेस को मध्य प्रदेश से भी हैं उम्मीदें
नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव (Election 2019) के सातवें चरण के मतदान के लिए प्रचार खत्म हो चुका है. एनडीटीवी ने बीते सात चरणों में पीएम मोदी (PM Modi) और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के प्रचार अभियान पर नजर डाली है. औऱ आंकड़ों के मुताबिक यह जानने की कोशिश की है कि आखिर पीएम मोदी (PM Modi) और राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के प्रचार से चुनाव नतीजों से पहले क्या संकेत मिलते हैं. एनडीटीवी ने इस दौरान कुछ अहम बातों पर ध्यान दिया है जैसे की दोनों नेताओं ने किन सीट का चयन किया, कौन सा राज्य इस बार उनके लिए प्राथमिकता में था और इन फैसलों के पीछे का तर्क क्या था. 

बुद्ध पूर्णिमा पर पूजा-अर्चना के लिए पीएम मोदी पहुंचे केदारनाथ, कल बद्रीनाथ के लिए होंगे रवाना


बात अगर पीएम मोदी (PM Modi) की करें तो उन्होंने अपने चुनाव प्रचार के दौरान कुल 144 रैलियां और रोड शो किए. उत्तर प्रदेश को पीएम मोदी और बीजेपी ने चुनाव प्रचार के दौरान सबसे ज्यादा प्राथमिकता दी. बता दें कि पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी को उत्तर प्रदेश से 80 में से 73 सीटें मिली थी. इस बार पीएम मोदी ने उत्तर प्रदेश में 36 रैलियां और रोड शो किया है. यानी पीएम मोदी ने उत्तर प्रदेश में 2.5 सीट पर एक रैली की है. 

प्रियंका गांधी ने BJP पर साधा निशाना, कहा- हमने चुनाव को रोजगार, खेती और कमाई के मुद्दों से भटकने नहीं दिया

उत्तर प्रदेश के बाद पीएम मोदी (PM Modi) का सबसे ज्यादा फोकस पश्चिम बंगाल पर रहा. जहां बीजेपी और टीएमसी के बीच बीते कुछ समय से खींचतान जारी है. मौजूदा समय में पश्चिम बंगाल में बीजेपी के पास दो सीटें हैं और वो टीएमसी को बड़ा नुकसान पहुंचाने की कोशिशों में जुटी है. पीएम मोदी ने यहां की 42 सीटों के लिए 17 रैलियां की हैं यानी 2.5 सीट के लिए एक रैली. 

पश्चिम बंगाल के बाद पीएम मोदी ने सबसे ज्यादा रैली ओडिशा  में की है. बता दें कि ओडिशा की कुल 21 सीटों से में बीजेपी के नाम सिर्फ एक सीट है जबकि अन्य 20 सीटों पर बीजू जनता पार्टी के नाम है. पीएम मोदी ने इस बार ओड़िशा में आठ रैलियां की हैं. यानी 2.6 सीट पर के लिए एक रैली.

आखिरी रैली में एक बात का नहीं किया जिक्र, PM मोदी के प्रचार अभियान 10 बड़ी बातें

इस लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी द्वारा किए गए प्रचार का 40 फीसदी प्रचार यूपी, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में किया गया है. पीएम ने इन तीनों राज्यों में कुल 58 रैलियां की हैं. पीएम मोदी ने इस बार के लोकसभा चुनाव में कुल 144 रैलियां की हैं. इन तीनों राज्यों की कुल सीटें मिलाकर 143 होती हैं जो इस बार सत्ता में आने के लिए अहम भूमिका निभा सकता हैं. 

bma7j93o

पीएम मोदी की तुलना में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस लोकसभा चुनाव में कुल 125 रैलियां की हैं. राहुल गांधी ने अपने चुनाव प्रचार के दौरान मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश और केरल पर फोकस किया है. उत्तर प्रदेश की बात करें तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राज्य की 80 सीटों को ध्यान में रखते हुए कुल 18 रैलियां की हैं. यानी हर 4.5 सीट के लिए एक रैली. उत्तर प्रदेश और खासकर पूर्वी उत्तर प्रदेश न सिर्फ राहुल गांधी के लिए बल्कि उनकी बहन प्रियंका गांधी के लिए भी एक साख की लड़ाई की तरह है. बता दें कि प्रियंका गांधी की सक्रिय राजीति में इंट्री के बाद ही पार्टी ने उन्हें महासचिव बनाने के साथ-साथ पूर्वी यूपी का प्रभारी भी बनाया था. पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में महज दो सीटें अमेठी और रायबरेली के रूप में जीती थीं. ये दोनों ही सीटें कांग्रेस के नाम ही रही हैं. 

Election 2019: शोले फिल्म में असरानी के किरदार की तरह हैं मोदी- प्रियंका गांधी

उत्तर प्रदेश के बाद कांग्रेस अध्यक्ष के लिए राजस्थान दूसरा ऐसा राज्य था जहां उन्हें सबसे ज्यादा प्रचार किया. राजस्थान की 25 सीटों के लिए राहुल गांधी ने कुल 12 रैलियां की. यानी 2.08 सीट के लिए के रैली. बता दें कि राजस्थान में कांग्रेस के नाम सिर्फ एक सीट है. जबकि अन्य सीटें बीजेपी के नाम हैं. 

राहुल गांधी ने उत्तर भारत के साथ-साथ दक्षिण भारत पर भी इस बार खासा फोकस किया है. यही वजह है कि उन्होंने इस बार अमेठी के साथ-साथ वायनाड से भी नामांकन किया है. अपने दक्षिण भारत के प्रचार के तहत राहुल गांधी ने केरल की 20 सीटों के लिए 12 रैलियां की हैं. यानी राहुल गांधी ने केरल की 1.66 सीट के लिए एक रैली की. बता दें कि केरल में कांग्रेस के पास कुल सात सीटें हैं. कांग्रेस को उम्मीद है कि वह केरल में इस बार ज्यादा सीटें जीतकर अन्य राज्यों में होने वाले नुकसान की भरपाई करेगी. 

टिप्पणियां

राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर किया हमला, सरकार के गठन को लेकर खामोशी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस लोकसभा चुनाव में कुल 125 रैलियां की हैं. राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश, राजस्थान, राजस्थान और केरल में कुल 52 रैलियां की हैं. कांग्रेस मध्य प्रदेश को लेकर खासी उत्साहित दिख रही है. याद हो कि यहां कांग्रेस ने 2018 में हुए विधानसभा चुनाव के बाद यहां सरकार बनाई थी. कांग्रेस ने इस लोकसभा चुनाव में एमपी में कुल 10 रैलियां की हैं. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement