लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, पार्टी के प्रवक्ता टॉम वडक्कन बीजेपी में हुए शामिल

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. पार्टी के वरिष्ठ नेता और केरल में पार्टी के प्रवक्ता रहे टॉम वडक्कन (Tom Vadakkan ) बीजेपी में शामिल हो गए.

खास बातें

  • लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को लगा झटका
  • पार्टी के वरिष्ठ नेता और प्रवक्ता टॉम वडक्कन बीजेपी में शामिल
  • कहा- पुलवामा के बाद सेना को लेकर पार्टी के रवैये से दुखी थे
नई दिल्ली :

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. पार्टी के वरिष्ठ नेता और केरल में पार्टी के प्रवक्ता रहे टॉम वडक्कन (Tom Vadakkan)  बीजेपी में शामिल हो गए. उन्होंने कहा कि मेरे पास कोई विकल्प नहीं था. पार्टी में कौन पावर सेंटर है, यह पता ही नहीं चल पा रहा था. टॉम वडक्कन (Tom Vadakkan) ने कहा कि पुलवामा हमले के बाद सेना को लेकर कांग्रेस के स्टैंड से वे काफी दुखी थे और भारी मन से पार्टी छोड़ने का फैसला लिया. उन्होंने कहा कि देशप्रेम से समझौता नहीं किया जा सकता है. वडक्कन ने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि कांग्रेस में यूज एंड थ्रो कल्चर है और मुझे यह स्वीकार्य नहीं है. मैंने अपने जीवन के 20 साल कांग्रेस को दिये, लेकिन पार्टी में वंशवाद हावी होता जा रहा है. 

आपको बता दें कि टॉम वडक्कन ((Tom Vadakkan) ) को सोनिया गांधी का काफी करीबी माना जाता है. दिल्ली में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद की मौजूदगी में बीजेपी ज्वाइन करने वाले टॉम वडक्कन (Tom Vadakkan) ने कहा कि वे कांग्रेस की वंशवाद राजनीति से परेशान हो गए थे और इससे आजिज आकर ही पार्टी छोड़ने का निर्णय लिया.  आपको बता दें कि दो दिन पहले ही महाराष्ट्र में कांग्रेस (Congress) को बड़ा झटका लगा था. कांग्रेस नेता सुजय विखे पाटिल मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल हो गए.  सुजय महाराष्ट्र विधानसभा में नेता विपक्ष राधाकृष्ण विखे पाटिल के बेटे हैं और पेशे से न्यूरोसर्जन हैं. बताया जा रहा है कि वह अहमदनगर सीट से चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन कांग्रेस ने उन्हें वहां से उम्मीदवार नहीं बनाया. 

महाराष्ट्र में कांग्रेस को बड़ा झटका: नेता विपक्ष राधाकृष्ण विखे पाटिल के बेटे सुजय ने ज्वाइन की BJP 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के अलावा गुजरात में भी कांग्रेस से नाराज विधायक लगातार पार्टी का साथ छोड़ रहे हैं. पिछले एक सप्ताह के अंदर पार्टी के तीन विधायकों ने अलविदा कह दिया. जामनगर (ग्रामीण) विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले वल्लभ धाराविया ने सोमवार को गांधीनगर में विधानसभा अध्यक्ष राजेंद्र त्रिवेदी को अपना इस्तीफा सौंप दिया था. तो वहीं, इससे पहले माणवदर से चार बार के विधायक जवाहर चावड़ा और धरंगधरा के विधायक परषोत्तम सपारिया ने पार्टी छोड़ दी थी.

VIDEO: लोकसभा चुनाव का हुआ शंखनाद